logo
Breaking

ये हैं सैनिटरी नैपकिन्स के साइड इफेक्ट्स, जानें PAD इस्तेमाल करने का सही तरीका

सैनिटरी नैपकिन्स से पर्यावरण को नुकसान तो है ही, साथ ही यह सेहत के लिए भी घातक है। सैनिटरी नैपकिन्स से महिलाओं को पर्सनल हाइजिन से जुड़ी कई सारी दिक्कतें हो सकती हैं। सैनिटरी नैपकिन्स के साइड इफेक्ट्स

ये हैं सैनिटरी नैपकिन्स के साइड इफेक्ट्स, जानें PAD इस्तेमाल करने का सही तरीका

सैनिटरी नैपकिन्स और टैम्पॉन्स, आमतौर पर महिलाओं के पीरियड्स के समय यूज होने वाली चीजें हैं। लेकिन अगर इसे सही तरीके से इस्तेमाल नहीं किया गया तो, इसके रेग्युलर यूज से आपको कई बीमारियां हो सकती हैं। सैनिटरी नैपकिन्स के साइड इफेक्ट्स भी होते हैं।

सैनिटरी नैपकिन्स से पर्यावरण को नुकसान तो है ही, साथ ही यह सेहत के लिए भी घातक है। सैनिटरी नैपकिन्स से महिलाओं को पर्सनल हाइजिन से जुड़ी कई सारी दिक्कतें हो सकती हैं।

एनडीटीवी की खबर के मुताबिक डॉ. रागिनी अग्रवाल का कहना है कि सैनिटरी नैपकिन्स का इस्तेमाल करने से महिलाओं में इंफेक्शन और जलन की शिकायत आमतौर पर देखी जाती है। ऐसी परेशानियां उन्हें पीरियड्स खत्म होने के बाद होती है।

सैनिटरी नैपकिन्स के साइड इफेक्ट्स

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि इन परेशानियों के कारण सैनिटरी पैड्स हैं। ज्यादा लंबे समय तक पैड्स या टैम्पॉन्स के रहने के कारण ऐसा होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इससे एयर सर्कुलेशन बहुत कम हो जाता है, जिसके कारण ज्यादा बैक्टिरिया पनपने लगते हैं। यही बैक्टिरिया पीरियड्स के कुछ दिनों बाद एलर्जी या इन्फेक्शन का कारण बन जाते हैं।

यह भी पढ़ें: ये हैं गर्मियों में पिये जाने वाले 5 देसी पेय पदार्थ, जिनको पीने से नहीं होती हैं कई बीमारियां

ये है सही तरीका

डॉ. रागिनी ने बताया कि इन परेशानियों से बचने के लिए कोशिश करें कि सैनिटरी पैड्स और टैम्पॉन का इस्तेमाल कम करें। इसकी जगह पर कॉटन पैड्स या फिर मेंस्ट्रुअल कप्स का इस्तेमाल करना बेहतर होगा। ये केमिकल फ्री होते हैं और सुरक्षित भी हैं।

पैड्स यूज करने के लिए टिप्स

  • पैड/टैम्पॉन को हर 4 घंटे में बदलें
  • पैड/टैम्पॉन को एक बार यूज करने के बाद दोबारा यूज ना करें
  • पैड/टैम्पॉन को यूज करने से पहले और बाद हाथों को अच्छे से साफ करें
  • पीरियड्स के समय टाइट पैंट या लोअर ना पहनें
  • ढीले-ढाले कपड़े पहनें, ऐसा करने से एयर सर्कुलेशन सही रहेगा और इंफेक्शन का खतरा कम होगा
  • पीरियड्स के दौरान प्राइवेट पार्ट को सूखा रखें
  • पीरियड्स के दौरान प्राइवेट पार्ट्स की अच्छे से सफाई करें और हमेशा साफ रखें
Share it
Top