Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गन्ने का जूस ज्यादा पीना भी है नुकसानदायक, ये है वजह

गर्मी के मौसम में गन्ने का जूस पीने का मजा ही अलग है। गन्ने की मिठास, नींबू की खटास और पालक-पुदीने के रस की ठंडक से भरे इस स्वादिष्ट जूस को पीने के कई फायदे हैं।

गन्ने का जूस ज्यादा पीना भी है नुकसानदायक, ये है वजह
X

गर्मी के मौसम में गन्ने का जूस पीने का मजा ही अलग है। गन्ने की मिठास, नींबू की खटास और पालक-पुदीने के रस की ठंडक से भरे इस स्वादिष्ट जूस को पीने के कई फायदे हैं। गर्मियों में गन्ने का रस शरीर को हाइड्रेट रखता है यानि शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है। इसमें ढेर सारे पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो इस मौसम में शरीर को ठंडा और स्वस्थ रखने के लिए जरूरी हैं।

गन्ने के रस में कैल्शियम, मैग्नीशियम, मैंगनीज, फास्फोरस, पोटैशियम, क्रोमियम, कोबाल्ट और जिंक जैसे तत्व पाए जाते हैं। इसमें आयरन, विटामिन ए, सी, बी-कॉम्प्लेक्स, प्रोटीन और फाइबर भी काफी मात्रा में पाया जाता है। फायदेमंद होते हुए भी गन्ने के रस का ज्यादा मात्रा में सेवन कई बार नुकसानदायक हो सकता है।

हो सकते हैं रोग

बाजार में ठेले पर पर बिकने वाले जूस को निकालने में अक्सर साफ-सफाई का खयाल नहीं रखा जाता है। ठेले के आस-पास मक्खियां, मधुमक्खियां आदि भिनभिनाते रहते हैं और पहले से छीले हुए गन्ने पर बैठकर उन्हें दूषित करते रहते हैं। इसके अलावा बाजार में बिकने वाले जूस में जिस बर्फ का इस्तेमाल किया जाता है अक्सर वो बर्फ गंदे और दूषित पानी से बने होते हैं इसलिए ठेले पर और खुले में बिकने वाले जूस आपको कई गंभीर बीमारियां जैसे हैजा, डायरिया, फूड प्वायजनिंग आदि दे सकते हैं।

बढ़ सकता है मोटापा

गन्ने का जूस पीने में स्वादिष्ट लगता है, लेकिन आपको बता दें कि गन्ने के जूस में काफी मात्रा में कैलोरी और शुगर पाया जाता है। अगर आप गन्ने के जूस के शौकीन हैं तो एक ग्लास से ज्यादा इसका सेवन आपका मोटापा बढ़ा सकता है। गन्ने के एक ग्लास जूस में लगभग 270 कैलोरीज होती हैं और लगभग 100 ग्राम शुगर होता है। इसलिए गन्ने का जूस आपकी डेली कैलोरी डाइट को बिगाड़ सकता है।

कई शारीरिक परेशानियां

गन्ने के जूस में एक तत्व होता है, जिसे पॉलिकोसैनोल्स कहते हैं। ये तत्व शरीर में एल्कोहल जैसा प्रभाव पैदा करता है। ज्यादा मात्रा में गन्ने के जूस का सेवन या लंबे समय तक इसके सेवन से चक्कर आना, दिमाग अस्थिर होना, हल्का नशे जैसा महसूस होना या सिर दर्द की समस्या हो सकती है। इसके अलावा ये तत्व शरीर में खून को पतला बनाता है।

जल्दी खराब हो जाता है ये रस

कई बार बाजार में देर से निकाले गए गन्ने के रस को ही आपको दे दिया जाता है या फिर कुछ लोग बाजार से पैक करवाकर बाद में घर या ऑफिस में इस जूस को पीते हैं। ये आपके लिए नुकसानदायक होता है क्योंकि गन्ने का रस निकालने के 15 मिनट बाद ही ऑक्सिडाइज होना शुरू हो जाता है। ज्यादा देर से निकाले गए गन्ने का रस पीने से कई बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

ताजा गन्ने का रस पीने के फायदे

गन्ने का रस अगर आपने अपने सामने ताजा निकलवाया है और उसमें साफ-सफाई का ध्यान रखा गया है तो इस रस के 300-400 मिली लीटर यानि एक से डेढ़ ग्लास के सेवन से शरीर को कई फायदे मिलते हैं। गन्ना इंस्टैंट एनर्जी का अच्छा स्रोत है। इसके अलावा ये लू के प्रभाव को कम करता है और गर्मी में होने वाली सामान्य परेशानियों से हमें बचाता है। एनीमिया रोगियों के लिए गन्ने के रस का सेवन बहुत फायदेमंद है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story