Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दादा-दादी और नाना-नानी बच्चों के लिए क्यों होते हैं जरूरी, जानें वजह

बचपन की छुट्टियों में दादी और नानी के घर जाना और वहां की गई शरारतें तो आप सभी को याद ही होगीं, साथ ही खेल-खेल में हम कितनी सारी अच्छी बातें और आदतें सीख जाते थे। जिनका हमें पता जिंदगी की कठिनाईयों में लगता था।

दादा-दादी और नाना-नानी बच्चों के लिए क्यों होते हैं जरूरी, जानें वजह
X
बचपन की छुट्टियों में दादी और नानी के घर जाना और वहां की गई शरारतें तो आप सभी को याद ही होगीं, साथ ही खेल-खेल में हम कितनी सारी अच्छी बातें और आदतें सीख जाते थे। जिनका हमें पता जिंदगी की कठिनाईयों में लगता था।
लेकिन आज के दौर की न्यूकिलर फैमिली में बच्चों को अपने दादी-नानी का वो प्यार और लाड़ नहीं मिल पाता है, जिसका असर बच्चों के व्यक्तित्व पर साफ दिखाई देता है, इसलिए आज हम आपको बच्चों की जिंदगी में दादी और नानी के रिश्ते की अहमियत और जरूरत को बताने वाले हैं।

यह भी पढ़ें : अगर आप मैरिड लाइफ में कर रहे हैं ये गलती, तो आपका पार्टनर हो सकता है आपसे दूर

इन वजहों से दादी-नानी की बच्चों को होती है जरूरत :

1. अच्छी परवरिश - अगर आप अपने बच्चों को अपनी ही तरह की परवरिश देना चाहते हैं,तो उन्हें भी अपने दादा-दादी और नाना-नानी के पास जाने से न रोकें। क्योंकि उनके पास कहानियों और किस्सों में बहुत सारे संस्कार और व्यक्तित्व को निखारने के नुस्खे होते हैं। जो आज
2. धैर्य - धैर्य और सहनशक्ति और विनम्रता हम सबकी पर्सनेलिटी के वो गुण हैं, जिसके होने पर हम मुश्किल वक्त से लड़ने की हिम्मत रख पाते हैं। अगर आप भी अपने में गुण चाहते हैं कि बच्चे अपनी परेशानी को पहले समझे और बिना घबराए और घुटने टेकें उसको हल करने की कोशिश करें।

यह भी पढ़ें : अगर आपके ससुराल से रिश्तों में आ रही है दरार, तो इन 5 खास तरीकों को करें ट्राई

3. अनुभव - बड़े-बुजुर्गों को अक्सर अनुभवों का वो खजाना कहा जाता है जो कभी खत्म नहीं होता। जी हां, घर के बड़े अपने बच्चों और अपने नाती-पोतों को हर परेशानी से बचाने के लिए रोज नए-नए उपाय और टिप्स बताते हैं। जिनका असर कुछ समय के लिए ही नहीं बल्कि जिंदगी भर रहता है।
4. जेनेरेशन गैप को कम करने के लिए - आज के दौर में बच्चों और पेरेंट्स के बीच लगातार एक-दूसरे की बात न समझ पाने की वजह से दूरियां बढ़ती जा रही हैं। जिन्हें सिर्फ एक-दूसरे के साथ वक्त बिता कर ही दूर किया जा सकता है।ऐसे में अगर बच्चों को अपने दादी-नानी और दादा-नाना का साथ मिल जाता है तो कई बार बातों को बिगड़ने से रोका जा सकता है। इसका एक फायदा ये भी है कि घर के बड़े लोगों और बच्चों को अकेलेपन से नहीं जूझना पड़ेगा।
5. रिस्पेक्ट और केयर - आज जब दोनों ही पेरेंट्स वर्किंग होते हैं,जिससे बच्चे में सोशल मीडिया और अकेलेपन की वजह से कई गलत आदतें और बीमारियां होने लगती हैं। अगर ऐसे में बच्चे अपने ग्रेंड पेरेंट्स के साथ रहते हैं,तो उनमें बड़ों को देखकर दूसरों की केयर करना और उनकी रिस्पेक्ट करने जैसे गुणों का विकास होने लगता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story