Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

EBOLA: चमगादड़ के कारण फैलती हैं यह बिमारी, वैज्ञानिकों ने माना

वैज्ञानिक मानते हैं कि यह वायरस जानवरों से आया है, उनमें भी चमगादड़ को इसका सबसे बड़ा कैरियर माना जाता है।

EBOLA: चमगादड़ के कारण फैलती हैं यह बिमारी, वैज्ञानिकों ने माना
नई दिल्ली. भारत में इबोला का पहला मरीज़ आना बेहद घातक संकेत हैं। इबोला वायरस की चपेट में वह भारतीय आया, जो हाल ही में लाइबेरिया से भारत आया था। उसका इलाज दिल्ली में शुरू हो चुका है, लेकिन इस एक केस के बाद से इबोला पर चर्चा एक बार फिर गर्म हो गई है। इसी चर्चा के अंतर्गत हम आपको यहां इबोला के बारे में ऐसी जानकारियां देने जा रहे हैं, जिनसे पहले आप शायद कभी भी रू-ब-रू नहीं हुए थे।1976 में पहली बार इस वायरस की खोज हुई थी और अफ्रीका के जंगलों के बीच गांवों से यह कैसे शहरों तक पहुंचा और पूरी दुनिया में इसका खौफ कैसे उत्पन्न हुआ यह आप आगे पढ़ेंगे। वैसे तो इबोला कई अफ्रीकी देशों में पाया जाता है, लेकिन पहली बार यह इबोला नदी के किनारे 1976 में पाया गया था। यह नदी कॉन्गो में है। कुछ ही वर्षों बाद से बीच-बीच में अफ्रीका के कई देशों में इबोला के केस पाये जाने लगे। लेकिन आज तक किसी को नहीं पता चल पाया है कि क्या इबोला वायरस इबोला नदी से ही निकल कर आया है? वैज्ञानिक मानते हैं कि यह वायरस जानवरों से आया है, उनमें भी चमगादड़ को इसका सबसे बड़ा कैरियर माना जाता है।

ऐसा होने पर ही फैलता है यह वायरस :

1. अगर आपके चोट लगी हुई है और खुली चोट इबोला से ग्रसित व्यक्तिक के संपर्क में आती है तो उसके पसीने से होते हुए वायरस आपकी चोट में प्रवेश कर सकता है।

2. अगर आप किसी ऐसे पुरुष/स्त्री के होठ से होठ मिलाकर चुंबन लेते हैं, जो इबोला से ग्रसित है, तो वायरस म्यूकस के जरिये आप पर तुरंत हमला कर देगा।

3. अगर इबोला ग्रसित व्यक्ति/ का पसीना किसी चीज़ पर लगता है और उस चीज़ के संपर्क में आप आते हैं, तो आप पर वायरस का हमला हो सकता है।

4. इबोला से ग्रसित व्यक्तिै का जूठा खाने-पीने, उसके साथ सोने या संभोग, मुख मैथुन, ओरल सेक्स, आदि करने से भी वायरस फैलता है।

5. अगर उस जानवर के संपर्क में आप आते हैं, जो इबोला से ग्रसित है, तो खतरा हो सकता है। जानवरों में मुख्य रूप से चमगादड़, बंदर, गोरिल्ला शामिल हैं।

6. इबोला से ग्रसित महिला का स्तन पान करने यानी ब्रेस्ट मिल्क पीने से यह वायरस अटैक कर सकता है।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, इसके बारे में -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Top