Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आरसीपी ने चिराग पर तंज कसते हुए पशुपति पारस की छवि में गढे चार चांद, मोदी मंत्रिमंडल विस्तार पर कही ये बात

एलजेपी में टूट के बाद पद व प्रतिष्ठा को लेकर जंग चल रही है। एलजेपी में जारी विवाद पर पूरे बिहार की नजरें टिकी हैं। इस बीच जदयू अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने सांसद चिराग पासवान के बयान के खिलाफ तंज कसा है।

Bihar Political News JDU leader RCP Singh praised Pashupati Paras while taunting Chirag Paswan LJP News
X

चिराग पासवान पर आरसीपी सिंह ने कसा तंज

सांसद पशुपति पारस (Pashupati Paras) की बगावत के बाद से लोक जनशक्ति पार्टी (Lok Janshakti Party) दो भागों में विभाजित को गई है। वहीं अब एलजेपी (LJP) पार्टी में चिराग पासवान (Chirag Paswan) और पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) के बीच पद और प्रतिष्ठा को लेकर जंग चल रही है। राम विलास पासवान (Ram Vilas Paswan) की पार्टी एलजेपी (LJP) में चल रही सियासी जंग पर बिहार (Bihar) वासियों की नजरें जमी हुई हैं। दूसरी ओर जदयू के अध्यक्ष आरसीपी सिंह (JDU President RCP Singh) ने एलजेपी में चल रही सियासी घमासान को लेकर जमुई सांसद चिराग पासवान के खिलाफ तंज कसा है। जिसके अपने आप अगल की सियासी मायने हैं।

जदयू नेता आरसीपी सिंह ने बयान देते हुए चिराग पासवान को शेर का बेटा कहे जाने को लेकर तंज कसा है। आरसीपी सिंह ने कहा कि यदि चिराग पासवान शेर के बेटे हैं तो रामविलास पासवान का भाई भी शेर ही होगा। वह कुछ और कैसे हो सकता है। उनका इशारा पशुपति कुमार पारस की ओर रहा।

आरसीपी सिंह ने चिराग पासवान के बयानों पर निशाना साधते हुए कहा कि कभी वह स्वयं को शेर का बेटा बताते हैं तो कभी स्वयं को अनाथ करार दे देते हैं। अब ये पता नहीं चल रहा है कि यदि वह शेर हैं तो अनाथ कैसे हो गए। आरसीपी सिंह ने कहा कि शेर कभी अनाथ नहीं होते हैं।

इस दौरान आरसीपी सिंह ने पशुपति पारस के मोदी कैबिनेट में शामिल होने के कयासों लेकर स्पष्ट किया कि इसका निर्णय पीएम नरेंद्र मोदी को करना है कि उनके मंत्रीमंडल में किसको स्थान दिया जाए। याद रहे कुछ दिन पहले आरसीपी सिंह ने चिराग पासवान को लेकर कहा था कि जो जैसा बोता है, वह वैसी ही फसल काटता है।

केंद्रीय मंत्रीमंडल में जदयू की भागीदारी पर कही ये बात

वहीं आरसीपी सिंह ने खुद के नाम मंत्रीमंडल में शामिल होने की चर्चाओं को लेकर भी बातें स्पष्ट रखीं। आरसीपी सिंह ने बताया कि 2017 से ही उनका नाम पर नियमित तौर पर चर्चा चल रही है। लोग अनुमान लगाते हैं, इस को लेकर कुछ गलत नहीं है। आरसीपी सिंह ने केंद्रीय मंत्रीमंडल में जदयू की भागीदारी को लेकर एक बार फिर से दोहराया कि हम एनडीए का हिस्सा हैं। उसके आधार पर जो भी सही होगा, समय आने पर उसको लेकर फैसला लिया जाएगा।

Next Story