Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Free Visa For Indians: भारतीयों को इन देशों में घूमने के लिए नहीं पड़ेगी वीजा की जरूरत, विदेश राज्य मंत्री ने दी जानकारी

Free Visa For Indians : हाल ही में राज्यसभा में सरकार ने जानकारी दी है। जहां जाने के लिए भारतीयों को पासपोर्ट की जरूरत नहीं पड़ती है। मुरलीधरन ने राज्यसभा को लिखित जवाब मे बताया है कि दुनिया में 43 देश ऐसे हैं जो वीजा ऑन अराइवल सर्विस देता है। इसके साथ ही उन्होंने इस बात की भी जानकारी ही कि 36 देश ऐसे हैं जहां भारतीय साधारण पासपोर्ट धारकों की ई-वीजा प्रदान करते हैं।

भारतीयों को इन देशों में घूमने के लिए नहीं पड़ेगी वीजा की जरूरत, विदेश राज्य मंत्री ने दी जानकारी
X
यहां जाने के लिए नहीं पड़ेगी वीजा की जरूरत (फाइल फोटो)

Free Visa For Indians: दुनिया में ऐसे कई देश हैं जहां जाने पर पासपोर्ट (Passport) धारक भारतीयों को वीजा (Visa) की जरूरत नहीं होती है। हाल ही में राज्यसभा (Rajya Sabha) में सरकार ने जानकारी दी है। जहां जाने के लिए भारतीयों (Indians) को पासपोर्ट की जरूरत नहीं पड़ती है। मुरलीधरन ने राज्यसभा को लिखित जवाब मे बताया है कि दुनिया में 43 देश ऐसे हैं जो वीजा ऑन अराइवल (Visa- On- Arrival) सर्विस देता है। इसके साथ ही उन्होंने इस बात की भी जानकारी ही कि 36 देश ऐसे हैं जहां भारतीय साधारण पासपोर्ट धारकों की ई-वीजा (E-Visa) प्रदान करते हैं।

ये हैं वो देश

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बारबाडोस, भूटान, डोमिनिका, ग्रेनाडा, हैती, हांगकांग SAR,मोंटसेराट, मालदीव, समोआ, सेनेगल, मॉरीशस,नेपाल, नीयू द्वीप, त्रिनिदाद और टोबैगो, सेंट विंसेंट और ग्रेनेडाइंस और सर्बिया का सफर करने के लिए वीजा की जरूरत नहीं पड़ती है।

भारतीयों को नहीं पड़ेगी वीजा की जरूरत

केंद्र सरकार (Central Government) द्वारा मिली जानकारी के अनुसार इंडोनेशिया, ईरा और म्यांमार वो देश हैं, जो वीजा-ऑन-अराइवल सुविधा प्रदान करते हैं। वहीं श्रीलंका, न्यूजीलैंड और मलेशिया उन 26 देशों के समूह में हैं, जिनके पास ई-वीजा सुविधा है।

Also Read: Jharkhand : घूमने का कर रहे हैं प्लान तो झारखंड की इस जगह जरूर जाएं, मिलेगा बहुत ही सुकून

इंटरनेशनल यात्रा को आसान बनाने का है उद्देश्य

वहीं मंत्री ने बताया कि सरकार इंटरनेशनल यात्रा को आसान बनाने के लिए इंडियन्स को वीजा मुक्त यात्रा, वीजा ऑन अराइवल और ई वीजा सुविधा देने वाले देशों की संख्या बढ़ाने की कोशिश कर रही है।

Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story