Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बकरीद पर सामूहिक रूप से नमाज अदा करने पर लगी रोक, संभावित कोरोना की तीसरी लहर को लेकर सरकार ने की सख्ती

बिहार सरकार अभी से कोरोना के संभावित कहर से निपटने की तैयारी में जुट गई है। इसलिए सरकार की ओर से एक सर्कुलर जारी किया गया है। जिसमें अगस्त महीने तक प्रत्येक धार्मिक कार्यक्रम पूर्ण रूप से रोक लगा दी गई है।

banned bakrid namaj Bihar government issued guidelines regarding the third wave of possible corona
X

Nitish kumar

बिहार सरकार (Bihar Government) प्रदेश में संभावित कोरोना (Corona) की तीसरी लहर से निपटने को तैयार है। जिसको लेकर नीतीश सरकार (Nitish kumar Government) ने एक बार फिर से सख्ती करना शुरू कर दिया है। बिहार सरकार ने सावन (Sawan) माह और बकरीद (Bakrid) जैसे मौकों पर लोगों की भीड़ ना हो सके। इसको लेकर सख्त नियम बना दिए हैं। इसके तहत बकरीद के मौके पर लोग सामूहिक रूप से नमाज (Namaj) अता नहीं कर सकेंगे। वहीं सावन माह में शिवालयों में होने वाली पूजा पर भी प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया गया है। प्रदेश में कोरोनावायरस के केस (Coronavirus case) कम जरूर हैं, लेकिन बिहार सरकार का प्रयास है कि कोरोना को एक बार फिर से सामूहिक रूप से फैलने से रोका जाए।

पटना के डीएम चंद्रशेखर सिंह ने सोमवार को पुलिस अधीक्षक व सभी पदाधिकारियों के साथ बकरीद को लेकर एक बड़ी बैठक आयोजित की। इसमें डीएम ने निर्देश जारी करते हुए कहा कि कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए बकरीद की नमाज केवल घरों में ही अदा की जा सकेगी। बकरीद के मौके पर किसी भी मस्जिद या ईदगाह में नमाज पढ़ने की अनुमति नहीं होगी। इस दौरान सार्वजानिक कार्यक्रम पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा। वहीं डीएम ने सभी एसडीओ, बीडीओ और सीओ को निर्देश जारी करते हुए थाना और अनुमंडल स्तर पर शांति समिति की बैठक कर सभी दिशा निर्देशों को बताने का निर्देश दिया।

इसके अलावा सावन महीने में लगने वाले श्रावणी मेला पर भी रोक लगा दी गई है। कोरोना गाइडलाइन के मद्देनजर हर एक सार्वजनिक मेला या समारोह पर रोक रहेगी। मंदिरों में कांवड़ लेकर जाने पर भी प्रतिबंध लगाया गया है। मंदिरों में सावन के पहले सोमवार से ही सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम रहेंगे।

बिहार राज्य धार्मिक न्यास बोर्ड के अध्यक्ष अखिलेश कुमार जैन ने बताया कि प्रदेश सरकार ने एक सर्कुलर जारी किया है। जिसके तहत अगस्त माह में सभी तरह के धार्मिक कार्यक्रम व उसके आयोजन पर पूर्ण रूप से रोक रहेगी। कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए लोगों की सुरक्षा के तहत इस बार श्रावणी मेला का आयोजित नहीं होगा। वहीं उन्होंने बताया कि सावन महोत्सव से संबंधित हर कार्यक्रम पर पूर्ण रोक रहेगी। अखिलेश कुमार जैन ने सावन माह में लोगों से अपने घरों में ही पूजा-अर्चना करने की अपील की है। साथ ही बताया कि मंदिर आम लोगों के लिए पूर्ण रूप से बंद रहेंगे। मंदिर के केवल पुजारी ही सुबह व शाम पूजा अर्चना और आरती कर पाएंगे।

Next Story