Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ऑक्सीजन की कमी के चलते कोरोना मरीजों की मौत का आंकड़ा बढ़ा, सभी निजी अस्पतालों ने खड़े कर दिए हाथ

बिहार में भी दूसरे राज्यों की तरह कोरोना वायरस कहर बरपा रहा है। वहीं प्रदेश में प्रतिदिन कोरोना की वजह से कई लोगों की मौत हो रही है। इस बीच खबर आ रही है कि पटना के दानापुर के इलाके लगभग सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी का संकट आकर खड़ा हो गया है।

Oxygen Crisis: दिल्ली के इस अस्पताल में बची 100 मरीजों की जान, पुसिल और कर्मचारियों ने ऐसे की मदद
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

देश के अन्य राज्यों की तरह बिहार (Bihar) में भी कोरोना संक्रमण (Coronavirus) का खतरा गहराता जा रहा है। बिहार में हर दिन कोरोना संक्रमित मरीजों (Corona infected patients) की संख्या बढ़ रही है। कोरोना के चलते कई मरीज रोजाना अपनी जान भी गवा रहे हैं। दूसरी ओर बिहार सरकार (Government of Bihar) और कोरोना वॉरियर्स (Corona warriors) कोरोना वायरस के प्रसार की रोकथाम में दिनरात जुटे हुए हैं। इस बीच चिंतित कर देने वाली खबर सामने आई है कि ऑक्सीजन की कमी (oxygen shortage) की वजह से एक हाइटेक अस्पताल में एक कोरोना पॉजिटिव मरीज ने दम तोड़ दिया है। बताया जा रहा है कि ऑक्सीजन की कमी की वजह से प्राइवेट अस्पतालों ने अपने यहां भर्ती मरीजों को किसी दूसरी जगह जाने को लेकर चेतावनी भी दे दी है। पटना के दानापुर (Danapur) स्थित करीब-करीब सभी निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen cylinder) खाली हो गए हैं। इन हालातों में प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। इस कारण प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत का आंकड़ा भी बढ़ गया है।

जानकारी के अनुसार दानापुर के सगुना मोड़ पर मौजूद हाइटेक और समय अस्पताल के साथ-साथ सभी प्राइवेट अस्पतालों ने कोरोना मरीजों को अपने यहां से निकाल जाने की चेतावनी दे दी है। इन अस्पतालों ने सुबह को अपनी व्यावस्था करने लेने के लिए कह दिया है। इसके बाद से ही निजी अस्पतालों में हड़कंप कायम हो गया है। ये स्थितियां ऑक्सीजन समाप्त होने की वजह से सामने आई हैं। इन अस्पतालों में सुबह तक किसी तरह से ऑक्सीजन चलेगी। उसके बाद स्थितियों और बिगड़ जाएंगी। इस मामले से मरीजों को आगाह कर दिया गया है। जिससे कि वो अन्य अस्पतालों में शिफ्ट हो जाएं। इसकी वजह से मरीज के परिजन भी परेशान हो गए हैं।

मामले का निपटारे कर दिए जाने का भरोसा दिया गया

आपको बता दें कोविड-19 मरीजों के लिए ऑक्सीजन सबसे अहम होती है। वेंटिलेटर की भी खास जरूरत होती है। इन अस्पतालों में वेंटिलेटर की भी कमी भी हो गई है। सबसे बड़ी चिंता ये है कि ऑक्सीजन की कमी की वजह से मरीजों को अन्य अस्पतालों में शिफ्ट किया जा रहा है। ये हालात दानापुर के ज्यादातर अस्पतालों में देखे जा रहे हैं। यह भी बताया जा रहा है कि पूरे पटना में इस तरह की स्थितियां उत्पन्न हो गई हैं। पटना डीएम ने स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव और इंडस्ट्रियल विभाग के प्रधान सचिव के साथ इस मसले को लेकर बैठक भी की है। जहां मामले का निपटारा कर दिए जाने की बातें कही गई है।

Next Story