Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बिहार चुनाव 2020: जनता को 15 साल बनाम 15 साल का फर्क बताएं छात्र और शिक्षक- जदयू

बिहार में विधानसभा चुनाव का दौर है। इसी बीच जदयू नेता आरसीपी सिंह ने छात्र, जदयू व शिक्षा प्रकोष्ठ के कार्यकर्ताओं को सोशल मीडिया के जरिए संबोधित किया। इस दौरान जदयू नेता ने बिहार के छात्रों व शिक्षकों से आह्वान किया कि वे लोगों को बिहार के 15 साल बनाम 15 साल के फर्क को दिखाएं।

bihar election 2020 tell the public the difference of 15 years vs. 15 years students and teachers- jdu
X
जदयू नेता आरसीपी सिंह

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) और राज्यसभा में दल के नेता आरसीपी सिंह ने 'गूगल मीट' एवं 'फेसबुक लाइव' और जदयू के मीडिया सेल के जरिए हजारों की संख्या में जुड़े छात्र जदयू व शिक्षा प्रकोष्ठ के कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उन्होंने बिहार के छात्रों व शिक्षकों और पार्टी के कार्यकर्ताओं से आह्वान किया कि वे लोगों को बिहार के 15 साल बनाम 15 साल के फर्क को दिखाएं। आरसीपी सिंह ने छात्र जदयू के 'ट्यूजडे टॉक' तथा शिक्षा प्रकोष्ठ के 'मंगल शिक्षा संवाद' का उद्घाटन किया।

आरसीपी सिंह ने कार्यकर्ताओं से कहा कि शिक्षा सही गलत के फर्क को समझाती है। आप लोगों से पूछिए कि 1990 से 2005 तक शिक्षा का बजट क्या था? मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केवल शिक्षा नहीं बल्कि उसके पूरे इन्फ्रास्ट्रक्चर पर काम किया। 15 साल पहले बिहार में एक भी केन्द्रीय विश्वविद्यालय नहीं था आज दो-दो हैं। उनसे पहले के 15 साल में एक भी मेडिकल कॉलेज नहीं खुला आज 20 से ऊपर हैं। तब बिहार में गिने-चुने पॉलिटेकनिक कॉलेज थे आज हर जिले में पॉलिटेकनिक व इंजीनियरिंग कॉलेज हैं। तीन-तीन नए विवि अस्तित्व में आए, आर्यभट्ट के नाम पर नॉलेज विश्वविद्यालय बना व कृषि विश्वविद्यालय, आईआईटी, एनआईटी, एनआईआईएफटी जैसे तमाम संस्थान आज बिहार में हैं। एएनएम कॉलेज, जीएनम कॉलेज, बीएड कॉलेज बड़ी संख्या में हैं। सात प्राइवेट यूनिवर्सिटी भी बिहार में खुलीं। हमारे नेता नीतीश कुमार नेपोलियन बोनापार्ट के कथन 'लीडर इज ए डीलर इन होप' पर बिल्कुल खरे उतरते हैं। 2005 में उन्होंने निराशा में डूबे बिहार को जो आशा दिलाई उसे पूरा किया। बिहार के समावेशी विकास का मार्ग प्रशस्त किया।

छात्र जदयू प्रभारी डॉ. रणबीर नंदन ने मंगलवार को सभी विवि अध्यक्ष, जिला अध्यक्ष व अन्य छात्र नेताओं को अभी से बिहार विधानसभा चुनाव के लिए तैयार रहने को कहा। प्रदेश के 477 कॉलेजों में छात्र जदयू का संगठन है। जदयू सांसद आरसीपी सिंह को आरसीपी 'सर' संबोधित करने की अपील भी छात्रों से की।

धन्यवाद ज्ञापन करते हुए शिक्षा प्रकोष्ठ के अध्यक्ष डॉ. कन्हैया सिंह ने कहा कि जदयू की सरकार शिक्षा और छात्रों के प्रति समर्पित है। इसीलिए इन दोनों प्रकोष्ठों से संवाद की शुरुआत हुई है। पिछले 15 साल में शिक्षा क्षेत्र में बिहार की अनगिनत उपलब्धियां हैं। आरसीपी सिंह ने अपने विजन को 'विकसित बिहार, नीतीश कुमार' के रूप में सामने रखा है, जिसे हमें जन-जन तक पहुंचाना है।

Next Story