Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वर्ल्ड हार्ट डे: ऐसे रखें पूरा ध्यान, नहीं होगी हार्ट प्रॉब्लम

शरीर के सभी अंगों तक ब्लड सप्लाई करने का सबसे इंपॉर्टेंट काम हमारा हार्ट करता है।

वर्ल्ड हार्ट डे: ऐसे रखें पूरा ध्यान, नहीं होगी हार्ट प्रॉब्लम
X
नई दिल्ली. हार्ट हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है, यह हम सभी जानते हैं। लेकिन क्या हम अपने हार्ट का पूरा ध्यान रखते हैं? शायद नहीं। यही वजह है कि आज की जीवनशैली और अनियमित आहार के कारण 30 से 40 साल की उम्र में ही लोगों को दिल के रोग होने लगे हैं। यह समस्या इतनी आम हो चुकी है कि हर परिवार में कोई न कोई सदस्य हृदय रोग से ग्रस्त मिल जाता है। यही नहीं बल्कि अब तो छोटी उम्र के बच्चे भी इस बीमारी का शिकार होते जा रहे हैं। बता दें कि शरीर के सभी अंगों तक ब्लड सप्लाई करने का सबसे इंपॉर्टेंट काम हमारा हार्ट करता है। इसलिए इसमें किसी भी प्रकार की गंभीर समस्या खतरनाक हो सकती है। हार्ट प्रॉब्लम्स से बचने के लिए इसका पूरा ध्यान रखने के साथ ही उन लक्षणों के प्रति जागरूक होने की जरूरत है, जो हार्ट डिजीज के कारण हो सकते हैं। वर्ल्ड हार्ट दिवस के मौके पर जानिए महत्वपूर्ण जानकारी, इसका रखेंगे ध्यान तो नही होगी हार्ट प्रॉब्लम।
हार्ट प्रॉब्लम्स की वजह
रफ लाइफस्टाइल, तनाव, एक्सरसाइज ना करने और अनियमित फूड हैबिट्स की वजह से लोगों को दिल से संबंधित गंभीर रोग होने लगे हैं। हृदय रोग, दुनिया में मृत्यु और विकलांगता का प्रमुख कारण है और हृदय रोगों के कारण हर साल किसी और रोग की तुलना में अधिक मौतें होती हैं। इसीलिए यह बेहद जरूरी है कि हम अपने हृदय की सेहत का खास ख्याल रखें और स्वस्थ जीवन व्यतीत करें।
लापरवाही है खतरनाक
स्वस्थ शरीर के लिए स्वस्थ दिल का होना बहुत जरूरी है, इसलिए दिल के प्रति लापरवाही बिल्कुल भी नहीं बरतनी चाहिए। एक बार हार्ट अटैक झेल चुके हृदय के मरीजों को तो अत्यंत सावधानी के साथ अपनी जीवन शैली में बदलाव अपनाने चाहिए। कई बार लोग इतने लापरवाह होते हैं कि उन्हें पता ही नहीं होता है, उनके दिल को स्वस्थ रखने के लिए क्या खाएं, कैसा लाइफस्टाइल अपनाएं? यही कारण है कि हर साल आज ही के दिन यानी वल्र्ड हार्ट डे के जरिए लोगों में हृदय रोग के प्रति जागरूकता फैलाने का कार्य किया जाता है। क्योंकि हृदयाघात के लक्षणों को जानना हर किसी के लिए जरूरी है। कई बार इसके लक्षण इतने सामान्य दिखते हैं कि इन्हें मामूली दर्द समझा जाता है। परंतु वो कितना घातक है, इसका अंदाजा लोगों को नहीं होता है। इसलिए हार्ट पेन को कभी इग्नोर न करें।
हृदय रोगों के प्रकार
कोरोनरी धमनी रोग: कोरोनरी हृदय रोग, हृदय रोगों में बेहद आम बात है। यह बीमारी धमनियों में जमाव होने के कारण होती है, जो हृदय में रक्त के बहाव को रोक कर हार्ट फेलियर और स्ट्रोक के खतरे को बढ़ा देता है।
हाइपरटेंसिव हृदय रोग: यह हाई बीपी के कारण उत्पन्न होने वाला हृदय रोग है। हाई बीपी दिल और रक्त वाहिकाओं पर प्रेशर डालता है, जिसके परिणामस्वरूप दिल की बीमारियां होती हैं।
