Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बिहार में कोरोना पॉजिटिव स्वास्थ्यकर्मियों को अब होटलों में मिलेगी आइसोलेशन सुविधा, सरकार करेगी भुगतान

बिहार में सरकारी डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों (फ्रंटलाइन वर्कर सहित) के कोरोना संक्रमित होने और संदिग्ध होने पर होम क्वारंटाइन की जगह होटल में आइसोलेशन बनाकर रखा जाएगा। जिसके के लिए राज्य सरकार भुगतान करेगी। साथ ही संक्रमित स्वास्थ्यकर्मियों को मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती किये जाने को प्राथमिकता दी जाएगी।

Coronavirus: कोरोना वैक्सीन को लेकर ऑक्सफोर्ड ने दी खुशखबरी, ह्यूमन ट्रायल के सफल होने का किया दावा
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव उदय सिंह कुमावत ने सभी जिलों के जिलाधिकारी और सिविल सर्जन व सभी मेडिकल कॉलेज अस्पतालों के अधीक्षक को निर्देश दिया कि वे डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों के होम आइसोलेशन के लिए पर्याप्त सुविधा नहीं होने पर होटल में आईसोलेशन की व्यवस्था करें।

प्रधान सचिव के जारी निर्देश के अनुसार 'पेड आईसोलेशन' के लिए विभाग ने अधिकतम भुगतान का दर निर्धारित कर दिया है। निर्देश के अनुसार पटना जिला के होटल के एक कमरे के लिए भोजन सहित अधिकतम 4000 रुपये, प्रमंडलीय मुख्यालय के शहरों के होटल के एक कमरे के लिए भोजन सहित अधिकतम 3000 रुपये व शेष अन्य शहरों के होटल के एक कमरे के लिए भोजन सहित अधिकतम 2500 रुपये का भुगतान किया जाएगा। प्रधान सचिव ने निर्देश दिया कि डीएम अपने स्तर से इससे कम दर में भी कमरे आरक्षित कर सकते हैं। यह भुगतान होटल में कमरा आरक्षित होने की तिथि से देय होगा। प्रधान सचिव ने निर्देश दिया कि इसके साथ ही संक्रमित डॉक्टरों व स्वास्थ्यकर्मियों में किसी प्रकार का लक्षण आने पर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में उन्हें भर्ती किये जाने को प्राथमिकता दी जाएगी।

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव उदय सिंह कुमावत ने बताया कि स्वास्थ्यकर्मियों के किराए के घरों में रहने और पर्याप्त जगह नहीं होने की वजह से कोरोना पॉजिटिव होने के बाद होम आईसोलेशन में रहना मुश्किल होता है, इसलिए यह निर्णय लिया गया है।

Next Story