Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बस से बिहार जा रहे दो भाईयों ने ड्राइवर से लगाई छाेटी सी गुहार तो नशे में धुत्त ड्राइवर ने दोनों को बंधक बनाकर पीटा

दिल्ली से बिहार (Bihar) के लिए चलने वाली कृष्णा रथ बस सर्विस (Krishna Rath Bus Service) के ड्राइवर ने शराब के नशे में दिल्ली (Delhi) से बिहार जा रहे दो छात्रों को खूब पीटा। बताया जा रहा है कि कृष्णा रथ बस सर्विस की गाड़ी दिल्ली से बिहार जा रही थी।

बिहार तक दो भाइयों को शराब के नशे में ड्राइवर ने जमकर पीटा, फिर बनाया बंधक, बस मामूली सी थी बात
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

दिल्ली से बिहार (Bihar) के लिए चलने वाली बस सर्विस (Krishna Rath Bus Service) के नशे में धुत्त ड्राइवर ने दिल्ली (Delhi) से बिहार जा रहे दो छात्रों को खूब पीटा। बताया जा रहा है कि कृष्णा रथ बस सर्विस की गाड़ी दिल्ली से बिहार जा रही थी। सफर लंबा होने के कारण जब दोनों छात्रों को पानी की प्यास लगी तो उन्होंने चालक से बस रोकने के लिए कहा, लेकिन चालक (Driver) ने बस रोकने के लिए मना कर दिया। इसके कुछ देर बाद छात्रों ने फिर बस रोकने का अनुरोध किया। जिसपर चालक ने दोनों को पीटना शुरू कर दिया। चालक यहीं नहीं रूका उसके बाद उसने एक ढाबे पर शराब पी जिसके बाद दोनों को फिर से पीटा। आपको बता दें कि दोनों छात्र आपस में सगे भाई हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दोनों भाई सुपौल जा रहे थे। वहीं दोनों मधेपुरा के रहने वाले हैं। दोनों छात्रों के नाम चंदन कुमार और कुंदन कुमार हैं। बता दें कि आरोपी ड्राइवर दोनों को इसके बाद कृष्णा रथ बस के दफ्तर में ले आया, जहां दोनों को बंधक बना लिया गया। दिल्ली के मुखर्जी नगर में रहकर यूपीएससी की तैयारी करने वाले दोनों भाई मधेपुरा जिले के सिंघेश्वर प्रखंड के रहने वाले हैं। इधर, छात्रों के बंधक बनाने की खबर मिलते ही आननफानन में जक्कनपुर के थानेदार मुकेश वर्मा मौके पर पहुंचे और उन्हें वहां से छुड़ा लिया। इसके साथ ही पुलिस ने मारपीट करने वाले आरोपित चालक को गिरफ्तार कर लिया।

15 हजार रुपये मांग का आरोप

चालक पटना पहुंचने के बाद अंजाम भुगतने की धमकी दे रहा था। इससे सहमे चंदन और कुंदन पटना बस स्टैंड पर पहुंचने से पहले ही बस से उतरने की कोशिश करने लगे। लेकिन चालक दोनों को मीठापुर बस स्टैंड ले आया। इसके बाद दोनों को कृष्णा रथ के दफ्तर में बंधक बनाकर रखा गया। आरोप है कि कृष्णा रथ की मालकिन और चालक दोनों छात्रों से 15 हजार रुपये की मांग कर रहे थे। हालांकि किसी तरह यह बात जक्कनपुर के थानेदार तक पहुंच गई।

अकसर विवादों में रही है कृष्णा रथ बस सर्विस

सूत्र बताते हैं कि कृष्णा रथ की मालकिन को सरकारी बॉडीगार्ड मिला है। सरकारी बॉडीगार्ड अक्सर यात्रियों के साथ गुंडागर्दी किया करता है। गौरतलब है कि पिछले वर्ष 2020 में भी कृष्णा रथ बस पर लॉकडाउन के कानून को तोड़ने को लेकर दो एफआईआर दर्ज की गई थी। काफी दिनों तक इस बस सर्विस की बसें जक्कनपुर थाने पर जब्त थीं। अक्सर कृष्णा रथ बस की शिकायत लेकर यात्री जक्कनपुर थाने पहुंचते हैं। यात्री कृष्णा रथ बस सर्विस के कर्मियों पर पैसे लेकर सीट नहीं देने सहित अन्य आरोप लगाते रहते हैं।

Next Story