Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

घर के बुजुर्गों का रखना है खास ख्याल, तो यूज़ करे ये स्पेशल मोबाइल एप्स

आपको हमेशा ही अपने घर के बड़े-बुजुर्गों की सुरक्षा और सेहत की चिंता लगी रहती है। कई बार आप उनके साथ मौजूद नहीं होती हैं, ऐसे में आपकी फिक्र और बढ़ जाती है। लेकिन अपनी मौजूदगी के बिना भी आप बुजुर्गों की सेहत और सुरक्षा का ध्यान रख सकती हैं। इसके लिए कुछ एप्स मददगार हो सकते हैं।

घर के बुजुर्गों का रखना है खास ख्याल, तो यूज़ करे ये स्पेशल मोबाइल एप्स
X

आपको हमेशा ही अपने घर के बड़े-बुजुर्गों की सुरक्षा और सेहत की चिंता लगी रहती है। कई बार आप उनके साथ मौजूद नहीं होती हैं, ऐसे में आपकी फिक्र और बढ़ जाती है, लेकिन अपनी मौजूदगी के बिना भी आप बुजुर्गों की सेहत और सुरक्षा का ध्यान रख सकती हैं। इसके लिए कुछ एप्स मददगार हो सकते हैं।

इसलिए आज हम आपको सीनियर सिटी़जंस की सेफ्टी और हेल्थ के लिए कुछ हेल्पफुल एप्स के बारे में बता रहे हैं । जिससे आप अपनों से दूर होकर भी हमेशा उनका ध्यान रख पाएगें।

यह भी पढ़ें : इन 5 खास संकेतों को गलती से भी न करें इग्नोर, हो सकती है अल्सर की बीमारी

बुजुर्गों के लिए हेल्पफुल एप्स :

स्मार्ट 24x7 एप

स्मार्ट 24x7 एप को खासतौर से सीनियर सिटिजंस के लिए डेवलप किया गया है। जब यह एप फोन में इंस्टॉल होता है तो फोन सेफ्टी डिवाइस की तरह काम करता है। इसे यूज करना भी बहुत आसान है।

एप के इंस्टालेशन से फोन में एक ‘पैनिक की’ क्रिएट होता है, जिससे जरूरत पड़ने पर नजदीकी पुलिस स्टेशन को एलर्ट किया जा सकता है। नजदीकी अस्पताल और एंबुलेंस से संपर्क साधा जा सकता है।

अगर बुजुर्ग किसी मुश्किल में हैं तो वह फोन का सेफ्टी बटन दबाकर, पहले से सेलेक्ट कुछ नंबर्स पर एसएमएस अलर्ट भेज सकते हैं। जिन लोगों को यह एसएमएस मिलेगा, वे बुजुर्गों की लोकेशन आसानी से पता लगा सकते हैं। यह एप बिल्कुल फ्री है, इसका इस्तेमाल एंड्रॉयड, आईओएस फोन यूजर्स, दोनों ही कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : जोड़ों के दर्द से हैं परेशान, घर में करें ये छोटा सा काम-तुरंत मिलेगा आराम

सीनियर सेफ्टी एप

यह एप भी सीनियर सिटिजंस की सुरक्षा को ध्यान में रखकर बनाया गया है। सीनियर सेफ्टी एप, फोन के लोकेशन को मॉनिटर करता है। साथ ही यह बुजुर्गों को भटकने और ऑनलाइन स्कैम से बचाता है। इस एप का इस्तेमाल 97 देशों में लोग कर रहे हैं।

फोन में सीनियर सेफ्टी एप के एक्टिव होने पर इमरजेंसी हेल्प के अलर्ट मिलने लगते हैं। इसमें आस-पड़ोस की जगहों, सड़कों और शहर से जुड़ी जानकारी भी मौजूद होती है। जरूरत के अनुसार इमरजेंसी कॉन्टेक्ट्स के बारे में जानकारी मिलती है।

समय-समय पर एप में नए फीचर्स को शामिल किया जाता है। यह एप सभी तरह के एंड्रायड फोन के लिए उपलब्ध है, इसे गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। एप का शुरुआती वर्जन फ्री है, लेकिन अपग्रेड वर्जन के लिए पेमेंट करनी पड़ती है।

मेडीसेफ एप

ओल्ड एज में हेल्थ प्रॉब्लम होना आम बात है। बुजुर्गों की हेल्थ को लेकर घर के सदस्य भी चिंतित रहते हैं। कई बुजुर्गों को मेमोरी से जुड़ी दिक्कत भी होती है। इसके चलते वे अकसर दवा खाना भूल जाते हैं। इस स्थिति में मेडीसेफ एप मददगार साबित हो सकता है।

इस एप में मेडिकेशन से जुड़ी लिस्ट को अपलोड करके रिमाइंडर सेट किया जा सकता है, इससे बुजुर्गों को अपनी दवा का समय याद रहता है। इस एप के जरिए ब्ल्ड प्रेशर और ग्लूकोज के लेवल को भी ट्रैक किया जा सकता है।

डॉक्टर के साथ बातचीत भी इस एप के जरिए संभव है। मेडिसेफ एप मेडिकल इंफॉर्मेशन भी सुरक्षित रखता है। एंड्रॉयड फोन यूजर्स इसे गूगल प्ले स्टोर से और आईओएस फोन यूजर्स इसे आई ट्यून से डाउनलोड कर सकते हैं। यह एप बिल्कुल फ्री है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story