Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पुल ढहने से पहले ग्रामीणों ने किया था आगाह पर भ्रष्टाचारी नीतीश सरकार की आंख नहीं खुलीं : तेजस्वी यादव

बिहार के गोपालगंज में पुल ढह जाने के बाद से बिहार की सियासत में भूचाल है। नीतीश सरकार विपक्षियों के निशाने पर है। इसी पर अब राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि पुल ढहने से पहले ही ग्रामीणों ने आगाह किया था पर भ्रष्टाचारी नीतीश सरकार की आंख खुलने वाली कहां थी। पुल ढहेगा तभी ना भ्रष्टाचार करेंगे।

before the bridge collapsed villagers warned that the eyes of the corrupt nitish government did not open
X
पुल ढहने से पहले की तस्वीर

शुक्रवार को राजद नेता तेजस्वी यादव ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया । जिसमें ग्रामीण पुल के ढहने से पहले ही इसको लेकर आगाह करता दिखाई दे रहा है। इस पर तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया कि भ्रष्टाचारी नीतीश सरकार की कहां आंख खुलने वाली थी? पुल ढहेगा तभी ना भ्रष्टाचार करेंगे? तेजस्वी यादव ने ये भी आरोप लगाया कि अब निर्लज्ज भ्रष्ट सरकार ग्रामीणों पर ही केस दर्ज कर रही है कि वो मीडिया को सच क्यों बता रहे हैं ?

गोपालगंज का यह पुल बुधवार को पानी के दबाव से बह गया था। साथ ही इसको तैयार होने में 263.47 करोड़ रुपये खर्च होना बताया जा रहा था और सीएम नीतीश कुमार द्वारा 29 दिनों पहले इसका उद्घाटन करने की बात कही जा रही थी। इस पुल के बहने बाद से ही बिहार की नीतीश सरकार विपक्षियों के निशाने पर है।

बिहार सरकार ने कहा, टूटा है छोटा पुल

बिहार सरकार ने 264 करोड़ के पुल टूटने की खबर को झूठा बता दिया है। बिहार सरकार ने इसके लिए एक वीडियो जारी किया है। जिसमें मंत्री नंद किशोर ने दावा किया कि जिस पुल के टूटने की खबर मीडिया दे रही है, वो 264 करोड़ वाला पुल है ही नहीं। टूटा है छोटा पुल बिहार सरकार ने कहा कि सत्तर घाट पुल के अंदर तीन छोटे-छोटे ब्रिज हैं। उन्होंने कहा कि गोपालगंज से दो किमी की दूरी पर एक छोटा पुल है। उसी का रास्ता कट गया है। उन्होंने कहा कि यह सिर्फ सड़क का हिस्सा है जो कट गया है। इस छोटे पुल का रास्ता पानी के तेज बहाव की वजह से कटा है। उन्होंने कहा कि 264 करोड़ के पुल को कोई क्षति नहीं पहुंची है।

Next Story