Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Bihar News: पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने प्रभु श्रीराम पर दिया विवादित बयान, खुद को बताया सबरी का वशंज

बिहार के पूर्व सीएम और हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के प्रमुख जीतन राम मांझी ने भगवान श्रीराम पर विवादित टिप्पणी की है। जीतन राम मांझी भाजपा-जेडीयू सरकार में सहयोगी रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह भगवान राम को नहीं मानते हैं। जीतन रम मांझी ने खुद को माता सबरी का वंशज बताया है।

Bihar News: पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने प्रभु श्रीराम पर दिया विवादित बयान, खुद को बताया सबरी का वशंज
X

बिहार (Bihar) के पूर्व सीएम और हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के प्रमुख जीतन राम मांझी (Former CM Jitan Ram Manjhi) ने गुरुवार को एक कार्यक्रम के दौरान भगवान श्रीराम पर विवादित टिप्पणी की है। जीतन राम मांझी भाजपा-जेडीयू (BJP-JDU) सरकार में सहयोगी रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह भगवान राम(Lord Ram) को नहीं मानते हैं। हालांकि, जीतन रम मांझी ने खुद को माता सबरी का वंशज बताया है। लेकिन मर्यादा पुरुषोत्तम राम को एक महज काल्पनिक पात्र बताया हैं।

कार्यक्रम के दौरान पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने छूआछूत की समस्या पर बोलते हुए यह विवादित बयान दिया है। कार्यक्रम के दौरान जीतन राम मांझी ने सवाल करते हुए कहा कि राम को मानने वाले लोग दलितों (Dalits) का जूठा क्यों नहीं खाते हैं। सता के लालच में लोगों को बांटा गया है। उन्होंने कहा कि हम वाल्मीकि, तुलसीदास जी को मानते हैं। लेकिन राम को नहीं। 'सबरी को हम मां मानते हैं, देखा नहीं कहानी है। जीतन राम मांझी ने कहा कि सबरी के झूठे बैर तो राम ने खाए थे, लेकिन आज हमारा छूआ हुआ ही खाना खाइए आप, जो हमारा छुआ हुआ नहीं खाते हैं, वो ही राम की बात करते हैं।

हालांकि, बीते साल भी जीतन राम मांझी ने विवादित बयान देते हुए कहा था कि राम को भगवान नहीं मानते। काल्पनिक चरित्र बताते हुए उन्होंने कहा था कि खुद उनकी पूजा नहीं करते हैं। साथ ही समर्थकों से भी राम की पूजा नहीं करने को कहते हैं। यह बयान पिछले साल दिया था, उसी दौरन ब्राह्मणों पर भी विवादित टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा था कि ब्राह्मण दलितों के यहां सत्यनारायण की पूजा तो करते है, लेकिन खाना नहीं खाते। रुपये लेकर चले जाते है। उनके बयान को लेकर भी खूब राजनीति गरमाई थी।

और पढ़ें
Next Story