Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शादी को हो गया है ज्यादा टाइम, तो ऐसे करें अपने पार्टनर से प्यार फिर से नया हो जाएगा रिश्ता

शादी के बाद का शुरुआती समय कपल्स के लिए बहुत ही रोमांटिक होता है, जिंदगी बहुत हसीन लगती है। लेकिन बाद में नौकरी, तमाम तरह की व्यवस्थाओं और पारिवारिक जिम्मेदारियों के बीच खुद के लिए ही समय नहीं मिल पता है। यहां तक कि कपल्स एक-दूसरे के लिए भी समय नहीं निकाल पाते हैं, जबकि इस समय वे जिंदगी का सबसे खुशनुमा दौर जी सकते हैं। इसके लिए आपको अपनानी होंगी कुछ बातें।

शादी को हो गया है ज्यादा टाइम, तो ऐसे करें अपने पार्टनर से प्यार फिर से नया हो जाएगा रिश्ता
X

प्रतीकात्मक तस्वीर 

Relationship Tips : शादी के बाद का शुरुआती समय कपल्स के लिए बहुत ही रोमांटिक होता है, जिंदगी बहुत हसीन लगती है। लेकिन बाद में नौकरी (Job), तमाम तरह की व्यस्तताओं और पारिवारिक जिम्मेदारियों (Family Responsibilities) के बीच खुद के लिए ही समय नहीं मिलता। यहां तक कि कपल्स (Couples) एक-दूसरे के लिए भी समय (Time) नहीं निकाल पाते। इस तरह की जिंदगी (Life) जीते हुए वे बढ़ती उम्र में भी कई बार खुद को निराशा से घिरा पाते हैं। जबकि इस समय वे जिंदगी का सबसे खुशनुमा दौर जी सकते हैं। इसके लिए आपको अपनानी होंगी कुछ बातें।

पारिवारिक जिम्मेदारियां निभाते-निभाते एक युवा जोड़ा (Young Couple) कब उम्रदराज हो जाता है, कुछ पता ही नहीं चलता। इस बीच उनके बच्चे बड़े होकर अपने जॉब और गृहस्थी में व्यस्त हो जाते हैं। कई के तो बच्चे दूसरे शहर, दूसरे राज्य या देश से बाहर भी चले जाते हैं। ऐसे में ओवरएज्ड कपल अकेले रह जाते हैं। उम्र के इस पड़ाव पर उनके पास दो विकल्प होते हैं, वे दुखी होते हुए जीवन को बिताएं या फिर इसे अपनी जिंदगी का सबसे अहम और खास समय मानते हुए उत्साहपूर्वक जिएं। जाहिर-सी बात है, आप जिंदगी को उत्साह-उमंग से जीना चाहेंगे, इसके लिए आपको कुछ बातों को अपने जीवन का हिस्सा बनाना होगा।

अपनी हॉबीज पूरी करें (Fulfill Your Hobbies) : हर किसी की बहुत-सी हसरतें, शौक होते हैं, जिन्हें वे पारिवारिक जिम्मेदारियों के कारण पूरा नहीं कर पाते हैं। ऐसे में सारी जिम्मेदारियां पूरी होने पर, एक उम्र के बाद आप उन पुरानी हसरतों और शौकों को पूरा कर सकते हैं, जिसकी किसी दौर में दिल में ख्वाहिश हुआ करती थी। जैसे-आप पेंटिग कर सकते हैं, म्यूजिक सीख सकते हैं, फिल्में या प्ले देख सकते हैं। जो भी हॉबीज (Hobbies) आप दोनों के मन को खुशी दें, उन्हें पूरा कर सकते हैं। मनोवैज्ञानिकों का कहना है, हॉबीज में इंवॉल्व होकर ना सिर्फ मन को खुश रखा जा सकता है, तन को भी स्वस्थ रखा जा सकता है।

आएं नए रोल में : ओवरएज्ड कपल्स (Overaged Couples) एक अच्छे माता-पिता (Parents) होने का फर्ज निभा चुके होते हैं। लेकिन उम्र के इस पड़ाव पर समाज (Society) के लिए कुछ करने का, जिम्मेदार नागरिक बनने का समय आपके पास अभी भी होता है। ऐसे में सभा-संस्थाओं से जुड़ें और अपनी शारीरिक-मानसिक क्षमता के अनुरूप काम करें। आप गरीब बच्चों को पढ़ाने, किसी कमजोर-असहाय वृद्ध दंपती की दैनिक जरूरतों को पूरा करने, (जैसे दवा आदि लाने का काम, उनके लिए सरकारी कागजात या अन्य कार्यवाहियां पूरी करने) में मदद कर सकते हैं। अपनी सोसायटी में एक्टिव रोल (Active Role) निभाकर वहां के मेंटेनेंस, कॉर्डिनेशन का काम कर सकते हैं। मोहल्ले की समस्याओं के लिए नगर निगम या अन्य सरकारी विभागों में आवाज उठा सकते हैं। इससे कपल्स का मन पॉजिटिविटी से भर जाएगा। साथ ही सोसायटी में रेस्पेक्ट भी बढ़ेगी।

