logo
Breaking

डायबिटीज और HIV से बचाने के लिए बच्चे को ऐसे कराएं स्तनपान

जो मां 6 महीने या अधिक समय तक अपने बच्चे को स्तनपान कराती है उस बच्चे में टाइप 2 डायबीटीज होने का खतरा 47 प्रतिशत तक घट जाता है।

डायबिटीज और HIV से बचाने के लिए बच्चे को ऐसे कराएं स्तनपान

जो मां 6 महीने या अधिक समय तक अपने बच्चे को स्तनपान कराती है उस बच्चे में टाइप 2 डायबीटीज होने का खतरा 47 प्रतिशत तक घट जाता है। जामा इंटरनल मेडिसीन में प्रकाशित शोध में यह बात कही गई है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO और अमेरिकी बाल रोग अकादमी से पता चला हैं कि नवजात बच्चे के लिए मां का दूध बहुत ही लाभकारी होता है। शिशु के लिए 6 महीने तक मां का दूध पौष्टिक आहार माना जाता है। आइए जानते है कि मां का दूध बच्चे को और किन बीमारियों से बचा सकता है..

इसे भी पढ़े: प्राइवेट पार्ट की खुलजी से छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये तरीके

स्तनपान के फायदे

मां के दूध में प्रोटीन, विटमिन, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, मैग्निशियम जैसे तत्व पाए जाते हैं। इसलिए यह नवजात बच्चे के लिए अमृत जैसा है और बच्चे को कई बीमारियों से लड़ने की ताकत देता है। इसके अलावा बच्चे का पाचन सिस्टम स्वस्थ रहता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। साथ ही दिमाग, हड्डियां आदि को मजबूती मिलती है। शिशु में एक्जिमा और अस्थमा के खतरे को भी कम करता है मां का दूध।

HIV का खतरा कम

मां का दूध नवजात को HIV जैसी खतरनाक बीमारी से भी बचाता है। मां के दूध में ओलिगोसैक्राइड्स नामक कुछ बायोऐक्टिव की उच्च मात्र होती है। यह प्रसव के बाद संक्रमित मां से शिशुओं में एचआइवी को पहुंचने से रोक देता है।

बचाता है कैंसर से

स्तनपान जिस तरह बच्चे के लिए बहुत लाभदायक है उसी तरह यह मां के लिए भी बहुत उपयोगी है। स्तनपान कराने से मां में ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरे बहुत कम हो जाता है। साथ ही मां का दूध बच्चे को भी कैंसर से बचता है। मां के दूध में ट्रेल नामक प्रोटीन पाया जाता है जो लिम्फोब्लास्टिक नामक रोग से बचाव करता है।

दांतों में छय रोग करे कम

नवजात के जन्म के बाद बहुत सारी बीमारियां शुरू हो जाती हैं और इसका प्रमुख कारण है की बच्चे का कमजोर शरीर। छोटे बच्चे के दांत बहुत ही कमजोर होते हैं और इनमें छय रोग दूर करने के लिए मां का दूध लाभदायक होता है।

आंखों की रोशनी तेज

नवजात शिशु के लिए मां का दूध, बच्चे की आंखों की रोशनी बढ़ाने में मददगार होता है। मां के दूध में फैटी ऐसिड होता है जो बेहतर दृष्टि और एकाग्रता के लिए महत्वपूर्ण है। इसके अलावा यह आंखों में होने वाली किसी भी बीमारी से लड़ने की क्षमता रखता है।

Share it
Top