Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वायरल बुखार को लेकर अलर्ट हुआ स्वास्थ्य विभाग, CM नीतीश ने पीड़ित बच्चों के इलाज को लेकर दिया ये निर्देश

बिहार में इन दिनों वायरल बुखार कहर बरपा रहा है। वहीं सीएम नीतीश कुमार ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिया है कि पीड़ित बच्चों के इलाज में कोताही नहीं बरती जानी चाहिए। साथ ही उन्होंने विभाग को वायरल बुखार को लेकर अलर्ट पर रहने के लिए कहा है। इस दौरान सीएम नीतीश के साथ स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय भी मौजूद रहे।

Bihar Chief Minister Nitish Kumar alerts health department about viral fever bihar corona news
X

पटना: स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक में सीएम नीतीश कुमार के साथ शामिल हुआ मंगल पाण्डेय।

बिहार (Bihar) में इन दिनों वायरल बुखार (viral fever) बच्चों पर कहर बरपा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक (health department review meeting) के दौरान इसको लेकर सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) भी चिंतित नजर आए। इस बैठक में सीएम नीतीश कुमार के साथ प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय (State Health Minister Mangal Pandey) समेत विभागीय विभिन्न अधिकारी मौजूद रहे। इस दौरान सीएम नीतीश कुमार ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिया है कि वायरल फीवर से ग्रस्त बच्चों के इलाज में कोई कोताही ना बरती जाए। साथ कहा कि विभाग वायरल बुखार को लेकर चौकन्ना और सक्रिय रहें। वायरल फीवर के सिम्टम्स पर भी लगातार नजर बनाकर रखी जाए। अस्पतालों में दवाई का पर्याप्त इंतजाम होना चाहिए।

वहीं सीएम नीतीश ने भरोसा दिया कि वायरल फीवर से ग्रस्त बच्चों के इलाज में कोई कमी नहीं रहेगी। सीएम नीतीश कुमार ने शनिवार पटना में हुई स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान कोरोना जांच, वैक्सीनेशन और बच्चों में फैल रहे वायरल फीवर से बचाव को लेकर अधिकारियों को कई जरूरी निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि वायरल फीवर से निपटने के लिए विभाग जो कदम उठा रहा है, यह सूचना मीडिया के जरिए जनता को दी जानी चाहिए। शहरी इलाकों में जिन्हें टीका नहीं लगा है। ऐसे लोगों को जल्द-से-जल्द वैक्सीन दी जाए। ग्रामीण इलाकों में भी विशेष अभियान चलाकर वैक्सीनेशन का कार्य तेजी से पूरा किया जाए।

वहीं सीएम ने कहा कि विशेष तौर पर केरल, मुंबई व तमिलनाडु से आने वाले यात्रियों की कोरोना जांच जरूर कराई जाए। बस स्टैंड व रेलवे स्टेशन पर बाहर से बिहार में आने वाले लोगों पर पैनी नजर रखी जाए। इन सभी स्थानों पर कोरोना जांच के तमाम इंतजाम होने चाहिए। वैक्सीन लेना कोरोना से बचाव का कारगर उपाय है। साथ ही कोरोना जांच भी अहम है।

वहीं बैठक में मौजूद स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने वायरल फीवर से बचाव के लिए उठाये जा रहे कदमों की जानकारी दी। उन्होंने कोरोना वायरस की अद्यतन स्थिति, कोरोना टेस्ट व वैक्सीनेशन के बारे में भी जानकारी दी। सचिव ने बताया कि तमाम अस्पतालों में दवा की उपलब्धता पर्याप्त है। वायरल बुखार को लेकर स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से सक्रिय है।

Next Story