Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

BJP नेता ने जातीय जनगणना को लेकर कह दी ये बात, बोले- भविष्य में सरकार से सवाल करेगी जनता

बिहार में जहां बीते काफी दिनों जातीय जनगणना को लेकर सियासत मरमाई हुई है। वहीं भाजपा नेता दिलीप जायसवाल ने बयान दिया है कि बीते 75 वर्षों से जाति के नाम पर जनता को मूर्ख बनाया जा रहा है।

Bihar Political News BJP MLC Dilip Jaiswal termed caste census as political shoplifting CM Nitish Kumar News
X

दिलीप जायसवाल

बिहार (Bihar) में जातीय जनगणना के मुद्दे (caste census issues) पर लगातार जारी सियासत फिलहाल ठंडी होती नजर नहीं आ रही है। सोमवार को जाति आधारित जनगणना की मांग को लेकर जहां सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की अगुवाई में बिहार के प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली पहुंचकर पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से मुलाकात की। दूसरी ओर बीजेपी (BJP) के प्रदेश कोषाध्यक्ष एवं पार्टी एमएलसी दिलीप जायसवाल (Dilip Jaiswal) ने जाति आधारित जनगणना को सियासी दुकानदारी (political shoplifting) करार दे दिया। आपको बता दें पूर्णिया में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद (Deputy CM Tar Kishore Prasad) के साथ एमएलसी दिलीप जायसवाल भी पहुंच हुए थे। जहां डिप्टी सीएम ने बताया था कि विधानमंडल से प्रस्ताव पास कराने के बाद जातिगत जनगणना के मुद्दे पर सीएम नीतीश कुमार की अगुवाई में बिहार का प्रतिनिधिमंडल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) से मुलाकात करने के लिए गया हुआ है।

इसी कार्यक्रम में भाजपा एमएलसी दिलीप जायसवाल (BJP MLC Dilip Jaiswal) ने बयान दिया कि बीते 75 वर्षों से जाति के नाम पर जनता को मूर्ख बनाया जा रहा है। वहीं भाजपा नेता ने कहा कि सरकार आरक्षण का कोटा बढ़ा नहीं रही है। इसके अलावा आरक्षण में कई अन्य जाति शामिल कर दी गई हैं। भाजपा नेता ने उदाहरण दिया कि रोटियां पहले के समान ही हैं। लेकिन खाने वाले को संख्या पहले से काफी बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि एक ही नाव पर सरकार कितने लोगों को सवार करेगी। वहीं भाजपा नेता ने कहा कि यह केवल सियासी दुकानदारी है। साथ ही उन्होंने चेताया कि भविष्य में जब जनता सवाल करेगी तो सरकार के गाल पर बड़ा थप्पड़ लगेगा।

दिलीप जायसवाल ने बताया कि बिहार में अब रिजर्वेशन की रूपरेखा की चेंज हो गई है। शुरू में जैसे जातियां विभाजित हुई थीं, उसी आधार पर ही रिजर्वेशन भी निर्धारित किया गया था। पर अब रातो रात इसकी रूपरेख परिवर्तित कर दी गई है। भाजपा नेता ने कहा कि रिजर्वेशन का कोटा बढ़ाया ही नहीं गया है। साथ ही इसमें आए दिन नई-नई जातियों को शामिल कर रहे हैं। इन हालातों में भविष्य में जनता स्वयं सरकार से यह प्रश्न करेगी तो खुद ही सरकार के गाल पर बड़ा तमाचा जड़ जाएगा।

आपको बता दें कल नई दिल्ली में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार के प्रतिनिधिमंडल ने जातीय जनगणना को लेकर पीएम पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद हर किसी को इस बात पर नजरें टिकी हैं कि जाति आधारित जनगणना को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी क्या निर्णय लेते हैं।

Next Story