Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इसबगोल का ये प्रयोग ह्रदय को रखेगा स्वस्थ, डायरिया होगा छूमंतर

खाड़ी देशो में उगने वाला ये पौधा "इसबगोल" का महत्व लगातार बढ़ता जा रहा है। पाचन तंत्र से संबंधित समस्याओं में दवा के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। इसबगोल लगभग तीन फुट ऊंचे पौधे की कांप होती है।

इसबगोल का ये प्रयोग ह्रदय को रखेगा स्वस्थ, डायरिया होगा छूमंतर
X

आज के आधुनिक दौर में इलाज कराना बहुत मंहगा हो गया, लेकिन बीमारी होने पर हमें दवाई लेनी ही पड़ती हैं। इसलिए कुछ ऐसी जड़ी-बूटियां, फूल-पत्तियां हमारे लिए महत्वपूर्ण साबित होती हैं।

खाड़ी देशो में उगने वाला पौधा इसबगोल का महत्व लगातार बढ़ता जा रहा है। पाचन तंत्र से संबंधित समस्याओं में दवा के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। इसबगोल लगभग तीन फुट ऊंचे पौधे की कांप होती है।

यह बीजों के ऊपर सफेद भूसी होती है। इसबगोल के बीजों एवं भूसी में काफी मात्रा में म्यूसिलेज पाया जाता है, जिसके अंदर मुख्य रूप से जाईलोज, एरेविनोज रैमन्नोज और गैलेक्टोज आदि पाए जाते हैं।

अतिसार, पेचिश जैसे पेट की समस्याओं में 'इसबगोल' की भूसी का इस्तेमाल हो रहा है, इसकी खासियत यह है कि इसका साइड इफेक्ट भी नहीं होता है।

कब्ज, दस्त, जोड़ों के दर्द, मल में रक्त, पाचनतंत्र संबंधी गड़बड़ी, शरीर में पानी की कमी, मोटापा व डायबिटीज में इसबगोल काफी असरदार होता है। जोड़ों के दर्द, कब्ज व पाचनतंत्र को दुरूस्त करने के लिए रात के खाने के बाद एक गिलास गर्म दूध के साथ एक चम्मच इसबगोल की भूसी लेने से सुकून मिलता है।

दस्त के दौरान रक्तस्राव हो या लंबे समय से कब्ज हो तो आधा कप पानी के साथ इसकी भूसी लें। 20 मिलीलीटर की मात्रा में एक गिलास पानी में मिला लें और एक चम्मच इसबगोल के बीज साथ में लें। इससे आंतों में होने वाले संक्रमण दूर हो जाती हैं।

इसबगोल इन बीमारियों में होता हैं लाभकारी

वजन कम करें

अक्‍सर पेट यानी आपकी आंतों में मौजूद वेस्‍टेज खाने की वजह से ही शरीर में फैट बढ़ने लगता है, जब तक आपका पेट साफ नहीं होगा तब तक आप स्‍वस्‍थ्य नहीं रह सकते है। रात को सोते समय कुछ दिनों तक इसबगोल का सेवन करें। फाइबर युक्‍त इसबगोल के सेवन से वजन कम करने में भी मदद मिलती है।

इसे भी पढ़ें: महिलाएं स्वास्थ्य रहने के लिए अपनाएं ये टिप्स

कब्‍ज हो जाए छू

कब्‍ज एक ऐसी समस्‍या है जिससे ज्‍यादातर लोग पीड़ित होते हैं। कब्‍ज के कारण सिरदर्द और आलस्‍य की समस्‍या होना आम बात है, इसलिए कब्‍ज से छुटकारा पाना बहुत जरूरी है। अगर आप भी चाहते हैं कि कब्‍ज से आपको छुटकारा मिले तो रात को सोते समय दो चम्‍मच इसबगोल गुनगुने पानी से लें।

डायरिया से रखे दूर

क्‍या आप इस बात की कल्‍पना कर सकते हैं कि किसी एक होम रेमे‍डीज से आपका कब्‍ज और डायरिया दोनों ठीक हो जाए, तो ऐसा हो सकता है। इसबगोल के सेवन से इन दोनों समस्‍याओं में आराम मिल सकता है। इसबगोल को दही के साथ खाने से पेट संबंधी समस्‍या से छुटकारा मिल सकता है।

ह्रदय को रखे स्‍वस्‍थ्‍ा

इसबगोल में फाइबर होता है, इसके सेवन से कोलेस्‍ट्रॉल लेवल कम होता है जो ह्रदय संबंधी बीमारियों को खत्म करने में सहायक सिद्ध होता है। जैसा कि डॉक्‍टर भी यही सलाह देते हैं कि खाने में फाइबर ज्‍यादा और फैट कम होने से यह ह्रदय संबंधी बीमारियों से छूटकारा मिलता है।

इसके अलावा ह्रदय संबंधी समस्‍या के पीछे कब्‍ज और एसिडीटी भी एक बड़ी समस्या होती है, इसलिए इसबगोल के सेवन से बहुत सारी बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top