Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मौसम की तरह हर तीन महीने में बदल सकते हैं शरीर, जानिए कैसे

जैसे सर्प की त्वचा चार से छह सप्ताह में केंचुल के रूप में अलग हो जाती है। मनुष्य की त्वचा के कोश भी पांच दिन में बदल जाते हैं।

मौसम की तरह हर तीन महीने में बदल सकते हैं शरीर, जानिए कैसे

नई दिल्ली. जब जवानी से बुढ़ापे की ओर कदम बढ़ने लगते हैं और चेहरे पर ढ़लती उम्र के निशान नजर आने लगते हैं तो यही ख्याल आता है कि काश बढ़ती उम्र की रफ्तार रोक ली जाए और फिर से जवान बन जाएं। सोचिए अगर आपकी यह चाहत पूरी हो जाए तो कैसा हो। आप कहेंगे कि यह सिर्फ कल्पना की बात है हकीकत में भला कैसे हो सकता है। लेकिन हम आपको बता दें कि यह बिल्कुल संभव है और विज्ञान ने अब इसकी तैयारी शुरू कर दी है। अब आप भी महर्षि च्यवन की तरह अपने बुढ़ापे को अपने दूर करके फिर से जवानी पा सकते हैं यानी हमेशा हमेशा जवान दिख सकते हैं।

मनुष्य की त्वचा के कोश पांच दिन में बदल जाते हैं: विज्ञान के अनुसार शरीर जिन कोशिकाओं से बना है, वे टूटती और टूटे फूटे रूप की जगह नए कोशों में तब्दील होती रहती हैं। जैसे सर्प की त्वचा चार से छह सप्ताह में केंचुल के रूप में अलग हो जाती है। मनुष्य की त्वचा के कोश भी पांच दिन में बदल जाते हैं। अस्सी दिन में तो प्रोटीन पूरी तरह बदल कर नई हो जाती है। पुरानी का कहीं पता नहीं चलता।
सेन गियागो की संस्था शार्प कम्युनिटि मेडिकल ग्रुप के प्रो.केनिथ रोसले का कहना है कि मनुष्य के कोशों को निरंतर सक्रिय और स्वस्थ रखना संभव हो तो उसका शरीर तीन सौ वर्ष तक कायम रह सकता है। कोई गड़बड़ी न आए तो गुर्दे 200 वर्ष, हृदय 300 वर्ष तक रखे जा सकते हैं।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top