Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बिहार विधानसभा चुनाव 2020: सुशील मोदी बोले, लालू-राबड़ी के 15 सालों के जंगलराज को याद भी नहीं करना चाहती जनता

Bihar Assembly Elections 2020: भाजपा नेता सुशील मोदी ने कहा कि लालू-राबड़ी के 15 वर्षों का जंगलराज लोगों के जेहन में बैठा हुआ है। वे उस दौर को दोबारा याद भी नहीं करना चाहते हैं।

bihar assembly elections 2020 sushil modi targeted the rule of lalu yadav and rabri devi
X

बिहार विधानसभा चुनाव 2020: भाजपा नेता सुशील मोदी ने लालू-राबड़ी के 15 वर्षों के शासन काल पर उठाये सवाल।

Bihar Assembly Elections 2020: बिहार में विधानसभा के चुनावों को लेकर जबरदस्त सियासी घमासान का दौर जारी है। इस बीच भाजपा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन 'एनडीए' को जबरदस्त टक्कर दे रही राष्ट्रीय जनता दल 'राजद' को घेरने की हर मुमकिन कोशिश करती हुई नजर आ रही है। इस कड़ी में डिप्टी सीएम एवं भाजपा नेता सुशील मोदी द्वारा गुरुवार को ट्वीट कर बिहार की जनता को लालू यादव व राबड़ी देवी के जंगलराज से रूबरू कराये जाने की कोशिश की गई है।

सुशील मोदी ने लिखा कि लालू यादव प्रसाद के राज को जंगलराज घोटालों की वजह से तो कहा ही जाता है। उससे भी ज्यादा राजनीति में अपराध, जातीय नरसंहार, ध्वस्त क़ानून व्यवस्था के लिए जाना जाता है। सुशील मोदी ने कहा कि बिहार के लोग सत्ता व अपराध के गठजोड़ के चलते 15 वर्षों तक पिसते रहे हैं।


डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने कहा कि बिहार के लोगों के जेहन में लालू यादव व राबड़ी देवी के 15 वर्षों का जंगलराज इस कदर समा गया है। सुशील मोदी ने कहा कि वे लोग दोबारा उस दौर को याद भी नहीं करना चाहते हैं।

हर तरह से नकारा था लालू-राबड़ी राज: अश्विनी चौबे

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने भी गुरुवार को इसी प्रकार के कई ट्वीट कर महागठबंधन को घेरने की कोशिश की है। उन्होंने लिखा कि लालू प्रसाद यादव के राज को जंगलराज घोटालों की वजह से तो कहा ही जाता है। अश्विनी के कहा कि लालू यादव का राज उससे भी ज्यादा राजनीति में अपराध, जातीय नरसंहार, ध्वस्त क़ानून व्यवस्था के लिए जाना जाता है। अश्विनी चौबे ने कहा कि लालू यादव- राबड़ी देवी के 15 वर्षों का जंगलराज बनाम एनडीए सरकार के 15 वर्षों का सुशासन है।

अश्विनी चौबे ने भी कहा कि बिहार के लोगों के जेहन में लालू राबड़ी के 15 वर्षों का जंगलराज इस कदर समाया है। कि वो लोग एक बार फिर से लालू-राबड़ी के उस दौर को याद भी नहीं करना चाहते हैं।

Next Story