Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

भारतीयों से ज्यादा खुश हैं पाकिस्तानी,वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट का दावा, जानिए वजह

सोमवार को संयुक्त राष्ट्र ने इस साल की World Happiness Report जारी की। जिसके मुताबिक भारत पिछले साल के मुकाबले इस साल 11 पायदान फिसल गया है। इसका मतलब ये हुआ कि हमारे देश के लोग 2017 की तुलना में इस साल ज्यादा दुखी और परेशान पाए गए। जबकि हमारे पड़ोसी और सार्क देश भी खुशियों के मामले में हमसे आगे रहे हैं। यहीं नहीं, खुशियों के इंडेक्स में पाकिस्तान भी भारत से कहीं ज्यादा खुश देश पाया गया है।

भारतीयों से ज्यादा खुश हैं पाकिस्तानी,वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट का दावा, जानिए वजह
सोमवार को संयुक्त राष्ट्र ने इस साल की World Happiness Report जारी की। जिसके मुताबिक भारत पिछले साल के मुकाबले इस साल 11 पायदान फिसल गया है। इसका मतलब ये हुआ कि हमारे देश के लोग 2017 की तुलना में इस साल ज्यादा दुखी और परेशान पाए गए। जबकि हमारे पड़ोसी और सार्क देश भी खुशियों के मामले में हमसे आगे रहे हैं। यहीं नहीं, खुशियों के इंडेक्स में पाकिस्तान भी भारत से कहीं ज्यादा खुश देश पाया गया है।
दरअसल United Nation हर साल दुनिया के लगभग 156 देशों में खुशियों का सर्वे कराता है। इस सर्वे के तहत दुनिया के विभिन्न देशों के लोगों की खुशियों से उनकी सेहत और व्यवहार के बारे में अध्ययन करने में मदद मिलती है।
खुशी का स्तर जांचने के लिए देशों का 6 आधारों पर अध्ययन किया जाता है, जिसमें देशों की प्रति व्यक्ति आय, सामाजिक सहायता, स्वस्थ जीवन, जन्म के वक्त स्वास्थ्य का स्तर, अपने निर्णय लेने की स्वतंत्रता, उदारता और भ्रष्टाचार को लेकर लोगों की सोच शामिल होते हैं।
इसके अलावा सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव, हर साल के हिसाब से प्रभावित करने वाली वजहों का अध्ययन भी किया जाता है। जिसके हिसाब से देशों को प्वाइंट्स दिए जाते हैं और उन प्वाइंट्स के हिसाब से उनकी लिस्ट बनाई जाती है।
आपको बता दें कि इस साल वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट के जरिए सर्वे में शरणार्थियों की समस्या को मुख्य मुद्दा बनाया गया था और जिन देशों से लोगों का पलायन हो रहा है और वे जहां जा रहे हैं, वहां उनके मुद्दों का अध्ययन इस रिपोर्ट को तैयार करने के लिए किया गया। इसके साथ ही कुल 117 देशों में शरणार्थियों की खुशी का अध्ययन भी किया गया था।

यह भी पढ़ें : डाइट चार्ट बनाते वक्त भूलकर भी न करें ये गलतियां, सेहत हो सकती है खराब

भारत के पड़ोसी हैं ज्यादा खुश

जी हां, भारत को पड़ोसी और सार्क मित्र देश भी भारत से खुशियों के मामले में काफी आगे हैं। जहां इस, रिपोर्ट में भारत 133 नंबर पर हैं, तो वहीं भारत के सबसे बड़े दुश्मन कहा जाने वाला पाकिस्तान भी भारत से 58 पायदान ऊपर यानि कि 75 वें पायदन पर काबिज है।
इस हैप्पीनेस रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया में सबसे ज्यादा खुश लोग एक छोटे से देश फिनलैंड में रहते हैं। जबकि पिछले साल इस लिस्ट में नॉर्वे टॉप पर था। दुनिया के 5 ऐसे देश जिनके नागरिक सबसे ज्यादा खुश हैं - फिनलैंड, नॉर्वे, डेनमार्क, आइसलैंड और स्विट्जरलैंड।

ये हैं रिपोर्ट में सबसे नाखुश देश

इसके अलावा दुनिया के सबसे नाखुश देश अफ्रीका के पाए गए हैं जिनमें बुरुंडी, सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक, दक्षिण सूडान, तंजानिया और यमन। भारत के अलावा अमेरिका और ब्रिटेन जैसे डेवलप देश भी पिछड़ गए हैं। वर्ल्ड हैप्पीनेस इंडेक्स में पाकिस्तान की रैकिंग के लिए, पाकिस्तान में बिजनेस को लेकर दी गई छूट को माना जा रहा है।

ये हैं पाकिस्तान के खुश होने की वजह

क्योंकि इससे लोगों को बिजनेस से जुड़े अपने आर्थिक फैसले लेने में मदद मिलती है। पिछले साल जारी की गई इकॉनमिक फ्रीडम रैंकिंग में पाकिस्तान भारत से ऊपर था।भारत इस लिस्ट में जहां 143वें नंबर पर था तो पाकिस्तान 141वें नंबर पर था।
यह रैंकिंग दिखाती है कि बिजनेस फ्रीडम और सरकारी संस्थाओं के व्यापार को बढ़ावा देने पर खर्च के मामले में पाकिस्तान ने अच्छी तरक्की की है। तो वहीं, इस साल पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति खस्ताहाल हो गई है।
Next Story
Top