Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सर्दी में रखें दिल का खास ख्याल, गजक रेवड़ी से बनाए रखें दूरी

सर्दी में गजक, रेवड़ी या तिल के लडडू के सेवन से हो सकती है परेशानी।

सर्दी में रखें दिल का खास ख्याल,  गजक रेवड़ी से बनाए रखें दूरी
कानपुर. सर्दी में दिल को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। सर्दी भगाने के लिए गजक, रेवड़ी या तिल के लडडू से भी दूरी बनाए रखें। कड़ाके की सर्दी उच्च रक्तचाप के मरीजों तथा दिल की बीमारी से पीड़ित लोगों के लिए परेशानी का सबब बन सकती है और ऐसे में उन्हें साथ खान पान पर विशेष ध्यान देने के साथ तेल और मक्खन से बने खाद्य पदाथरें से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि जरा सी लापरवाही उन्हें अस्पताल पहुंचा सकती है।


संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (पीजीआई) के कार्डियोलोजी विभाग के प्रोफेसर सुदीप कुमार ने एक विशेष बातचीत में बताया कि सर्दियां बच्चों और बुजुगरें के लिए तो खतरनाक होती हैं, उन लोगों के लिए सबसे अधिक परेशानी का कारण बन सकती हैं जो कि हाई ब्लड प्रेशर के मरीज हैं या दिल की किसी बीमारी से पीड़ित हैं। उनका कहना है कि इस मौसम में शराब का इस्तेमाल कतई न करें क्योंकि शराब के सेवन से फौरी तौर पर तो ठंड कम लगेगी, लेकिन इससे ब्लड प्रेशर बढ़ जाएगा और ब्लड शुगर में भी वृद्धि होने से नुकसान होने का खतरा है।
डाक्टरों के अनुसार ठंड के मौसम में पसीना नहीं आने से शरीर में नमक का स्तर बढ़ जाता है, जिससे रक्तचाप बढ़ जाता है। कार्डियालोजिस्ट प्रो. कुमार ने बताया कि सर्दी में सामान्यत: शारीरिक गतिविधियां कम हो जाती हैं और लोग व्यायाम वगैरह से भी कतराते है जिससे रक्तचाप बढ़ने की संभावना बढ़ जाती है। यह बढ़ा हुआ रक्तचाप ब्रेन स्ट्रोक की आमद की दस्तक भी हो सकता है। वह रोगियों को सर्दी के मौसम में पराठे, पूरी और अधिक चिकनाई वाले खादय पदाथोर्ं से बचने की सलाह देते हुए कहते हैं कि सर्दी में दिल को ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है, जो कभी कभी उस पर भारी पड़ जाती है। सर्दी भगाने के लिए शराब के अलावा गजक, रेवड़ी या तिल के लडडू से भी दूरी बनाए रखें। ठंड के मौसम में कार्डियोलोजी विभाग में मरीजों की संख्या में भारी इजाफा हो जाता है और इसकी वजह आम तौर पर बदपरहेजी ही होती है।

Next Story
Top