Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बीएयू के नाराज 300 वैज्ञानिक आज से दो दिनों की कलमबंद हड़ताल पर जाएंगे, जानें इनकी पूरी मांग

बिहार कृषि विश्वविद्यालय (BAU) को लेकर बड़ी खबर सामने आई है। जानकारी के अनुसार बीएयू से जुड़े तमाम कॉलेजों में कार्यरत वैज्ञानिक आज से दो दिनों की कलमबंद हड़ताल पर रहेंगे।

बीएयू के नाराज 300 वैज्ञानिक आज से दो दिनों की कलमबंद हड़ताल पर जाएंगे, जानें इनकी पूरी मांग
X

बिहार कृषि विश्वविद्यालय (बीएयू) से जुड़ा बड़ा मामला सामने आया है। जानकारी के अनुसार बिहार (Bihar) कृषि विश्वविद्यालय (BAU) के तहत आने वाले तमाम कॉलेजों और रिसर्च सेंटर्स में कार्यरत वैज्ञानिक (Scientist of BAU) आज यानी कि सोमवार से दो दिनों की कलमबंद हड़ताल (penned strike) पर रहेंगे। वैज्ञानिकों ने बताया है कि वो लोग रुके हुए प्रन्नोति व विवि अधिनियम के मुताबिक कार्य कराने के लिए बीते कई महीनों से आवाज बुलंद करते आ रहे हैं। वैज्ञानिकों का कहना कि विवि प्रशासन इस पर ध्यान नहीं दे रहा है। बीते कई दिनों से सबौर एग्रीकल्चरल यूनिर्वसिटी टीचर एसोसिएशन व प्रोग्रेसिव टीचर एसोसिएशन के द्वारा संयुक्त रूप से कलमबंद हड़ताल चल रही है।

प्रोग्रेसिव टीचर एसोसिएशन के सचिव डॉ. एच मीर ने कहा कि 15 वर्ष से वैज्ञानिकों को प्रोन्नति नहीं मिली है। मसले को लेकर कई बार विवि को पत्र भी भेजे गए। पर कोई भी प्रोन्नति की ओर ध्यान नहीं दे रहा है। इसके अतिरिक्त वैज्ञानिकों में इस बात की नाराजगी है कि तमाम अधिकारियों में कुछ निर्णय लेकर वैज्ञानिकों पर थोप देते हैं। किसी भी प्रकार का कार्य नियम परिनियम के मुताबिक आपसी सहमति पर होनी चाहिए। लेकिन ये कार्य आपसी सहमति से नहीं हो रहे हैं।

मांग पूरी नहीं होने पर दी है आगे भूख हड़ताल करने की चेतावनी

सचिव की जानकारी देते हुए कहा कि कलमबंद हड़ताल में नूरसराय कॉलेज, सबौर कॉलेज, डुमरांव कॉलेज, पूर्णिया कॉलेज, किशनगंज कॉलेज व सहरसा कॉलेज के कॉलेजों में कार्य कर रहे 300 वैज्ञानिक सोमवार और मंगलवार को कलमबंद हड़ताल पर करेंगे। सचिव ने बताया कि उस वक्त कोई भी तरह का विभागीय कार्य नहीं होगा। बावजूद इसके विवि प्रशासन की ओर से मांग नहीं मानी गई तो आगे 29 और 30 अक्टूबर को वैज्ञानिक कलमबंद हड़ताल पर रहेंगे। इस दौरान भी मसला हल नहीं हुआ तो बीएयू के अंतर्गत आने वाले तमाम कॉलेज के वैज्ञानिक 16 नवंबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे।

और पढ़ें
Next Story