Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जानें कब खाएं ''स्प्राउट्स'' और कब नहीं!

स्प्राउट्स खाने से कई लोगों को स्वास्थ्य समस्याएं भी हो जाती हैं।

जानें कब खाएं
नई दिल्ली. अंकुरित अनाज यानी स्प्राउट्स,साबुत, शुद्ध और प्राकृतिक भोजन है। इन्ंहें चमत्कारिक भोजन, संपूर्ण भोजन और सुपर फूड जैसे कई नामों से पुकारा जाता है। नेचरोपैथी में इन्हें मेडिसिनल फूड कहा जाता है। अंकुरित पदार्थों को हमारे द्वारा भोजन के रूप में लिए जाने वाले पदार्थों में सर्वाधिक ताजा और पोषक माना जाता है। लेकिन ऐसा नहीं है कि ये सभी के लिए सुपर फूड होते हैं। कई लोगों में इन्हें खाने से कुछ स्वास्थ्य समस्याएं हो जाती हैं। हम आपको बता रहे हैं, अंकुरित खाद्य पदार्थों को कितनी मात्रा में खाया जाए, कैसे खाया जाए, कब खाया जाएं और कब नहीं चलिए बताते हैं।
अगर आप गैसट्रिटाइटिस,डायरिया,गैस्ट्रिक अल्सर या पैंक्रियाटाइटिस के पेशेंट हैं तो स्प्राउट्स का सेवन न करें। इसके अलावा कई लोगों में अंकुरित खाद्य पदार्थ खाने से गैस की समस्या अधिक बढ़ जाती है, पेट फूल जाता है क्योंकि प्रोटीन को पचाना कठिन होता है और अंकुरण से प्रोटीन की मात्रा काफी बढ़ जाती है।
आयर्वेद के अनुसार गैस से वात बढ़ता है जिससे शरीर में असंतुलन बढ़ता है, जो कई रोगों का कारण है। ऐसे लोग केवल अंकुरित मूंग का सेवन करें क्योंकि यह पचने में आसान होता है और गैस भी कम बनाता है। इसके अंकुरित मूंग का सेवन करें क्योंकि यह पचने में आसान होता है और गैस भी कम बनाता है।
इसके अलावा इसे अंकुरित करने से पहले इसमें छोड़े से मेथीदाने मिला लें यह एक अच्छा मिश्रण है और इससे मूंग का पाचन और आसान हो जाता है। कई लोगों को कच्चे मोठ से एलर्जी हो जाती है। ऐसे लोग इसका सेवन ना करें, अंकुरित खाद्य पदार्थों के दूसरे विकल्प चुन सकते हैं।
स्प्राउट्स को उबालकर खाएं-

स्प्राउट्स में बैक्टीरिया आसानी से पनप जाते हैं, इसलिए उन्हें उबालकर या भाप में पकाकर खाना बेहतर रहता है। अगर आपको कब्ज, एनीमिया, ओवर वेट,डायबिटीज या हाई बीपी की प्रॉब्लम है तो फिर जो महिलाएं प्रेग्नेंट हैं तो उन्हें अकुरित खाद्य पदार्थों को भाप में पकाकर खाना चाहिए।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top