Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एंबुलेंस चालक ने गर्भवती को नहीं पहुंचाया अस्पताल, महिला ने सड़क पर ही दे दिया बच्चे को जन्म

बिहार के बांका जिले में अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही का मामला उजागर हुआ है। जिले में एक गर्भवती महिला एंबुलेंस तक पहुंचने में कुछ लेट हो गई। जिसके बाद मनमानी दिखाते हुए एंबुलेंस चालक गर्भवती महिला को वहीं छोड़कर लौट गया। यहीं महिला ने सड़क पर बच्चे को जन्म दे दिया।

ambulance driver did not take pregnant woman for hospital and child born on road In Banka bihar latest news
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार (Bihar) में आए दिन स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही (health department negligence) सामने आती रहती हैं। अब बांका जिले (Banka District) से एक ऐसी ही लापरवाही सामने आई है। यहां अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही (Negligence of hospital management) और एंबुलेंस ड्राइवर की मनमानी (Ambulance driver's arbitrariness) उस वक्त देखने को मिला कि जब एंबुलेंस ड्राइवर गर्भवती महिला (pregnant woman) को लेकर नहीं गया। साथ ही उसे वहीं छोड़कर वापस अस्पताल लौट आया। प्रसव कराने के लिए अस्पताल जाने वाली गर्भवती महिला ने सड़क किनारे पर ही नवजात को जन्म दे दिया। वैसे इस मामले में अस्पताल प्रबंधन ने संज्ञान लिया है। साथ ही अस्पताल प्रबंधन ने एंबुलेंस ड्राइवर से मामले को लेकर स्पष्टीकरण मांगा है।

मामले के बारे में खड़ौंधा जोठा अन्तर्गत पटवा गांव की आशा कार्यकर्ता खुशबु कुमारी ने कहा कि पटवा गांव निवासी रामचन्द्र पंडित की पत्नी आरती देवी को प्रसव पीड़ा शुरू हुई। इसपर उन्होंने एंबुलेंस चालक विनोद कुमार को फोन किया गया। इसके बाद एंबुलेंस ड्राइवर पटवा गांव पहुचा। लेकिन अस्पताल जाने के लिए अपने घर से निकलने में गर्भवती महिला आरती देवी कुछ देरी हो गई। जिसकी वजह से आरती उक्त एंबुलेंस के पास करीब 10 मिनट देरी से पहुंची। इसपर एंबुलेंस ड्राइवर गर्भवती महिला को वहीं छोड़ कर वापस लौटकर अस्पताल चला गया।

एंबुलेंस चली जाने के बाद आरती प्राइवेट वाहन से अस्पताल पहुंचने के लिए फिर अपने घर से निकल रही थी। इस बीच आरती का पटवा स्थित सड़क किनारे पर ही प्रसव हो गया। फिर आरती देवी घर पहुंची व यहीं पर प्राइवेट डॉक्टर से उपचार करा रही हैं। वहीं आशा कार्यकर्ता ने एंबुलेंस ड्राइवर के व्यवहार एवं मनमानी की शिकायत चिकित्सा प्रभारी को दी गई।

चालक से मामले पर मांगा गया स्पष्टीकरण

आशा कार्यकर्ता की शिकायत पर चिकित्सा प्रभारी ने संज्ञान लिया। फिर चिकित्सा प्रभारी ने एंबुलेंस ड्राइवर को निर्देश दिया गया कि एक बार फिर जाए और महिला को उसके घर से अस्पताल लेकर आए। मामले पर चिकित्सा प्रभारी डॉक्टर मनीष पोद्दार ने कहा कि इसको लेकर एंबुलेंस ड्राइवर से स्पष्टीकरण मांगा गया है।

और पढ़ें
Next Story