Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वर्ल्ड थैलेसीमिया डे: क्या है ''थैलेसीमिया'', जानें इस जानलेवा बीमारी के बारे में सब कुछ

वर्ल्ड थैलेसीमिया डे या विश्व थैलेसीमिया दिवस पूरे विश्व में थैलेसीमिया के लिए जागरूक करने के लिए मनाया जाता है। दरअसल, थैलेसीमिया ऐसी बीमारी है, जिसके बारे में ज्यादातर लोगों को पता ही नहीं है। थैलेसीमिया एक जेनेटिक बीमारी है और जानकारी के अभाव में यह पीढ़ी दर पीढ़ी बढ़ती चली जाती है।

वर्ल्ड थैलेसीमिया डे: क्या है थैलेसीमिया, जानें इस जानलेवा बीमारी के बारे में सब कुछ
X

वर्ल्ड थैलेसीमिया डे या विश्व थैलेसीमिया दिवस पूरे विश्व में थैलेसीमिया के लिए जागरूक करने के लिए मनाया जाता है। दरअसल, थैलेसीमिया ऐसी बीमारी है, जिसके बारे में ज्यादातर लोगों को पता ही नहीं है। थैलेसीमिया एक जेनेटिक बीमारी है और जानकारी के अभाव में यह पीढ़ी दर पीढ़ी बढ़ती चली जाती है।

थैलेसीमिया किसी को भी हो सकता है। बच्चों में यह मां-बाप से होता है। किसी बच्चे को थैलेसीमिया होने पर 6 महीने के अंदर ही थैलेसीमिया के लक्षण दिखने लगते हैं। आप सोच रहे होंगे कि आखिर थैलेसीमिया है क्या, तो इस बीमारी के बारे में सब कुछ जानें।

थैलेसीमिया क्या है

थैलेसीमिया एक ऐसी बीमारी है जो सामान्यतौर पर ब्लड को इफेक्ट करती है। थैलेसीमिया होने पर व्यक्ति के शरीर के हीमोग्लोबिन का स्तर प्रभावित होता है और शरीर में धीरे-धीरे खून की कमी होने लगती है।

साइंटिफिक भाषा में कहें तो सामान्य मनुष्य के शरीर में लाल रक्त कणों (RBC) की आयु तकरीबन 120 दिनों की होती है, लेकिन व्यक्ति को थैलेसीमिया होने के कारण RBC की उम्र घटकर 20 दिन हो जाती है, जिसके कारण सही तरह से ब्लड का निर्माण नहीं होता है।

यह भी पढ़ें: जमीन पर बैठकर खाना खाने से होते हैं ये कमाल के फायदे, पास नहीं भटकती ये बीमारियां

थैलेसीमिया के दो प्रकार

थैलेसीमिया सामान्यतौर पर दो प्रकार का होता है। एक माइनर थैलेसीमिया और दूसरा मेजर थैलेसीमिया। व्यक्ति के शरीर से एक क्रोमोजोम खराब होने पर माइनर थैलेसीमिया की स्थिति रहती है वहीं दोनों क्रोमोजोम खराब होने पर यह मेजर थैलेसीमिया का भी रूप ले सकता है।

बच्चों में थैलेसीमिया

बच्चों में थैलेसीमिया पहचानने के लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना पड़ेगा। बच्चे को थैलेसीमिया होने पर जन्म के 6 महीने बाद खून बनना बंद हो जाता है और बच्चे को बार-बार खून चढ़ाने की आवश्यकता होती है।

थैलेसीमिया के लक्षण

  • भूख कम लगना
  • बच्चे में चिड़चिड़ापन होना
  • सामान्य तरीके से विकास न होना
  • थकान होना
  • कमजोरी महसूस होना
  • त्वचा का पीला रंग (पीलिया) हो जाना
  • पेट में सूजन होना

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story