logo
Breaking

जानें- गुर्दे की पथरी से निजात पाने के घरेलू व सरल उपाय

आजकल हर दूसरा व्यक्ति पथरी की समस्या से परेशान है।

जानें- गुर्दे की पथरी से निजात पाने के घरेलू व सरल उपाय
नई दिल्ली. अगर किसी कारण से पेशाब गाढा हो जाता है तब शरीर में पथरी होना शुरू हो जाता है। पहले छोटे-छोटे दाने बनते हैं बाद में दाने बढ जाते हैं जिसे पथरी कहते हैं। आजकल हर दूसरा व्यक्ति पथरी की समस्या से परेशान है। पथरी होने की कोई उम्र नहीं होती है, यह किसी भी उम्र में हो जाती है। पथरी होने पर ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए। शरीर में पानी की कमी होने से गुर्दे में पानी कम छनता है। पानी कम छनने से शरीर में मौजूद कैलशियम, यूरिक एसिड और दूसरे पथरी बनाने वाले तत्व गुर्दे में फंस जाते हैं, जो बाद में धीरे-धीरे पथरी का रूप ले लेते हैं।
शरीर में अम्लता बढने से लवण जमा होने लगते हैं और जम कर पथरी बन जाते हैं। शुरुवात में कई दिनों तक मूत्र में जलन आदि होती है, जिस पर ध्यान ना देने से स्थिति बिगड़ जाती है। जिसको भी शरीर मे पथरी है वो चुना कभी ना खाएं! (काफी लोग पान मे डाल कर खा जाते हैं) क्योंकि पथरी होने का मुख्य कारण आपके शरीर मे अधिक मात्रा मे कैलशियम का होना है। मतलब जिनके शरीर मे पथरी हुई है उनके शरीर में जरुरत से अधिक मात्रा मे कैलशियम है। लेकिन वो शरीर मे पच नहीं रहा है, इसलिए आप चुना खाना बंद कर दीजिए।
किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज के सर्जरी विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. विनोद जैन का कहना है कि दूध व बादाम का नियमित सेवन से पथरी की संभावना कम होती है। गुर्दे की पथरी एक बार होने के बाद दोबारा भी हो सकती है। खान-पान पर नियंत्रण रखकर पथरी की आशंका को कम कर सकते हैं।
नीचे की स्‍लाइड्स में पढ़ि‍ए, कैसे करें पथरी का घरेलू उपचार -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Share it
Top