Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Women's Day Special: वूमेन डे पर ही नहीं बल्कि हर दिन दें महिला को सम्मान

Women's Day Special: सिर्फ एक दिन महिला दिवस के रूप में मनाकर हम महिलाओं के सम्मान की बात नहीं कर सकते। महिला का मान-सम्मान हर दिन करें। ताकि किसी भी घर की महिला के साथ कोई भी गलत न कर सके।

Women
X

Women's Day Special : पूरी दुनिया में हर साल 8 मार्च को अंतराराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। आप भी देखते होंगे के इस दिन कुछ लोग महिलाओं के बड़े गुणगान करते हैं। सोशल मीडिया पर भी कुछ लोग महिलाओं के हक आदि को लेकर एक से बढ़कर एक पोस्ट करने में लगे रहते हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि सिर्फ एक ही दिन महिलाओं को क्यों सम्मान दिया जाता है। जहां लोग एक दिन तो महिलाओं के सम्मान में तमाम भर के Women's Day Image, Women's Day Quote, Women's Day Shayri फेसबुक, इंस्टाग्राम, वॉट्सएप पर पोस्ट शेयर करते हैं। वहीं दिन खत्म भी नहीं होता है और महिलाओं के साथ छेड़छाड़ के मामले सामने आ जाते हैं।

महिलाओं की सुरक्षा एक बहुत बड़ा सवाल है

ऐसे में महिला दिवस किस काम जहां आज भी महिलाएं अपने हक के लिए लड़ रही हैं। जहां आज भी बेटी के गर्भ में आते ही उन्हें मार दिया जाता है। जहां आज भी महिलाओं की सुरक्षा एक बहुत बड़ा सवाल है वहां महिला दिवस के मौके पर महिलाओं के प्रति एक दिन वफादारी दिखाने का क्या फायदा है।

एक दिन का सम्मान किस लिए

जहां कुछ राक्षक अपनी हवस का शिकार 3 महीने की बच्ची को भी बना लेते हैं। लोग शराब पी कर महिलाओं के साथ मार पीट करते हैं। राह चलती लड़की के साथ छेड़छाड़ करते हैं। शायद ही ऐसा कोई दिन होता हो जब महिलाओं के साथ हुए अपराध की खबर सामने नहीं आती। ऐसे में एक दिन का सम्मान किस लिए। सिर्फ एक दिन सम्मान दिखा देने से महिलाओं के प्रति लोगों की सोच नहीं बदलती है।

बाहर की महिलाओं को भी सम्मान दें

अगर सच में आपके मन में महिलाओं के लिए आदर और सम्मान है। तो आपको सबसे पहले बहन, बेटियों के लिए अपना नजरिया बदलना होगा। पराए की बेटी या बहन को भी अपनी ही बेटी या बहन की नजर से देखना होगा। जैसे आप अपने घर की औरतों को इज्जत देते हैं। ठीक वैसे ही अगर आप बाहर की महिलाओं को भी सम्मान देंगे। तो हर लड़की या महिला के लिए हर रोज महिला दिवस होगा। जिससे महिलाएं समाज में डर के नहीं बल्की सम्मान के साथ चल सके।

महिलाओं को हर दिन दें सम्मान

जहां महिला अपने ही घर में सेफ फील न करती हो वहां महिला दिवस मनाने का केवल यह मतलब नहीं है। सिर्फ एक दिन महिलाओं को ऊंचे स्थान पर बैठाकर मान-सम्मान दे देने से कोई महिला दिवस नहीं मनता। सिर्फ एक दिन नहीं महिलाओं को हर दिन सम्मान देना चाहिए।

महिलाओं को उनकी आजादी दें

आपने अक्सर लोगों को यह कहते और देखा होगा कि तुम एक लड़की हो, तुम्हें ऐसा नहीं करना चाहिए, तुम्हें वैसा नहीं करना चाहिए। जहां लड़का तो अपने दोस्तों के साथ जब मन चाहे घूमने जा सकता है। लेकिन लड़कियों की बात आते ही सवाल उठने लगते हैं। क्या आजादी का हक सिर्फ पुरुषों को ही है महिलाओं को नहीं। ऐसे में भी थोड़ी समझदारी दिखानी होगी और महिलाओं को उनकी आजादी देनी चाहिए।

क्यों रहती हैं दूसरों पर निर्भर

अभी भी कुछ महिलाएं ऐसी हैं जो आज भी अपने पैैरेंट्स, पति या बच्चों पर निर्भर रहती हैं। ऐसे में महिलाओं को चाहिए की वे अपने आपको इतना मजबूत बनाएं कि उन्हें किसी की भी जरूरत न पड़े। और वो अपने हक की लड़ाई खुद लड़ सकें।

सिर्फ एक दिन के सम्मान की मोहताज नहीं महिलाएं

सिर्फ एक दिन महिला दिवस के रूप में मनाकर हम महिलाओं के सम्मान की बात नहीं कर सकते। महिला का मान-सम्मान हर दिन करें। ताकि किसी भी घर की महिला के साथ कोई भी गलत न कर सके। इसके लिए पुरुषों को खासतौर पर ठोस कदम उठाना चाहिए। क्योंकि नारी के सम्मान की बात घर से ही शुरू होती है। ऐसे में माहौल को एक दम साफ सुथरा बनाने के लिए हमें खुद की सोच बदलनी होगी।

Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story