Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कर्मचारी के घर बच्चा पैदा होने पर डिलिवरी का खर्चा उठाएगी सरकार, इस बात का भी रखना होगा ध्यान

बिहार के सरकारी कर्मचारियों को होली के त्योहार पर खुश कर देने वाला समाचार सामने आया है। वो है कि यदि सरकारी अधिकारी व कर्मचारी के घर में बच्चा जन्म लेता है तो उसकी डिलिवरी पर होने वाले चिकत्सकीय खर्च को बिहार सरकार उठाएगी।

Bihar Government bear delivery cost of children birth of government employee know conditions
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार (Bihar) की नीतीश कुमार सरकार (Nitish Kumar Government) ने अपने कर्मचारियों को होली के रंगारंग त्योहार पर खास तोहफा दिया है। वो खास तोहफा है कि यदि सरकारी अधिकारी (government officer) और कर्मचारी के घर में बच्चा जन्म (Child birth) लेता है तो महिला की डिलिवरी (Delivery) पर चिकत्सकीय खर्चे (Medical expenses) को स्वास्थ्य विभाग (health Department) उठाएगा। इस बात की पहल स्वास्थ्य विभाग ने इसलिए की है। ताकि प्रदेश में निवास करने वाले आम नागरिकों के साथ-साथ सरकारी कर्मचारी भी सुरक्षित डिलिवरी (Safe delivery) के प्रति एकदम जागरूक हो जाएं। इस बाबत प्रदेश सरकार की ओर से एक खास शर्त भी रखी गई है। वो है कि सरकार की तरफ से शुरू की गई इस सरकारी योजना का लाभ कर्मचारी पहली दो संतानों तक ही प्राप्त कर सकेगा।


प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय की ओर से ट्वीट कर इस संबंध में जानकारी दी गई है। मंगल पाण्डेय ने अपने ट्वीट में लिखा कि सरकारी कर्मी के घर गूंजेंगी किलकारी तो दी जायेगी चिकित्सा प्रतिपूर्ति। साथ ही उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार ने निर्णय लिया है कि सरकार कर्मचारियों के घर बच्चे के जन्म लेने पर प्रसव के दौरान होने वाले खर्च की चिकित्सा प्रतिपूर्ति स्वास्थ्य विभाग करेगा। उपचार नियमावली के अनुसार राज्य सरकार को यह शक्ति प्राप्त है।

मंगल पांडेय के अनुसार इस समय प्रदेश में अखिल भारतीय सेवाओं के कर्मियों और कई राज्य सरकारें अपने कर्मियों को सामान्य प्रसव व सिजेरियन डिलिवरी के लिए मेडिक्लेम आधारित सुविधा उपलब्ध कराई जाती हैं। अब नीतीश कुमार की सरकार भी बिहार में अपने अपने कर्मियों व अधिकारियों को यह सुविधा को मुहैया कराएगी। मंगल पांडेय ने कहा कि इसमें खास बात ये है कि सरकारी कर्मचारी के बच्चे का जन्म चाहे नॉर्मल डिलेवरी से हो या फिर सिजेरियन, दोनों स्थिति में ही ऐसे कर्मियों को विभाग की ओर से चिकित्सा प्रतिपूर्ति उपलब्ध करवाई जाएगी।

Next Story