Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीएम नीतीश के प्रयास से इस मामले में अव्वल आया बिहार, जानें सफलता की पूरी कुंजी

कोरोना काल में नीतीश सरकार ने एक खास मामले में बेहतर कामयाबी हासिल की है। वो निवेश प्रस्ताव हासिल करना है। इससे सीएम नीतीश कुमार 'CM Nitish Kumar' द्वारा बिहार के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में भी पता चलता है।

Bihar achieved new position in terms of investment proposals during Corona period nitish kumar news
X

 सीएम नीतीश कुमार

बिहार (Bihar) समेत पूरा देश जहां कोरोना महामारी (corona pandemic) से झूझ रहा है। वहीं बिहार ने निवेश प्रस्ताव (investment proposal) हासिल करने के मामले में बड़ी कामयाबी हासिल की है। साथ बिहार इस मामले में देश के अन्य राज्यों से काफी आगे रहा है। जानकारी के अनुसार कोरोना काल के दौरान बीते छह माह में बिहार को 34 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के निवेश प्रस्ताव हासिल हुए हैं। बताया जा रहा है कि जिनमें से 19 हजार 304 करोड़ के निवेश प्रस्तावों को राज्य निवेश प्रोत्साहन पर्षद (एसआईपीबी) स्टेज-1 क्लियरेंस भी प्रदान कर चुका है। इसमें सबसे विशेष बात ये रही कि कि 28 से 30 जून के बीच महज तीन दिनों के अंदर बिहार को 15 हजार 145 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव हासिल हुए हैं। जल्द होने वाली राज्य निवेश प्रोत्साहन पर्षद की आगामी मीटिंग में 15 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के निवेश प्रस्तावों को हरी झंडी दी जा सकती है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बिहार में इन दिनों उद्योग के क्षेत्र में विशेष हलचल देखी जा रही है। विभिन्न निवेशक बिहार की ओर रुख कर रहे हैं। इसके साथ ही बिहार में औद्योगिकीकरण को लेकर उम्मीद की किराण सामने आई है। बीते तीन से चार माह में तो बिहार में निवेश प्रस्तावों को लेकर विेशेष तेजी आई है। वहीं राज्य निवेश प्रोत्साहन पर्षद से पहले चरण की स्वीकृति पाने वाले निवेश प्रस्तावों की संख्या व धनराशि इसकी पुष्टि करती है। जानकारी के अनुसार राज्य निवेश प्रोत्साहन पर्षद (एसआईपीबी) की प्रथम जुलाई को आयोजित हुई 30वीं मीटिंग में 12744.59 करोड़ के प्रस्तावों को हरी झंडी दी गई थी।

इथेनॉल से जुड़े क्षेत्र में पाई ज्यादा कामयाबी

निवेश प्रस्तावों में देश में बिहार के उव्वल आने पीछे नई इथेनॉल नीति का बड़ा योगदान बताया जा रहा है। यह बात इससे ही पुख्ता होती है कि बिहार को प्राप्त हुए 34 हाजार 499 करोड़ के निवेश प्रस्तावों में से लगभग 30 हजार करोड़ का निवेश सिर्फ इथेनॉल क्षेत्र से संबंधित है। बिहार में नई इथेनॉल नीति के मद्देनजर आवेदन की अंतिम तिथि 30 जून थी। इन अंतिम तीन दिनों के अंदर बिहार में उद्योग विभाग को 87 निवेश प्रस्ताव हासिल हुए। जिसमें 15 हजार 145 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्तावित हैं। इसमें भी 79 निवेश प्रस्ताव केवल इथेनॉल क्षेत्र से संबंधित थे। जिसमें अनुमानित निवेश 14 हजार 922 करोड़ से ज्यादा है।

राज्य निवेश प्रोत्साहन पर्षद की 31वीं मीटिंग में इन निवेश प्रस्तावों को भी स्टेज-1 क्लियरेंस हासिल हो जाएगा। इस पर विशेषज्ञों की बात मानी जाए तो देश में बिहार को सबसे ज्यादा निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। वहीं बिहार के पांच जिले ऐसे हैं। जिनके लिए 2 हजार करोड़ के आसपास के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। इनमें पटना, मुजफ्फरपुर, मधुबनी, बेगूसराय व पूर्णिया जिला शामिल है। उद्योग विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार बिहार के करीब 10 जिलों के लिए करीब एक-एक हजार करोड़ से ज्यादा के निवेश प्रस्ताव हासिल हुए हैं।

Next Story