logo
Breaking

बैक पेन से लेकर गैस की समस्या तक, इन बीमारियों के लिए रामबाण है योग

योग दिवस (21 जून, 2018) के मौके पर हम आपको कुछ बीमारी और उनसे जुड़े योग के बारे में बताने जा रहे हैं। योग को करने से ये बीमारियां जड़ से खत्म हो जाती हैं। नियमित योगाभ्यास से आप न केवल फिट रहती हैं, साथ ही कई तरह की शारीरिक समस्याओं से भी मुक्ति मिलती है।

बैक पेन से लेकर गैस की समस्या तक, इन बीमारियों के लिए रामबाण है योग

योग दिवस (21 जून, 2018) के मौके पर हम आपको कुछ बीमारी और उनसे जुड़े योग के बारे में बताने जा रहे हैं। योग को करने से ये बीमारियां जड़ से खत्म हो जाती हैं। नियमित योगाभ्यास से आप न केवल फिट रहती हैं, साथ ही कई तरह की शारीरिक समस्याओं से भी मुक्ति मिलती है।

इसलिए जरूरी है, योगाभ्यास के लिए सुबह आधा घंटा अवश्य निकालें। हेल्दी-फिट रहने के लिए योगाभ्यास से मिलने वाले फायदों के बारे में जानना बहुत जरूरी है।

महिलाएं कामकाजी हों या घरेलू, घर-परिवार की पूरी देख-रेख उन्हें करनी होती हैं। लेकिन सबका ध्यान रखने में वह अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाह हो जाती हैं। इस लापरवाही की वजह से वे मोटापे समेत कई और शारीरिक समस्याओं की शिकार हो जाती हैं।

महिलाओं में होने वाली दिक्कतें

खासकर वर्किंग वूमेन को टेंशन, बैक पेन, सर्वाइकल प्रॉब्लम, फैट टमी, गैस और एसिडिटी की समस्या ज्यादा होने लगती है। लेकिन नियमित योगाभ्यास करने से ये सारी समस्याएं दूर रहती हैं।

अगर आप प्रतिदिन केवल 30 मिनट भी योगाभ्यास के लिए दें, तो शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रह सकती हैं। जानें योगाभ्यास के फायदे

तनाव

महिलाओं को स्ट्रेस की सबसे ज्यादा समस्या होती है। ऐसे में उन्हें भ्रामरी, अनुलोम-विलोम प्रणायाम का अभ्यास नियमित रूप से करना चाहिए। कम से कम पांच-पांच मिनट इन दोनों का रोज अभ्यास करें। इससे कुछ ही दिनों में तनाव पूरी तरह गायब हो जाएगा।

बैक पेन

लगातार लंबे समय तक सिटिंग जॉब करने की वजह से बैक पेन की समस्या महिलाओं में काफी बढ़ गई है। इससे निजात पाने के लिए भुजंगासन, शवासन, धनुरासन का अभ्यास करना चाहिए। इससे बैक पेन की समस्या धीरे-धीरे खत्म हो जाती है।

पेट बाहर निकलना

महिलाओं में यह समस्या बहुत आम हो गई है। वर्किंग हों या हाउसवाइफ, एक एज के बाद इस समस्या से अधिकतर महिलाएं ग्रस्त हो जाती हैं। पेट बाहर निकलने से शरीर बेडौल हो जाता है।

इस समस्या से निजात पाने के लिए कपालभाती का अभ्यास करें। प्रतिदिन पांच मिनट से लेकर 15 मिनट तक कपालभाती करें। इसका अभ्यास खाना खाने से आधा घंटा पहले या फिर खाना खाने के चार घंटे बाद कभी भी किया जा सकता है।

गैस एसिडिटी

इस समस्या के लिए सबसे अच्छा योगाभ्यास पवनमुक्तासन और मंडुकासन होता है।

सावधानी है जरूरी

  • दिए गए दिशा-निर्देशों को पूरी तरह से ध्यान में रखकर ही योगाभ्यास करें।
  • योगाभ्यास, किसी योगाचार्य की देखरेख में ही प्रारंभ करें, सीखने के बाद फिर अपने आप से शुरू करें।
  • योगा वीडियो का भी सहारा ले सकती हैं।
  • जब भी मेडिटेशन करें, पांच मिनट से शुरू करें और 45 मिनट तक बढ़ाएं।
  • सांसों पर ध्यान केंद्रित करें।
  • खुले मैदान और जहां शोर-गुल ना हो, वहां इसका अभ्यास करना चाहिए।

रखें ध्यान

  • योगाभ्यास का पूरा लाभ पाने और यहां बताई गई समस्याओं से निजात पाने के लिए अपनी डाइट पर ध्यान देना भी जरूरी है।
  • खाना खाने के तुरंत बाद पानी ना पिएं, कम से कम एक घंटे बाद ही पानी पिएं।
  • हां, खाना खाने के पांच मिनट पहले आधा गिलास पानी अवश्य पिएं।
  • हल्का भोजन करें।
  • तला-भुना और मसालेदार भोजन से बचें।
  • रात्रि को अरबी, आलू, गोभी, राजमा, उड़द, अरहर की दाल, रायता, चावल ना खाएं।

(ये रिपोर्ट सोहित शास्त्री, योगाचार्य से बातचीत के आधार पर बनाई गई है।)

Share it
Top