Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

New Years Resolutions 2020 : ये हैं प्राइमरी स्टूडेंट्स के लिए टॉप 10 रेज्योलेशन टिप्स

New Years Resolutions 2020 : नया साल पर लोग बुरी आदतों और चीजों को छोड़कर कुछ नया ट्राई करने की तैयारी करते हैं। छोटे बच्चों में उत्साह बड़ों की तुलना में दो गुना होता है। ऐसे में आज हम प्राइमरी स्टूडेंट्स के लिए टॉप 10 न्यू ईयर रेज्योलेशन टिप्स लेकर आए हैं। जो आपको पढ़ाई के साथ आपके बिहेवियर और हेल्दी बनाने में फायदेमंद साबित होगा। आइए जानते हैं कि प्राइमरी स्टूडेंट्स को नए साल पर कौन से रेज्योलेशन लेने चाहिए।

New Years Resolutions 2020 : ये हैं प्राइमरी स्टूडेंट्स के लिए टॉप 10 रेज्योलेशन टिप्सन्यू ईयर रेज्यूलेशन्स 2020 / प्राइमरी स्टूडेंट्स के लिए नए साल के रेज्यूलेशन्स टिप्स

New Years Resolutions 2020 : 1 जनवरी से नये साल की शुरुआत हो जाएगी ऐसे में अगर आप कोई न्यू ईयर रेज्योलेशन ले रहे हैं और आपका छोटा बच्चा भी इसी तरह का कोई नए साल का संकल्प लेना चाहता है और आप उसकी इसमें मदद नहीं कर पा रहे हैं, तो परेशान न हों, क्योंकि आज हम आपको प्राइमरी के बच्चों के लिए रेज्योलेशन टिप्स बता रहे हैं। जो उन्हें बड़ा होने की फीलिंग के साथ बड़ों की तरह अपनी जिम्मेदारी उठाने का एहसास करवाएगें।

New Year Resolution 2020 / Top Ten New Years Resolutions For Primary Students


1. स्कूल में अपनी परफार्मेंस को बेहतर करना

अगर आपका बच्चा पढ़ाई में अच्छा नहीं है, तो ऐसे में आप उसे क्लास में अच्छे नंबर लाने और पढ़ाई में बेहतर रिजल्ट पाने के लिए उसके पसंद के समय पर पढ़ाई करने के लिए प्रोत्साहित करें और रोजाना उसे फॉलों करवाने में मदद करें।

2. डिसीप्लीन होना

बच्चा छोटा हो या बड़ा सभी का लाइफ में डिसीप्लीन होना बेहद जरुरी होता है। अगर आपका बच्चा बहुत ज्यादा शरारती है और आपकी बात को हमेशा इग्नोर करता है, तो ऐसे में कुछ दिनों तक आप उसकी बातों को इग्नोर करके उसे रोजाना के कामों को मैनेज करना और डिसीप्लीन होने के बारे में सिखा सकते हैं या नए साल में छोटे-छोटे कदमों के जरिए बताएं।


3. स्कूल को होमवर्क को समय से पूरा करना

आमतौर पर बच्चों का पढ़ाई की जगह खेलने में ज्यादा दिलचस्पी होती है। जिसकी वजह से वो अक्सर अपना होमवर्क तक करना भूल जाते हैं। जो एक गलत आदत है। ऐसे में आपबच्चे की पसंद के समय पर उसे अपना होमवर्क खत्म करने की आदत बनवा सकते हैं।

4. सभी से अच्छा व्यवहार करना

आज के दौर में बड़ों के साथ बच्चों में भी गुस्सा बहुत ज्यादा बढ़ गया है, ऐसे में अगर आप गु्स्से को कम करने के टिप्स को स्वयं पर अपनाते हैं, तो वो भी आपको देखकर उन्हें अपनाने की कोशिश करेगा। जिससे उसका गुस्सा शांत होगा और वो बड़े और छोटे लोगों से अच्छा व्यवहार करना सीख पायेगा।


5. हाथ धोने की आदत अपनाना

आमतौर पर बच्चों को प्राइमरी स्कूल में हाथ धोने के महत्व के बारे में बताया जाता है, लेकिन अक्सर बच्चे आलस या गंदी संगति की वजह से कई बार हाथ नहीं धोते हैं। जिससे वो गंभीर बीमारियों के शिकार भी बन जाते हैं। ऐसे में अगर आप उसे खाना खाने से पहले, टॉयलेट का उपयोग करने के बाद साबुन से हाथ धोने का संकल्प या रेज्योलेशन लेने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

6. फोन और वीडियो गेम का सीमित उपयोग करना

छोटे बच्चों में फोन और वीडियो गेम का बढ़ता प्रभाव धीरे-धीरे चिंता का विषय बनता जा रहा है। जिसका असर उनकी पढ़ाई, सेहत और मस्तिष्क पर पड़ रहा है। वो चीजों को भूलने लगते हैं, देर में बोलना शुरु करते हैं। ऐसे में आप बच्चों के साथ मिलकर फोन और फोन और वीडियो गेम का सीमित उपयोग करने का न्यू ईयर रेज्योलेशन लें।


7. घर के कामों में मां का हाथ बंटाना

प्राइमरी स्तर, बच्चों में अच्छी आदतों का विकास करने के लिए सबसे बेहतर समय होता है। ऐसे में अगर आप छोटे बच्चों के सामने घर के काम करते हैं, तो वो भी उसे करने की कोशिश करते हैं। ऐसे में आप उसे काम में हाथ बंटाने से रोके नहीं बल्कि हल्का और छोटा काम करने की परमिशन दें। इससे आप दोनों का रिश्ता भी मजबूत होगा।

8. एक्स्ट्रा करिकुलर में हिस्सा लेना

बच्चों के सर्वागीण विकास के लिए पढ़ाई के साथ एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी में हिस्सा लेना भी बेहद जरुरी होता है। ऐसे में अगर आपका बच्चा स्टेज पर जाने से डरता है या पढ़ाईके अलावा अन्य चीजों को करने में झिझक महसूस करता है, तो नए साल पर एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी में ट्राई करने के लिए प्रोत्साहित करें। इसके लिए आप घर से इसकीशुरुआत कर सकते हैं।


9. जंकफूड का सेवन कम करना

अगर आपका बच्चा बहुत ज्यादा जंक फूड खाता है और आप उसकी इस आदत को छुड़ाना चाहते हैं, तो ऐसे में आप उसे जंकफूड से होने वाले नुकसान के बारे में बताएं और सप्ताह या महीने में सिर्फ एक बार ही जंक फूड खाने का संकल्प लेने के लिए प्रोत्साहित करें।

10. शेयरिंग की आदत

प्राइमरी स्तर पर बच्चों में शेयरिंग की आदत लाने का सबसे अच्छा समय होता है। ऐसे में अगर आपके बच्चे में ये आदत नहीं है, तो आप उसके साथ अपनी चीजों को शेयर करके दूसरों के साथ बांटने वाली हैबिट का विकास कर सकते हैं। आप इसकी शुरुआत न्यू ईयर रेज्योलेशन के रूप में भी कर सकते हैं।

Next Story
Top