Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हार्वर्ड के विशेषज्ञों ने खोजा जीन को एडिट करने वाला तरीका, 15 हजार रोगों का इलाज संभव

एमआईटी और हार्वर्ड के विशेषज्ञों ने मस्तिष्क को ठीक करने के लिए दो जीन संपादन तकनीकों की खोज की है

हार्वर्ड के विशेषज्ञों ने खोजा जीन को एडिट करने वाला तरीका, 15 हजार रोगों का इलाज संभव

साईंस्टि्सो का दावा ग्राउंडब्रेकिंग डीएनए और आरएनए संपादन के दूवा्रा 15,000 रोगों का इलाज करना संभव हो सकता है वैज्ञानिक ने इस तकनीक को तंत्रिका उत्परिवर्तनों को सिस्टिक फाइब्रोसिस नाम दिया है। इस हेल्थ जीन तकनीक से संभव हो गया है। कि अब मानव के शरीर में पाए जाने वाले जीन को एडिट कर रोगों का पता लगाया जा सकता है।

एमआईटी और हार्वर्ड के विशेषज्ञों ने मस्तिष्क को ठीक करने के लिए दो जीन संपादन तकनीकों की खोज की है जो कि सिस्टिक फाइब्रोसिस और ड्यूसेन मस्तिष्क डिस्ट्रोफी जैसी बीमारियों का कारण बनता है।

वैज्ञानिकों ने कहा कि दोनों बीमारियां, और लगभग सभी मानवीय आनुवंशिक विकार, मानव जीनोम में एकल अक्षरों में उत्परिवर्तन के कारण होते हैं, जिसमें 'ए' दिखाई देता है जहां 'बी' होना चाहिए।

इसे भी पढें: सावधान! इनको पहनने से हो सकती है जानलेवा बिमारी

नए-विकसित जीन संपादन सिस्टम हमारे डीएनए या आरएनए की छोटी इकाइयों को गुर्दे को पूर्ववत करने के लिए लक्ष्य कर सकते हैं जो सिस्टिक फाइब्रोसिस का कारण बनता है। एक प्रणाली जीनोम में डीएनए का संपादन करती है, जबकि अन्य आरएनए लक्ष्य, जो प्रोटीन बनाने के लिए आनुवंशिक संदेश भेजते हैं।

डीएनए और आरएनए दोनों में चार आधार घटक होते हैं। एडेनीन, थाइमाइन, गैनिन और साइटोसिन। ये संपादन सिस्टम जीवित कोशिकाओं में काम करते हैं, और अगर शोधकर्ता उन्हें मानव रोगियों को सुरक्षित और प्रभावी ढंग से वितरित करने के तरीकों को खोज सकते हैं, तो उनका उपयोग 15,000 से अधिक आनुवंशिक बीमारियों के कारण उत्परिवर्तनों को बदलने के लिए किया जा सकता है।

इसे भी पढें: सावधान: सुबह देर तक सोने से कम होती है याददाश्त

सिस्टिक फाइब्रोसिस एक उत्तराधिकारित आनुवंशिक उत्परिवर्तन के कारण होता है जो फेफड़ों और पाचन तंत्र में असामान्य बलगम उत्पादन की ओर जाता है। मोटा-से-सामान्य बलगम का निर्माण और वायुमार्ग को अवरुद्ध करता है।

ये बीमारी अमेरिका में 200,000 लोगों को प्रभावित करती है। इसे श्वास मशीनों, इनहेलर्स और दवाइयों के साथ प्रबंधित किया जा सकता है, लेकिन इसके द्वारा प्रभावित कुछ लोगों को फेफड़े के प्रत्यारोपण की आवश्यकता होगी। सिस्टिक फाइब्रोसिस का कोई इलाज नहीं है और यह घातक हो सकता है। सिस्टिक फाइब्रोसिस को रोका जा सकता है या ठीक किया जा सकता है अगर जीनोम में केवल 'जी' होता है जहां रोग पीड़ितों का 'ए' होता है।

ब्रॉड इंस्टीट्यूट ऑफ एमआईटी और हार्वर्ड की नई जीन एडिटिंग टेक्नोलॉजीज के साथ, वैज्ञानिक, जीनोम या उसके मैसेंजर के हिस्से को फिर से लिख सकते हैं जो सिस्टिक फाइब्रोसिस को फैलता है।

डॉ डेविड लियू के नेतृत्व में एक डीएनए बेस एडिटर बनाया गया अनुसंधान समूह, उनकी सफलता को एक आणविक मशीन कहते हैं। उनके जीन एडिटिंग सिस्टम को तकनीकी तौर पर एडिनिन बेस एडिटर या एबीई कहा जाता है।

इसे भी पढें: रात में सोना है जल्दी, तो इन बातों का रखें ध्यान

एबीई में 'ए' के ​​लिए 'एडिनिन' है, चार रासायनिक आधारों में से एक, जो हमारे जेनोमों के सबसे छोटे तत्व हैं। एडिनिन हमेशा थाइमाइन के साथ रखा जाता है, और ग्वानिन हमेशा साइटोसिन के साथ जोड़ा जाता है।

इन युग्मों के तीन अरब के आदेशों एटी और जीसी हमारे बारे में सब कुछ के लिए जीनोम कोड भर में। लेकिन, सिस्टम की सादगी का मतलब है कि एक गलत अक्षर हमारे महत्वपूर्ण हिस्सों को दूर कर सकता है।

डॉक्टरों का कहना कि जीन एडिटर्स क्राइस्प्रीय प्रौद्योगिकी पर विकास हैं जो वैज्ञानिकों को अधिक कुशलता से जीनोम को लक्षित और संपादित करने की अनुमति देता है, जो डॉ। फेंग झेंग और ब्रॉड इंस्टीट्यूट में अपनी प्रयोगशाला द्वारा विकसित की गई है।

आरएनए संपादन जीनोम के साथ हस्तक्षेप करने से बच जाता है चूंकि आरएनए मूल आनुवंशिक जानकारी स्वयं होने की बजाय इंसानों में एक संचार भूमिका निभाता है। इसके बदले यह परिवर्तन अधिक लचीला हो सकता है।

हालांकि, समय के साथ आरएनए का स्तर कम हो जाता है, इसलिए इसके घटकों के भागों (न्यूक्लियोसाइड अड्डों कहा जाता है) में परिवर्तन की अस्थायीता भी हानिकारक हो सकती है।

डॉ झेंग और उनकी प्रयोगशाला में एनीमिया के रूप का कारण बनने वाले परिवर्तन को ठीक करने के लिए उनकी मरम्मत प्रणाली का इस्तेमाल किया गया।

डॉ लियू की टीम ने एबीई को जीवित मानव कोशिकाओं में सफलतापूर्वक एक उत्परिवर्तन को ठीक करने के लिए उपयोग किया था जिससे शरीर को हमारे आहार से अधिक लोहे को बनाए रखना चाहिए।

डॉ लियू ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, 'एक मशीन बनाना जो आनुवंशिक परिवर्तन करता है, आपको बीमारी का इलाज करना एक महत्वपूर्ण कदम है, लेकिन यह केवल एक रोगी के इलाज के लिए जरूरी है।

वे कहते है कि हमें अभी भी उस मशीन को बचाया जाना है। हमें अपनी सुरक्षा का परीक्षण देखना है हमें जानवरों और मरीजों में उसके लाभकारी प्रभावों का आकलन करना होगा और किसी दुष्प्रभाव से उन्हें बचाना होगा।

Next Story
Share it
Top