Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

समझिए सेल्फ एंपॉवरमेंट की इंपॉर्टेंस क्या से क्या हो जाएगी जिंदगी

जब आप सशक्त या एंपॉवर्ड होंगी तो हर मुश्किल का सामना कर सकेंगी, अपनी लाइफ के डिसीजन आसानी से ले पाएंगी। लेकिन कई महिलाएं यह नहीं समझ पाती हैं, खुद को एंपॉवर कैसे किया जाए? इसके लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा।

ऐसे बनाइए अपनी इंप्रेसिव पर्सनालिटी
X

कोरोना संक्रमण के कारण हमारी सहज, सामान्य जिंदगी में बहुत अनचाहे बदलाव हुए हैं। जिनके कारण हमें कई परेशानियों का सामना करना पड़ा। इसके कारण महिलाओं पर काम का बोझ बढ़ने के साथ तनाव और चिंता भी बढ़ी है। इन तनावों की वजह से वे कोई भी निर्णय आसानी से नहीं ले पा रही हैं। लेकिन समझने वाली बात यह है, मुश्किल परिस्थितियों से हारकर बैठने की बजाय, यह वक्त अपनी जिंदगी को संभालने और संवारने का है। इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरी है, सेल्फ एंपॉवरमेंट। जब आप एंपॉवर होंगी तो हर मुश्किल का सामना आसानी से कर पाएंगी।

क्या है सेल्फ एंपॉवरमेंट

आसान भाषा में अपना आत्मविश्वास-आत्मसम्मान ऊंचा रखते हुए, अपनी मानसिक-शारीरिक क्षमताओं को बढ़ाकर, अपनी जिंदगी का कंट्रोल अपने हाथ में लेना ही सेल्फ एंपॉवरमेंट कहा जाता है। जब आप जिंदगी को अपने तरीके से जीने और अपने निर्णय अपनी मर्जी से लेने के काबिल हो जाती हैं तो आप खुद को सेल्फ एंपॉवर कह सकती हैं।

ऐसे कीजिए खुद को एंपॉवर

खुद को सशक्त यानी एंपॉवर करने के लिए आपको कुछ छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देना चाहिए-

आप क्या चाहती हैं : सबसे पहले आप यह तय करें कि आप चाहती क्या हैं? जब तक सामने कोई मंजिल या लक्ष्य नहीं होगा, तब तक आप अपनी लाइफ जर्नी की सही प्लानिंग नहीं कर पाएंगी। ये गोल्स सिर्फ प्रोफेशनल फ्रंट के नहीं आपकी एकेडमिक लाइफ, सोशल और पर्सनल लाइफ के भी तय होने चाहिए। इससे लाइफ में पॉजिटिविटी बढ़ती है। जब जिंदगी का हर पहलू पॉजिटिव होगा, तभी आप खुद को एंपॉवर फील कर पाएंगी।

आपकी अड़चनें क्या हैं : अगर आप अपनी कोशिशों के बावजूद आगे नहीं बढ़ पा रही हैं तो परिस्थितियों का आकलन करें, खुद की समीक्षा करें। इससे आप समझ जाएंगी कि कौन सी चीजें आपको आगे बढ़ने से रोक रही हैं। अगर आपके आस-पास नेगेटिव किस्म के लोग हैं तो उनसे दूरी बढ़ाएं। आपकी सोच नेगेटिव है तो उसे बदलें। आलस्य या काम टालने की आदत है तो इसे छोड़ दें। आगे बढ़ने के लिए ऐसा करना बहुत जरूरी है।

आपकी प्रॉयोरिटीज क्या हैं : कई बार हम गैर जरूरी काम को करने में इतने मशगूल हो जाते हैं कि असल या जरूरी बातों पर ध्यान नहीं दे पाते हैं। हम अकसर इसलिए भी पिछड़ जाते हैं। ऐसे में अपनी एनर्जी का इस्तेमाल सही डायरेक्शन में करने के लिए सबसे पहले आप अपनी प्रॉयोरिटीज की लिस्ट बनाएं। टॉप टेन जरूरी कामों की लिस्ट बनाएं। जो काम होते जाएं, लिस्ट में से उन्हें हटाती जाएं और नए काम जोड़ती जाएं। इससे आपकी मेहनत और ऊर्जा सही कामों में खर्च होगी।

आपको कब खुशी मिलती है : आप तनाव भरे माहौल में, आधे-अधूरे या उदास मन के साथ किसी भी काम को सही ढंग से नहीं कर पाएंगी। न आपका तन साथ देगा, न मन। इसलिए ऐसी बातें और काम को पहचानें जो आपको खुशी और सुकून देती हैं। इन्हें आजमा कर जब आप अपना मूड अच्छा करेंगी और तब किसी काम में जुटेंगी तो पूरी ऊर्जा के साथ उसे पूरा कर पाएंगी। इससे आपका आत्मविश्वास और बढ़ जाएगा।

क्या आपको खुद पर है भरोसा : सेल्फ एंपॉवरमेंट कभी भी दूसरों के भरोसे हासिल करने की न सोचें। इसे आपको खुद के लिए खुद ही हासिल करना होता है। इसलिए बदलाव की उम्मीद दूसरों से नहीं बल्कि खुद से करें। हो सकता है, आपके एटीट्यूड में आए चेंज को शुरू-शुरू में लोग सहज रूप से न लें लेकिन धीरे-धीरे लोगों को इसकी आदत पड़ जाएगी। आप बस, इस बात पर ध्यान दें कि खुद को कैसे इंप्रूव कर सकती हैं, अपने जीवन को कैसे संवार सकती हैं?

इनको भी आजमाएं

जाने-माने मोटिवेशनल राइटर, लाइफ कोच डेविड जे श्वार्ट्ज ने अपनी बुक 'बड़ी सोच का बड़ा जादू' में सेल्फ एंपॉवरमेंट के कुछ खास टिप्स बताए हैं। आप इन्हें भी अपनी लाइफ में आजमा सकती हैं।

-खुद का कम मूल्यांकन करने की गलती न करें।

-अपनी योग्यताओं, गुणों का उपयोग करें।

-अपनी दिनचर्या में और दूसरों से बात करते समय ऐसे शब्दों का इस्तेमाल करें, जिनसे विजय, आशा, सुख ,आनंद के भाव झलकते हैं। निराशा पैदा करने वाले शब्दों से बचें।

-अपने नजरिए को बड़ा करें। सिर्फ यह न देखें कि आपके पास क्या है बल्कि यह भी देखें कि आपके पास और क्या हो सकता है?

-छोटी बातों से ऊपर उठें। अपना ध्यान बड़े लक्ष्यों पर लगाएं।

Next Story