Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

आई ड्रॉप की दो बूंदे आपको बना सकती है अंधा

लोग कंजंक्टिवाइटिस के इलाज में आई ड्रॉप का इस्तेमाल करते है।

आई ड्रॉप की दो बूंदे आपको बना सकती है अंधा

मानसून के मौसम में बीमारी होने का डर रहता है। उनमें से एक इंफेक्शन कंजंक्टिवाइटिस है।

लोग कंजंक्टिवाइटिस के इलाज में आई ड्रॉप का इस्तेमाल करते है। लेकिन लोगों को पता नहीं होता कि आई ड्रॉप का ज्यादा इस्तेमाल नुकसानदायक होता है।

इंटरनेशनल जर्नल ऑप्थैलमॉलजी में प्रकाशित रिसर्च के मुताबिक करीब 60 प्रतिशत कंजंक्टिवाइटिस इंफेक्शन वायरस की वजह से होता है और इसके इलाज में एंटीबायॉटिक का कोई रोल नहीं होता।

इसे भी पढ़ें- टूथपेस्ट से भी पता लगा सकती हैं आप प्रेग्नेंट या नहीं, ऐसे

कंजंक्टिवाटिस आंखों के आगे की सतह में पाई जाने वाली बेहद महीन झिल्ली होती है उसमें जलन और लालीपन आ जाता है।

और इस वजह से आंखें खुद को सेल्फ लिमिट कर लेती हैं। मॉनसून के सीजन में कंजंक्टिवाइटिस होना सामान्य बात है क्योंकि इस दौरान नमी बहुत ज्यादा रहती है।

कई मौको पर ऐंटीबायॉटिक्स देना जरूरी होता है। लेकिन इनके बहुत अधिक इस्तेमाल से बचना चाहिए अन्यथा आंखों की सतह को नुकसान पहुंच सकता है।

एम्स के आर पी आई सेंटर के हेड और प्रफेसर डॉक्टर अतुल कुमार कहते हैं, 'ऐंटीबायॉटिक्स पहले इसलिए प्रिस्क्राइब की जाती थीं ताकि कॉर्निया को किसी तरह का सेकंडरी इंफेक्शन न हो।

वायरस की वजह से होने वाला कंजंक्टिवाइटिस अपने आप ही एक सप्ताह के अंदर ठीक हो जाता है।

लेकिन डॉक्टर्स कहते हैं कि बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से होने वाला कंजंक्टिवाइटिस कई केस में कॉर्निया तक फैल जाता है।

इसे भी पढ़ें- health tips: तनाव से बचने के लिए करें ये आसान उपाय

कॉर्निया में इंफेक्शन और घाव आंखों को स्थायी तौर पर नुकसान पहुंचा सकता है।

Next Story
Top