रूमेटिक ह्रदय रोग: यह बीमारी रूमेटिक फीवर से जुड़ी हुई है। यह एक ऐसी अवस्था है, जिसमें हृदय के वॉल्व एक बीमारी के कारण क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। यह बीमारी स्ट्रेप्टोकोकल बैक्टीरिया के गले के संक्रमण से शुरू होती है। अगर इसका इलाज नहीं किया जाए तो गले का यह संक्रमण रूमेटिक बुखार में बदल जाता है। बार-बार के रूमेटिक बुखार से ही रूमेटिक हृदय रोग विकसित होता है। रूमेटिक बुखार ऐसी बीमारी है, जो शरीर में हृदय, जोड़ों, मस्तिष्क और त्वचा को जोड़ने वाले ऊतकों को प्रभावित करती है।
जन्मजात हृदय रोग: यह रोग जन्म के समय हृदय की संरचना की खराबी के कारण होती है। जन्मजात हृदय की खराबियां हृदय में जाने वाले रक्त के सामान्य प्रवाह को बदल देती हैं। जन्मजात हृदय की खराबियों के कई प्रकार होते हैं, जिसमें मामूली से गंभीर प्रकार तक की बीमारियां शामिल हैं।
हृदय रोग के कारण
आमतौर पर हॉर्ट प्रॉब्लम्स के कारणों में शामिल हैं-कोलेस्ट्रॉल बढ़ना, ध्रूमपान, शराब पीना, तनाव, आनुवांशिक, मोटापा, उच्च रक्तचाप।
हृदय रोगों के लक्षण
दिल की बीमारियों के शुरुआती लक्षण बहुत महतवपूर्ण होते हैं, जिन्हें समय से पहचान कर गंभीर दिल की बीमारियों से बचा जा सकता है।
छाती में बेचैनी महसूस होना- यदि आपकी आर्टरी ब्लॉक है या फिर हार्ट अटैक है तो आपको छाती में दबाव महसूस होगा और दर्द के साथ ही खिंचाव महसूस होगा।
मितली, हार्टबर्न और पेट में दर्द होना- दिल संबंधी कोई भी गंभीर समस्या होने से पहले कुछ लोगों को मितली आना, सीने में जलन, पेट में दर्द होना या फिर पाचन संबंधी दिक्कतें आने लगती हैं।
हाथ में दर्द होना- कई बार दिल के रोगी को छाती और बाएं कंधे में दर्द की शिकायत होने लगती है। ये दर्द धीरे-धीरे हाथों की तरफ नीचे की ओर जाने लगता है।
कई दिनों तक कफ बनना- यदि आपको काफी दिनों से खांसी-जुकाम हो रहा है और थूक सफेद या गुलाबी रंग का हो रहा है तो ये हार्ट फेल का एक लक्षण हो सकता है।
सांस लेने में दिक्कतें होना- सांस लेने में दिक्कत होना या फिर कम सांस आना हार्ट फेल होने का प्रमुख लक्षण है।
पसीना आना- सामान्य से अधिक पसीना आना खासतौर पर तब जब आप कोई शारीरिक क्रिया नहीं कर रहे हों तो ये आपके लिए हार्ट प्रॉब्लम की चेतावनी हो सकती है।
पैरों में सूजन- पैरों में, टखनों में, तलवों में और एंकल्स में सूजन आने का मतलब ये भी हो सकता है कि आपके हार्ट में ब्लड का सकरुलेशन ठीक से नहीं हो रहा है।
हाथ-कमर और जॉ में दर्द होना- हाथों में दर्द होना, कमर में दर्द होना, गर्दन में दर्द होना और यहां तक कि जॉ में दर्द होना भी दिल की बीमारियों का एक लक्षण हो सकता है।
चक्कर आना या सिर घूमना- कई बार चक्कर आने, सिर धूमने, बेहोश होने, बहुत थकान होने जैसे लक्षण भी हृदय रोग के कारण हो सकते हैं। हमेशा इन लक्षणाों के प्रति सचेत रहें।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story