Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सोनिया गांधी और मायावती को भारत रत्न देने की उठी मांग पर सीएम नीतीश का तंज, बोले...

सोनिया गांधी व मायावती को भारत रत्न दिये की मांग उठने पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि सभी लोगों के पास अपनी डिमांड को रखने का अधिकार है। लेकिन ये मांग देरी से उठाई गई है।

cm nitish kumar gave his opinion on demand bharat ratna for sonia gandhi and mayawati
X

सीएम नीतीश कुमार ने मायावती और सोनिया गांधी को लेकर बोली ये बात।

बसपा प्रमुख मायावती और कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को भारत रत्न दिए जाने की मांग उठाई गई है। जिस पर पटना आज मीडिया कर्मियों से बातचीत करते हुये बिहार सीएम नीतीश कुमार ने इस मामले पर अपनी ओर से गोलमोल जवाब दिया।

नीतीश कुमार ने कहा कि देश में सभी लोगों को अपनी मांगों को सामने रखने का अधिकार है। साथ ही नीतीश कुमार ने कहा कि मायावती और सोनिया गांधी के पास तो पहले से सरकार थी। वहीं इनको भारत रत्न दिये जाने की मांग आज उठाई जा रही है। नीतीश कुमार का इशारा इस बात की ओर था, यदि सोनिया गांधी और मायावती को भारत रत्न दिये जाने की मांग पहले ही उठा ली जाती तो इन्हें भारत रत्न पहले ही मिल गया होता।

याद रहे, बीते दिन उत्तराखंड के पूर्व सीएम एवं कांग्रेस महासचिव हरीश रावत ने ट्वीट कर सोनिया गांधी व मायावती को भारत रत्न दिये जाने की मांग उठाई थी। हरीश रावत का तर्क था कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को आज आज भारत की नारीत्व का गौरवशाली स्वरूप माना जाता है। वहीं हरीश रावत ने मायावती के बारे बताया कि उन्हें शोषित-पीड़ित लोगों के मन में एक अद्भूत विश्वास का संचार करने के लिये वर्षों से जाना जाता है। इसलिये इन दोनों को इनके योगदानों के लिये भारत रत्न प्रदान किया जाना चाहिये। हरीश रावत द्वारा इस मामले को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी को भी टैग करते हुये लिखा गया था कि बहन मायावती और सोनिया गांधी दोनों पैनी राजनैतिक व्यक्तित्व हैं। इन दोनों के बारे में आपके नीजि विचार कुछ भी हो सकते हैं। लेकिन इस बात को नकारा नहीं जा सकता है कि ये दोनों महिलाओं ने जनसेवा के मांदंडों, सामाजिक समर्पण और भारतीय महिला की गरिमा को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया है। इसलिये इन दोनों महिलाओं को भारत सरकार से भारत रत्न सम्मान मिलना चाहिये। वहीं बीएसपी की ओर से हरीश रावत के इस बयान को केवल मुर्ख बनाने वाली रणनीति करार दिया गया।

Next Story