logo
Breaking

World Health Day 2019 : अगर आप भी खाते हैं ज्यादा नमक, तो जरूर पढ़ें इसके नुकसान और सेवन का सही तरीका

खाने में अगर नमक कम हो तो सारा स्वाद फीका हो जाता है। लेकिन दुनिया भर के वैज्ञानिक और कई शोध बताते हैं कि नमक का सेवन एक निश्चित मात्रा से अधिक नहीं करना चाहिए। ऐसा करना हेल्थ के लिए हार्मफुल हो सकता है। इस बारे में हम दे रहे हैं बहुत यूजफुल इंफॉर्मेंशंस।

World Health Day 2019 : अगर आप भी खाते हैं ज्यादा नमक, तो जरूर पढ़ें इसके नुकसान और सेवन का सही तरीका
World Health Day 2019 : अधिकतर लोगों को पता है कि नमक के ज्यादा सेवन से सेहत संबंधी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। लेकिन फिर भी बहुत से लोग स्पाइसी और जंक फूड में नमक का जरूरत से ज्यादा सेवन करते हैं। फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया की मानें तो एक औसत भारतीय प्रतिदिन करीब 10 ग्राम नमक का सेवन करता है, जो स्वास्थ्य वैज्ञानिकों द्वारा बताई गई मात्रा से दोगुना है। हालांकि अधिक मात्रा में नमक का सेवन आपको बीमार कर सकता है। लेकिन सामान्य मात्रा में इसका सेवन करना जरूरी भी है। ऐसे में इसके सेवन से जुड़ी सही जानकारी होना जरूरी है।

लो ब्लड प्रेशर के घरेलू उपचार : डाईट में शामिल करें ये चीज, तुरंत पाएं आराम

इसलिए है जरूरी

नमक शरीर के नर्वस सिस्टम और मांस-पेशियों में होने वाली कुछ जरुरी एक्टिविटीज पर नियंत्रण रखता है और शरीर को छोटी आंत से जो पोषक तत्व मिलते हैं, उन्हें एब्जॉर्ब करने में भी मदद करता है। नमक हमारे शरीर में विभिन्न पोषक तत्वों का परिवहन करता है और हमारी नर्व्स को मैसेज ट्रांसमिट करने की क्षमता देता है। इसके सेवन से हमारी मांस-पेशियां सुचारु रूप से कार्य करती हैं। नमक खाना बिल्कुल छोड़ देने से कमजोरी आ सकती है।

क्या कहता है अध्ययन

कुछ समय पहले दुनिया भर में किए गए 185 अध्ययनों की एक समीक्षा में पाया गया कि किसी को भले ही हाइपरटेंशन की शिकायत ना हो, इसके बावजूद उसे नमक का सेवन कम करना चाहिए। अमेरिकन जर्नल ऑफ पब्लिक हेल्थ में प्रकाशित एक अध्ययन की माने तो डेली डाइट में सोडियम का सेवन कम करके अकसर होने वाले सिर दर्द से भी मुक्ति पाई जा सकती है। इस अध्ययन के लिए 60 वर्ष से लेकर 80 वर्ष तक के 975 लोगों से पूछताछ की गई और उनके स्वास्थ्य आंकड़ों का विश्लेषण किया गया था।

ज्यादा सेवन हार्मफुल

अधिक नमक के सेवन से ऑस्टियोपोरोसिस हो सकता है। इससे हाई ब्लड प्रेशर (हाइपरटेंशन) भी हो सकता है, जिसकी वजह से दिल की बीमारियां, स्ट्रोक और किडनी फेल हो सकती है। एक ताजा रिपोर्ट में पता चला है कि बच्चों के फेवरेट जंक फूड्स में नमक और चीनी की मात्रा काफी अधिक होती है। इससे बच्चों में मोटापा और इससे संबंधित समस्याएं बढ़ती हैं। यह रिसर्च अमेरिका के रोग नियंत्रण केंद्र द्वारा किया गया था। बच्चों को हर दिन 1500 मिलीग्राम से अधिक नमक नहीं लेना चाहिए। बीएमजे ओपन जर्नल के ताजा अंक में प्रकाशित एक तुलनात्मक अध्ययन के नतीजे बताते हैं कि नमक का ज्यादा सेवन करना सिरदर्द का सबब बन सकता है। वैज्ञानिकों ने लोगों के तीन समूह तैयार किए और उन्हें तीस दिनों तक क्रमशः कम, मध्यम और अधिक मात्रा का सोडियम युक्त भोजन परोसा गया। जिन लोगों ने महीने भर तक 3300 मिलीग्राम नमक युक्त भोजन प्रतिदिन महीने भर तक किया, उनमें 1500 मिलीग्राम नमक युक्त भोजन करने वालों की तुलना में सिरदर्द की शिकायत तीन गुना ज्यादा थी।

ऐसे कम करें सेवन

अगर आपको अधिक नमक खाने की आदत है तो इसका सेवन एकदम कम करने के बजाय खाने-पीने की चीजों में से धीरे-धीरे नमक की मात्रा घटाएं। नमक के बजाय कई दूसरे तरीकों से स्वाद बढ़ा सकते हैं। बेहतर होगा कि ताजी सब्जियां अधिक मात्रा में इस्तेमाल करें। लहसुन, मसाले, नीबू का रस, काली मिर्च, ओरिगैनो, रोजमैरी और ताजी पिसी काली मिर्च डालें। मौसम के हिसाब से मिलने वाली सामग्री का इस्तेमाल करें, ताकि खाने में से ज्यादा से ज्यादा खुशबू आए। नमक का सेवन करने से बचने के लिए शुरू से ही हेल्दी ईटिंग हैबिट्स अपनाना बेहद जरूरी है। विशेष रूप से सलाद, दही और फलों पर नमक छिड़क कर खाने की आदत छोड़ दें। इसके अलावा अचार, पापड़, सलाद की ड्रेसिंग और टमाटर कैचप आदि में भी सोडियम कंटेंट काफी ज्यादा होता है, जिनके सेवन से बचना चाहिए।

उचित मात्रा

हेल्थ कंसल्टेंट्स के अनुसार हमें दिन भर में लगभग 5 ग्राम नमक की जरूरत होती है, लेकिन हम इससे कहीं ज्यादा नमक खाते हैं। गर्मियों और बरसात के उमस भरे मौसम में पसीना बहुत आता है, इसलिए इसकी मात्रा बढ़ा कर 5-8 ग्राम कर सकते हैं। इस मौसम में नमक कम खाने से ब्लड प्रेशर सामान्य से कम हो सकता है।
Share it
Top