Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सेल्फ इंप्रूवमेंट : अपनी खूबियों को पहचानिए बन जाइए दूसरों से अलग

अपनी कमियों के कारण खुद को कमतर आंकना, उनकी वजह से परेशान होना ठीक नहीं है। अपने भीतर जो भी कमी है, उनमें सुधार किया जा सकता है। लेकिन जरूरी यह भी है कि अपनी खूबियों, पर्सनालिटी के प्लस प्वाइंट्स को जानें, उन्हें अपनी स्ट्रेंथ बनाएं और खुद को स्पेशल फील करें।

ऐसे बनाइए अपनी इंप्रेसिव पर्सनालिटी
X

अकसर हम दूसरों के साथ अपनी तुलना करके खुद को कोसते रहते हैं। महिलाओं में तो यह आदत खासतौर से पाई जाती है। अभी कुछ समय पहले ब्रिटेन की एक संस्था वेट वॉचर्स ने अपने अध्ययन में पाया कि एक महिला दिन में करीब आठ बार अपने लुक्स, हुनर या अन्य बातों को लेकर खुद को कोसती है। इसमें आर्थिक स्थिति, करियर, वजन जैसी बातें भी शामिल हैं। सर्वे में यह भी पाया गया कि 46 फीसदी महिलाएं तो हर रोज खुद की ऐसी आलोचना करती हैं, जो कभी दूसरे भी नहीं करते होंगे। वेट वाचर्स के पब्लिक हेल्थ एंड प्रोग्रामिंग हेड जोए ग्रिफिथ का कहना है, 'आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में खुद अपनी आलोचना करने वाली महिलाओं की संख्या अधिक है। यह मानवीय दुर्बलता है कि वह खुद को कम और दूसरों को अच्छा समझता है। सच तो यह है कि सभी खास होते हैं, हर व्यक्ति किसी अलग फील्ड, काम में ज्यादा टैलेंटेड होता है।' इसलिए बेहतर होगा कि आप जिन चीजों में कमजोर हैं, उन्हें स्वीकारिए और सुधार की कोशिश कीजिए। लेकिन जिन चीजों में आप बेहतर हैं, उन्हें जानिए-पहचानिए और अपनी पर्सनालिटी की ताकत बनाइए। आप के भीतर कौन-सी खूबियां हो सकती हैं, इन्हें कैसे पहचानें, हम बताते हैं आपको-

आप हाजिर जवाब हैं

क्या आप किसी भी फैमिली फंक्शन में या सभा में चल रही बातचीत में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती हैं, किसी बात पर तपाक से जवाब दे देती हैं? क्या आपको कई बार यह सुनने को मिला है, 'भई, आपके पास तो हर बात का जवाब हाजिर है।' या 'जवाब देने की कला तो कोई आपसे सीखे।' या फिर शॉपिंग करते वक्त दुकानदार के हवाई वादों को अगर आप अपने तर्क से ध्वस्त कर देती हैं। कहीं तर्क-वितर्क होने पर आस-पड़ोस की महिलाएं या पति आपको साथ लेने की कोशिश करते हैं, कहते हैं, 'चलो, उन्हें तुम ही समझा पाओगी।' यदि इनमें से कोई गुण आपमें है तो समझ लीजिए कि आप एक हाजिर जवाब महिला हैं, जो हर किसी के बस की बात नहीं होती।

आप जिंदादिल हैं

शादी, जन्मदिन या किसी अन्य मौके पर आयोजित पार्टी में अगर आपको देखते ही परिचित कहने लगें कि अब आएगा मजा। भई, हम तो बोर हो रहे थे, अब आप आ गईं, तो हंसते-हंसते टाइम पास हो जाएगा। या कोई फोन करके कहे कि आप न आएंगी, तो पार्टी में रंगत नहीं आएगी, हंसी-खुशी का माहौल नहीं बनेगा। तो समझ जाएं कि आप एक जिंदादिल इंसान हैं। कमाल का सेंस ऑफ ह्यूमर हर किसी के पास नहीं होता है। इस क्वालिटी से हर किसी का चहेता, पसंदीदा इंसान आसानी से बना जा सकता है।

आप क्रिएटिव हैं

अगर आप घर में पड़ी टूटी-फूटी चीजों, बाग में सूखे पेड़ के तने को आप अपनी क्रिएटिविटी से नया रूप दे देती हैं। घर में आए ग्रीटिंग्स और शादी के कार्डों का इस्तेमाल करके आप खूबसूरत सा वॉल हैंगिंग बना लेती हैं। पुरानी टी-शर्ट को कलर करवाकर उस पर हाथ से मैसेज लिखकर पहनने लायक बना लिया है। या आप बैठे-बैठे शब्दों को जोड़कर तुकबंदी कर लेती हैं, किसी घटना को रोचक तरीके से कागज पर लिख लेती हैं, कविता-कहानी लिख लेती हैं, प्राकृतिक दृश्य देखकर खूबसूरत पेंटिंग बना सकती हैं, तो समझ जाएं आप क्रिएटिव महिला हैं। इस हुनर से अपनी एक अलग पहचान बनाई जा सकती है।

आप प्रैक्टिकल नॉलेज में बेहतर हैं

आपका एकेडमिक रिकॉर्ड बहुत अच्छा है, फिर भी आप कहीं नौकरी नहीं कर रहीं, होममेकर हैं। इस बात पर कभी-कभी अफसोस होता है। लेकिन अगर बच्चों का होमवर्क आप ही करवाती हैं, उनके लिए ट्यूशन नहीं लगवाया, खुद ही पढ़ाती हैं। आस-पास के बच्चे भी कई बार अपनी प्रॉब्लम लेकर आपके पास आ जाते हैं। सोसायटी के लोग या आपके रिश्तेदार किसी कंपनी या सरकारी महकमे से शिकायत होने पर मेल लिखवाने आपके पास पहुंच जाते हैं या प्रॉपर गाइडेंस मांगते हैं। किसी डॉक्टर का पता लगाना हो या किसी मैकेनिक को तलाश करना हो, तो नेट पर सर्च करके बताने के लिए आपसे रिक्वेस्ट करते हैं। इन बातों से पता चलता है कि आप न सिर्फ पढ़ने-लिखने में दूसरों से बेहतर हैं बल्कि आपकी प्रैक्टिकल नॉलेज भी अच्छी है। आपको तो अपनी इस क्वालिटी पर प्राउड फील होना चाहिए।

आप साहसी महिला हैं

अगर आप अपने माता-पिता से दूर किसी दूसरे शहर में अकेली रहकर पढ़ती या नौकरी करती हैं तो आप साहसी ही कहलाएंगी। आपने अब तक शादी नहीं की, क्योंकि पहले करियर संवारने पर ध्यान दे रही हैं। यह भी साहस का काम है। वैसे समाज की यही परंपरागत सोच होती है कि अकेली महिला का रहना सही नहीं है, खतरा रहता है। एक सिंगल वूमेन होने के नाते आप भी अकसर ऐसी बातें सुनती रहती होंगी। इन सब बातों के बारे में सोचने की बजाय अपनी ताकत के बारे में सोचें कि आप अकेली रहकर अपना जीवन गढ़ रही हैं, अपनी जिंदगी को अपने तरीके से, आजादी के साथ जी रही हैं।

Next Story