Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बक्सर गंगा नदी में तैर रही लाशों का क्या है राज? जानें डीएम ने प्रेस वार्ता के दौरान किया खुलासा

बिहार के बक्सर जिले के चौसा में बीते दिन गंगा नदी में विभिन्न लाशें तैरती हुई नजर आई थीं। जिसके बाद लोगों के बीच डर का माहौल उत्पन्न हो गया। बक्सर डीएम अमन समीर ने मंगलवार को इस मामले पर प्रेस वार्ता की है। साथ ही डीएम ने मामले को लेकर अफवाह नहीं फैलाए जाने की अपील की है।

buxar DM talks on chausa corona positive death body case buxar dead body in ganga news
X

चौसा (भयावह तस्वीर)

बिहार (Bihar) के बक्सर (Buxar) जिले के चौसा शहर में बीते सोमवार को गंगा (Ganga) नदी किनारे पर 30 से 40 लाशें तैरती हुई (Corpses floating) होने की खबर आई थी। मामले के सामने आते ही शहर वासियों और आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के बीच डर व्याप्त हो गया था। मामले को लेकर चौसा से लेकर बक्सर जिला प्रशासन के आला अधिकारियों के बीच हड़कंप मच गया था।

इस मामले को लेकर मंगलवार को बक्सर के डीएम अमन समीर ने (Buxar DM Aman Sameer) प्रेस वार्ता की। चौसा (Chausa) में महादेवा घाट के आसपास गंगा किनारे मिले 30 से ज्यादा शवों को लेकर वार्ता के दौरान डीएम अमन समीर ने किसी भी तरह की अफवाह ना फैलाने की अपील की है। साथ ही डीएम ने बताया कि मामले पर प्रशासन का पक्ष आना जरूरी है। डीएम ने बताया कि इस घटना की जांच के लिए अनुमंडल पदाधिकारी बक्सर एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी को भेजा गया था। जांच में यह बात सामने आई है कि गंगा नदी में मिली ये लाशें तीन से चार दिन पुरानी हैं। इससे स्पष्ट होता है कि ये लाशें बक्सर जिले की नहीं हैं। एसडीएम बक्सर ने बताया कि ग्रामीणों ने भी प्रेस वार्ता के दौरान ये जानकारी दी कि ये शव स्थानीय नहीं है। बल्कि बीते एक से दो दिनों के अंदर गंगा नदी में दूसरी जगहों से बहकर आ रही हैं। साफ पता चलता है कि ये शव गंगा नदी में सीमावर्ती राज्य से बहकर आई है।

एसडीएम ने बताया कि इस मामले को लेकर जिला पदाधिकारी द्वारा सीमावर्ती जिलों के जिला पदाधिकारीगणों से वार्ता भी गई है। इसके अलावा भविष्य में इस तरह की घटना को रोकने के लिए कड़ी चौकसी बरतने के लिये नौका पर पेट्रोलिंग करवाने का आदेश भी देने की बात कही गई है। सरकार के दिशा-निर्देश के अनुरूप बक्सर जिले में कोविड-19 संक्रमण से संक्रमित शवों की अंत्येष्टि के लिए सरकार के द्वारा फ्री व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। जिला पदाधिकारी ने बताया कि सामान्य मृतक व्यक्तियों के शवों को अंत्येष्टि के लिए लकड़ी निर्धारित मूल्य पर प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है।

Next Story