Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मां के हाथों बनी रोटी-सब्जी होगी लंच बॉक्स में तो एक्टिव बनेंगे बच्चे

पढ़ाई लिखाई हो या फिर खेल-कूद, हर जगह अपका बच्चा अव्वल आए।

मां के हाथों बनी रोटी-सब्जी होगी लंच बॉक्स में तो एक्टिव बनेंगे बच्चे

पढ़ाई लिखाई हो या फिर खेल-कूद, हर जगह अपका बच्चा अव्वल आए। इसके लिए उनके स्कूल लंच बॉक्स में किस तरह के डाइट आप शामिल कर रहे हैं। यह उनके एक्टिव, हेल्थ, फिजिकली, मेंटली ग्रोथ में इम्पॉर्टेंट रखता है।

चाइल्ड स्पेलिस्ट व डाइटीशियन व टीचर्स का कहना है कि यदि बच्चों के लंच बॉक्स में बाहर के बने फास्ट फूड्स व ब्रेड , बिस्किट, मैगी, पास्ता जैसे वसा व अधिक कार्बोहाइड्रेड वाले फूड्स की जगह मां के हाथों बनी।

इसे भी पढ़े:-एक्सरसाइज करने से पहले ट्रेनर से सलाह लेना है बेहद जरूरी

रोटी-सब्जी, पराठे, फ्रूट्स, उबला अंडा, दाल-गेहूं का कॉबिनेशन वाली डिश, जिसमें प्रोटीन, विटामिन्स वाले हेल्दी फूड्स जो अधिक समय तक ताजा रह सकें, उन्हें बच्चों के लंच बॉक्स में शामिल करें।

आज कल की व्यस्तता व वर्किंग लाइफ स्टाइल में कई मम्मी-पापा ऐेसे हैं, जो बच्चों की लंच बॉक्स पर ध्यान नहीं देते और भागम भाग में फास्ट फूड्स को उनके लंच बॉक्स में शामिल कर रहे हैं।

कई बच्चे स्कूल की कैंटीन या बैग में पैक्ड फूड्स भी रख कर जाते हैं। इस तरह के फास्ट फूड बच्चों की हेल्थ, ग्रोथ में हानिकार प्रभाव डाल रहें हैं। बच्चों के लंच बॉक्स में किस तरह के हेल्दी डाइट्स पैरेंट्स शामिल करनी चाहिए, ये बात रहे हैं शहर के जाने माने चाइल्ड हेल्थ एंड डायटीशियन व टीचर्स।

फास्ट व पैकेट फूड को करें इग्नोर

डाइटीशियन का कहना है कि स्कूली बच्चों के लंच बॉक्स में सभी तरह के फास्ट फूड, पैकेट फूड्स को पूरी तरह अवाइड करना चाहिए। बच्चों के डाइट में विटामिन, प्रोटिन की प्रचूरता वाले आइटम्स को शामिल करना चाहिए।

इसमें सब्जी-रोटी, उबला हुआ अंडा, दाल-चावल, मौसमी फ्रूट्स और होम मेड एनर्जी ड्रिंक्स आदि शामिल करने चाहिए।

असंतुलित डाइट से हो सकती है ओबेसिटी की समस्या

बच्चे तभी एक्टिव, हेल्दी व शार्प माइंड होंगे, जब उन्हें सही तरह के पोषण अहार मिलेगा, क्योंकि बच्चे स्कूल में पढ़ाई के साथ उछल कूद करते हैं। साथ ही उनमें बीमारियां से प्रोटेक्ट भी करना है। इन सबके लिए संतुलित भोजन जरूरी है।

फास्ट फूड्स व पैकेट वाले फूड्स में जरूरत से ज्यादा कार्बोहाइड्रेड होते हैं, जो बच्चों में मोटापे की समस्या बढ़ा सकता है। जब मोटापा बढ़ेगा, तो बच्चों में आंख, माइंड, एक्टिविटी आदि से जुड़ी समस्या पैदा होने लगेंगी।

डॉ. अशोक भट्टर, शिशु रोग विशेषज्ञ

बच्चों के पाचन सिस्टम को ध्यान में रखकर चुने डाइट

बच्चों का पाचन सिस्टम बहुत ही सेंसेटिव होते हैं, तली-भूंजी या ज्यादा ऑइली खाने उन्हें सूट नहीं करते। एेसे में बच्चों को जो डाइट खाने में सूट करे, उसी तरह की डाइट उनके लंच बॉक्स में शामिल करें, तो किसी तरह की समस्या नहीं होगी और बच्चे हेल्दी व एक्टिव रहेंगे।

डॉ. पीके वाडेर, शिशु रोग विशेषज्ञ

Next Story
Top