Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

चार साल की उम्र में हो गया 44 किलो वजन, महीनों से बैठे-बैठे सोता है सोफे पर

डॉक्टर की सलाह पर खिलाने की आदत से बढ़ा वजन।

चार साल की उम्र में हो गया 44 किलो वजन, महीनों से बैठे-बैठे सोता है सोफे पर
कोलकाता. नवजात शिशु को ज्यादा खिलाना पिलाना कितना महंगा पड़ सकता है इसका एक नजारा आप पश्चिम बंगाल के चार साल के ऋषि को देखकर लगाया जा सकता है। ऋषि का वजन चार वर्ष की उम्र में वजन 44 किलो हो गया है। मोटापा की वजह से वह सामान्य लोगों की तुलना में वह सिर्फ 65 प्रतिशत ऑक्सीजन ही ले पाता है। नींद में तो और भी मुसीबत का सामना करना पड़ता है। क्योंकि सोते वक्त वह मात्र 42 प्रतिशत ही आक्सीजन ले पाता है। पिता दिपेन और मां हिना खटाऊ ऋषि की परेशानी समझ नहीं पाए और नेजल ड्रॉप डालकर उसे सुलाने की कोशिश करते रहे हैं। परेशान ऋषि बैठकर ही नींद लेने को मजबूर है। ऋषि की परेशानी इतनी बढ़ गई है कि वह कई महीनों तक वह सोफे पर बैठे-बैठे ही सोया है।
डॉक्टर की सलाह पर खिलाने की आदत से बढ़ा वजन-
ऋषि का वजन जन्म के समय मात्र 1.6 किलो का था। मां हिना खटाऊ बताती हैं कि डॉक्टर की सलाह पर मैंने हर दो घंटे में ऋषि को दूध देना शुरू किया। डेढ़ साल तक उसके खाने-पीने का खास ध्यान रखा। लेकिन इससे उसे हर समय खाने की आदत पड़ गई। ऋषि जब दो साल का हुआ तो हम डरने लगे। कहीं ऋषि की ये आदत जानलेवा न हो जाए। उसकी कमर 36 इंच हो चुकी थी। पिता की टी-शर्ट उसे फिट आने लगी थी।
इस दौरान इलाज की भी काफी कोशिश की गई, लेकिन ऋषि का कोई स्थायी इलाज नहीं कर पाया। इतना जरूर बताया गया कि यदि जल्द ही कुछ नहीं किया गया तो वह अपना अगला जन्मदिन नहीं मना पाएगा। अपने एक दोस्त की सलाह पर दिपेन ऋषि को लेकर अहमदाबाद के एक अस्पताल पहुंचे। हाल ही उसका वहां ऑपरेशन करा गया है। बताया गया है कि कुछ समय मेडिकल ट्रीटमेंट के बाद वह सामान्य बच्चों की तरह रह सकता है।
Next Story
Top