Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अगर आप शिमला-मसूरी घूमकर हो गए है बोर, तो चलिए इस बार गंगटोक की हसीन वादियों में

सिक्किम नेपाल और भूटान की सीमा पर स्थित है

अगर आप शिमला-मसूरी घूमकर हो गए है बोर, तो चलिए इस बार गंगटोक की हसीन वादियों में
गंगटोक. गंगटोक भारत के उत्तर पूर्व में स्थित सिक्किम की राजधानी है। यह अपने ऐतिहासिक मठों तथा प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है। गंगटोक भारत के महत्‍वपूर्ण हिल स्‍टेशनों में एक है। यह शहर पारम्‍परिकता और आधुनिकता का मिश्रण है। गंगटोक समुद्र तल से 1547 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां बौद्ध धर्म से संबंधित बहुत से महत्‍वूपर्ण स्‍थान हैं।

ये हैं चीन के 10 सबसे सुंदर कस्बे, जहां हर कोई जाना चाहेगा

सिक्किम नेपाल और भूटान की सीमा पर स्थित है।19वीं शताब्‍दी में गंगटोक यहां की राजधानी बना। यह सिक्किम के दक्षिणी भाग में स्थित है। यह शहर रानीपुल नदी के तट पर बसा हुआ है। इस शहर से पूरी कंचनजंघा श्रेणी को देखा जा सकता है। यहां के लोग कंचनजंघा को देवी के रुप में पूजते हैं। इस शहर में सालों भर वर्षा होती है। इस कारण यहां सालोभर सुहाना (हल्‍का ठंडा) मौसम रहता है। पर्यटक यहां सालों भर घूमने जा सकते हैं।

क्‍या देखें यहां देखने लायक कई स्‍थान हैं जैसे, गणेश टोक, हनुमान टोक तथा ताशि व्‍यू प्‍वांइट। अगर आप गंगटोक घूमने का पूरा लुफ्त उठाना चाहते हैं तो इस शहर को पैदल घूमें। यहां से कंचनजंघा नजारा बहुत ही आकर्षक प्रतीत होता है। इसे देखने पर ऐसा लगता है मानो यह पर्वत आकाश से सटा हुआ है तथा हर पल अपना रंग बदल रहा है।

चीन में बना है दुनिया का अनोखा ब्रिज, जो है GLASS पर टिका

यहां के मठ, स्‍तूप तथा प्राकृतिक सुंदरता के कारण गंगटोक यात्रा आपके जेहन में हमेशा रहेगी।अगर आपकी बौद्ध धर्म में रुचि है तो आपको इंस्‍टीट्यूट ऑफ तिब्‍बतोलॉजी जरुर घूमना चाहिए। यहां बौद्ध धर्म से संबंधित अमूल्‍य प्राचीन अवशेष तथा धर्मग्रन्‍थ रखे हुए हैं। यहां अलग से तिब्‍बतियन भाषा, संस्‍कृति, दर्शन तथा साहित्‍य की शिक्षा दी जाती है। इन सबके अलावा आप प्राचीन कलाकृतियों के लिए पुराने बाजार, लाल बाजार या नया बाजार भी घूम सकते हैं।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Share it
Top