साथ में बिताएं क्वालिटी टाइम (Quality time) : बच्चों की परवरिश के दौरान, साथ ही दूसरी तरह की व्यस्तताओं के चलते कपल्स को यह शिकायत रहती है कि वे कभी साथ बैठकर दो पल नहीं बिता पाते हैं। अब बच्चों की कोई जिम्मेदारी नहीं है, खुद भी रिटायर हो चुके हैं, तो अब आपके पास काफी वक्त है। इस दौरान कपल्स सुकून के साथ समय बिता सकते हैं। दोनों साथ में सुबह की सैर पर जाएं। शाम को भी कॉलोनी के पार्क में टहलें। घर के कामों में भी एक-दूसरे का साथ दें। इस तरह दोनों खूब क्वालिटी टाइम (Quality time) बिता सकते हैं। इससे दोनों के रिश्तों में एक ताजगी आएगी। उनका रिश्ता शादी के शुरुआती दौर जैसा हसीन-सा लगेगा।

इंटरनेट-सोशल मीडिया फ्रेंडली बनें (Be Internet-Social Media Friendly) : सीखने की कोई उम्र नहीं होती। ओवरएज्ड कपल्स भी उन चीजों को सीख सकते हैं, जो नए जमाने में जरूरी हैं। जैसे इंटरनेट का इस्तेमाल करके आवश्यक सेवाओं, वस्तुओं और अपनी रुचि के विषयों पर जानकारी वाली सामग्री खोजना। यू-ट्यूब पर गाने, गजल सुनना। मोबाइन से ई-मेल करना और पढ़ना, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से बड़ी संख्या में लोगों से बातचीत करना जैसी आदत डालें। इससे ना सिर्फ आपका मन खुश होगा बल्कि बदलते जमाने की नई जानकारियां मिलती रहेंगी। आप अपडेट रहेंगे। ये बातें आपको नई पीढ़ी से जोड़ने का काम भी करेंगी।

हेल्थ पर फोकस करें (Focus on health) : एक उम्र के बाद शरीर की कार्यप्रणाली और कई अंग तुलनात्मक रूप से कमजोर हो जाते हैं। शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कम होने लगती है। इसलिए सुबह-शाम 45 मिनट से 1 घंटे का समय अपनी फिजिकल, मेंटल फिटनेस के लिए रिजर्व करें। वॉकिंग, जॉगिंग, मेडिटेशन के साथ-साथ म्यूजिक सुनने, फल सब्जियों का सेवन करने, सादा भोजन लेने की आदत बनाएं। फिर कोरोना काल में तो उम्रदराज लोगों को अपनी हेल्थ पर ज्यादा फोकस करने की जरूरत है।

रिश्तेदारों से बॉन्डिंग बढ़ाएं (Increase bonding with relatives) : मिडएज में जब कपल्स (Couples) परिवार और बच्चों की जिम्मेदारियों में उलझे होते हैं तो रिश्तेदारों, दोस्तों से कम ही मिल पाते हैं, इससे उनकी बॉन्डिंग सही ढंग से नहीं रह पाती है। उम्रदराज होने पर कपल्स के पास काफी समय होता है, ऐसे में अपने पुराने दोस्त, रिश्तेदार से मिले-जुलें। इन दिनों कोरोना टाइम (Covid Period) चल रहा है तो उनसे फोन पर, सोशल मीडिया पर रेग्युलर टच में रहें। उनके साथ पुरानी मीठी यादें ताजा करें, बातें करें। इससे आपके रिश्ते बेहतर बनेंगे और सोशल सिस्टम स्ट्रॉन्ग होगा। मुश्किल समय में यही करीबी लोग आपके काम आते हैं, आपकी मदद करते हैं। इसलिए ओवरएज्ड कपल्स अपने सगे-संबंधियों (Relatives) से अपनी बॉन्डिंग को स्ट्रॉन्ग करें।

Next Story