Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

महिलाओं के चूड़ी पहनने के पीछे होते हैं ये हैरान करने वाले कारण, आप भी पढ़कर चौंक जाएंगे

अक्सर आपने महिलाओं को चूड़ियां पहने देखा होगा। लेकिन कभी आपने ये सोचा कि आखिर महिलाएं हाथों में चूड़ियां और कड़े क्यों पहनती हैं। नहीं न, तो, चलिए आज हम आपको बताते हैं इसके पीछे छुपे कारण...

महिलाओं के चूड़ी पहनने के पीछे होते हैं ये हैरान करने वाले कारण, आप भी पढ़कर चौंक जाएंगे

अक्सर आपने महिलाओं को चूड़ियां पहने देखा होगा। लेकिन कभी आपने ये सोचा कि आखिर महिलाएं हाथों में चूड़ियां और कड़े क्यों पहनती हैं। नहीं न, तो, चलिए आज हम आपको बताते हैं इसके पीछे छुपे कारण...

लड़कियों और महिलाओं में आपने अक्सर चूड़ियों को लेकर एक अलग सा क्रेज देखा होगा।महिलाओं को सोने,चांदी,कांच,मेटल के अलावा लाख की चूड़ियां भी काफी पसंद आती हैं।

यही नही, हमारे शास्त्रों में हर त्योहार और मंगल कार्यों में भी महिलाओं को नई चूड़ियां पहनने का विधान बताया गया है। आमतौर पर चूड़ियों को लड़कियों और महिलाओं की सबसे अच्छी सहेली या दोस्त भी माना जाता है।

यह भी पढ़ें : अगर जंक,जूट और थ्रेड ज्वेलरी से हो गई हैं बोर, तो लेटेस्ट Fabric jewelry करें ट्राई

चूड़ियां पहनने के कारण :

1. सबसे पहले चूड़ियों को महिलाओं के श्रृंगार से जोड़ा जाता है। ऐसा नहीं है कि इन्हें सिर्फ परंपराओं और रीति रिवाज के लिए ही पहना जाता है। आज के मार्डन जमाने में भी महिलाएं फैशन के नाम पर ही सही हाथ में चूडियां और कड़े पहनना पसंद करती हैं।

2. वैज्ञानिकों ने एक शोध में पाया कि महिलाएं जिस भी धातु या मेटल की चूड़ियां हाथों में पहनती हैं। उस धातु का असर उनके शरीर पर भी पड़ता है। जैसे-सोने और चांदी की धातु से महिलाओं को मानसिक शांति मिलती है ।

3. कांच की लाल रंग की चूड़ियां पहनने से महिलाओं में रक्त संचार और ऊर्जा का स्तर सही बना रहता है। साथ ही लाल रंग को शुभता और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है।

यह भी पढ़ें : पार्टी और फंक्शन्स में दिखना है स्टाईलिश और ब्यूटीफूल, तो अपनाएं ये मेकअप ट्रिक्स

4. इसके अलावा चूड़ियों पर हुए एक और शोध में ये पता चला कि चूड़ियां पहनने से लड़कियों और महिलाओं के हाथों के प्रेशर प्वाइंट्स पर दबाव पड़ता है। जिससे वे मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूत हो जाती हैं और कई सारी बीमारियों के होने से बच जाती हैं।

5. धार्मिक मान्यता है कि महिलाओं की चूड़ियों में दरार आना या उसके टूटने को अपशगुन माना जाता है। लेकिन वैज्ञानिक इसे महिलाओं के पास मौजूद नकारात्मक ऊर्जा की वजह मानते हैं। जब भी महिलाओं के पास नकारात्मक ऊर्जा का स्तर बढ़ जाता है, तो उसके प्रभाव से ही चूड़ियां टूटती हैं।

Share it
Top