Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सिर्फ प्रेग्नेंसी में ही नहीं किशोरावस्था में भी होता है स्ट्रेच मार्क्स, जानें इससे जुड़े ऐसे ही कई तथ्य

स्ट्रेच मार्क्स का दाग अगर शरीर पर एक बार पड़ जाए तो इसे हटाना मुश्किल होता है। बाजारों में मिलने वाली स्ट्रेच मार्क्स रिमूवल क्रीम से लेकर घरेलू नुस्खों के बाद यह दाग आसानी से नहीं जाता।

सिर्फ प्रेग्नेंसी में ही नहीं किशोरावस्था में भी होता है स्ट्रेच मार्क्स, जानें इससे जुड़े ऐसे ही कई तथ्य

Stretch Marks Facts

स्ट्रेच मार्क्स का दाग अगर शरीर पर एक बार पड़ जाए तो इसे हटाना मुश्किल होता है। बाजारों में मिलने वाली स्ट्रेच मार्क्स रिमूवल क्रीम से लेकर घरेलू नुस्खों के बाद यह दाग आसानी से नहीं जाता।

ज्यादातर लोग यही मानते हैं कि स्ट्रेच मार्क्स सिर्फ प्रेग्नेंसी के दौरान ही पड़ते हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। स्ट्रेच मार्क्स युवावस्था में भी पड़ सकते हैं। जी हां, स्ट्रेच मार्क्स से जुड़े कई ऐसे तथ्य हैं, जिनके बारे में लोगों को नहीं मालूम है। जानिए स्ट्रेच मार्क्स से जुड़े फैक्ट्स-

प्रेग्नेंसी-किशोर अवस्था में होता है

स्ट्रेच मार्क्स प्रेग्नेंसी के बाद तो होता ही है, लेकिन किशोरावस्था में ही हो सकता है। हार्मोनल चेंजेस के कारण किशोर अवस्था में शरीर पर स्ट्रेच मार्क्स आ जाते हैं। साथ ही कुछ दवाइयों की वजह से कोलेजन प्रोडक्शन से टकराकर इलास्टिसिटी को कम कर देते हैं, जिससे शरीर पर ऐसा निशान उभर जाता है।

अलग स्किन टोन के अलग स्ट्रेच मार्क्स

अलग-अलग स्किन टोन के अलग-अलग स्ट्रेच मार्क्स पड़ते हैं। गोरी त्वचा पर हल्के लाल और पिंक रंग के स्ट्रेच मार्क्स पड़ते हैं। वहीं टैन त्वचा पर आपकी स्किन से लाइट कलर के स्ट्रेच मार्क्स पड़ते हैं। अगर बात करें हर वक्त खींची रहने वाली त्वचा की तो इस पर पिगमेंट-प्रोडक्शन सेल्स डैमेज होते हैं, जिस वजह से मार्क्स सांवले हो जाते हैं।

ये स्ट्रेच मार्क्स जल्दी ठीक होते

कुछ स्ट्रेच मार्क्स ऐसे होते हैं, जो हल्के बैंगनी या गुलाबी रंग के होते हैं वह आसानी से ठीक हो जाते हैं। वहीं, पुराने सफेद स्ट्रेच मार्क्स मुश्किल से ठीक होते हैं। अगर आपकी स्किन पर हल्के गुलाबी रंग के स्ट्रेच मार्क्स हैं तो समझ जाएं आपकी त्वचा से ये निशान घरेलू तरीकों से ठीक हो सकते हैं। इसके लिए आप नींबू के रस और ऐलोवेरा का इस्तेमाल कर सकते हैं।

ऊपरी सतह पर नहीं मार्क

स्किन पर साफतौर पर दिखने वाले ये स्ट्रेच मार्क्स स्किन की ऊपरी पर्त पर नहीं बल्कि बीच की लेयर पर होते हैं, जिसे डरमिस कहा जाता है। त्वचा के खींचने के कारण यह थोड़े वक्त के लिए शरीर पर दिखने लगते हैं। उदाहरण के तौर पर प्रेग्नेंसी के दौरान स्किन सिर्फ कुछ महीनों के लिए ही खिंचती है। बता दें कि ऐसा तब होता है जब त्वचा में कोलेजन और इलास्टिन बनना बंद हो जाता है और इसी कारण से स्किन लटक जाती है।

चेहरे को छोड़कर कहीं भी हो सकता है मार्क्स

स्ट्रेच मार्क्स पूरे शरीर में सिर्फ चेहरे को छोड़कर कहीं भी हो सकता है। हाथ, पैर, पेट और पीठ किसी भी जगह स्ट्रेच मार्क्स हो सकते हैं। स्ट्रेच मार्क्स सबसे ज्यादा बट, पेट और थाईज पर होता हैं।

Next Story
Top