logo
Breaking

अगर आप जीना चाहते हैं एक खुशहाल जिंदगी, तो अपनी जिदंगी में लाएं ये 5 आसान बदलाव

खुद को फिजिकली हेल्दी-एनर्जेटिक बनाए रखने के लिए आप पूरी तरह कॉन्शस रहते हैं, लेकिन लाइफ को अच्छी तरह जीने के लिए मेंटली भी हेल्दी-हैप्पी रहना जरूरी है। इसके लिए लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करने होगें।

अगर आप जीना चाहते हैं एक खुशहाल जिंदगी, तो अपनी जिदंगी में लाएं ये 5 आसान बदलाव

खुद को फिजिकली हेल्दी-एनर्जेटिक बनाए रखने के लिए आप पूरी तरह कॉन्शस रहते हैं, लेकिन लाइफ को अच्छी तरह जीने के लिए मेंटली भी हेल्दी-हैप्पी रहना जरूरी है। इसके लिए लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करने होगें।

लाइफ को मेंटली हेल्दी-हैप्पी बनाने के लिए दुनिया भर के कई विशेषज्ञों ने छोटे, आसान और बेहद कारगर उपाय सुझाए हैं...

यह भी पढ़ें : आंखों को कांटेक्ट लेंस से बनाना है खूबसूरत, तो कभी न करें ये गलती, हो सकता हैं आई इंफेक्शन

1.फ्रेंड्स के साथ एक्सरसाइज

न्यू इंग्लैंड कॉलेज ऑफ ऑस्टियोपैथिक मेडिसिन के शोधकर्ताओं ने पाया कि दोस्तों के साथ वर्कआउट करने से न सिर्फ शारीरिक बल्कि मानसिक सेहत भी खूब दुरुस्त रहती है।

इन वैज्ञानिकों द्वारा आयोजित ग्रुप क्लासेज में शामिल लोगों ने जब 12 हफ्ते के एक्सरसाइज प्रोग्राम में हिस्सा लिया, तो उनकी फिजिकल फिटनेस अच्छी पाए जाने के साथ ही स्ट्रेस लेवल भी काफी कम पाया गया।

2.दोस्तों के साथ एंज्वॉयमेंट

‘वॉकिंग ऑन सनशाइन-52 स्मॉल स्टेट्स टू हैप्पीनेस’ की लेखिका रैशेल केली कहती हैं, ‘किसी के लिए कुछ अच्छा करना या किसी को उपहार आदि देना आपको मन की संतुष्टि और सुकून देता है। अपने दोस्तों के साथ चाय-कॉफी पीना, पिलाना या उनके साथ एंज्वॉय करना मत भूलिए, आपका मूड अच्छा रहेगा।’

यह भी पढ़ें : अगर आप भी दिन भर करते हैं थकान महसूस, तो इन संकेतों को न करें इग्नोर, हो सकती है ये गंभीर बीमारी

3.बदलें कमरे का रंग

स्लीप एक्सपर्ट नील रॉबिंसन कहते हैं कि अगर आप अकसर मेंटली टेंशन में रहते हैं तो अपने बेडरूम की कलर स्कीम बदलने पर विचार करें। कमरे का रंग मूड और नींद की क्वालिटी पर काफी असर डालता है।

4.नेचर के करीब

पब्लिक हेल्थ न्यूट्रीशनिस्ट और टी एडवाइजरी पैनल की सलाहकार डॉ. एम्मा दर्बीशायर कहती हैं कि आपको जब समय मिले तब किसी उद्यान में, नदी के किनारे या समुद्र तट जैसी कुदरती जगहों पर टहलना चाहिए, साइकिल चलानी चाहिए या पास जाकर बैठ जाना चाहिए। नेचर की आवाज और दृश्य का मन पर बहुत पॉजिटिव इफेक्ट पड़ता है।

5.लोगों से हंसकर मिलें

पॉजिटिव साइकोलॉजिस्ट लेस्ले लाइल, जो ‘लॉफ योर वे टू हैप्पीनेस’ की लेखिका भी हैं, कहती हैं, ‘जब भी आप अपने वर्कप्लेस पर जा रहे हों, तो रास्ते में कम से कम तीन लोगों से हंसते-मुस्कुराते हुए मिलें। बदले में सामने वाला भी मुस्कुराए बिना नहीं रह सकेगा और इससे आपको मानसिक सुकून मिलेगा।’

Share it
Top