Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पब्लिक प्लेस में जिद्दी बच्चे के साथ भूलकर भी न करें ये गलती

बच्चे को इस दौरान कभी मारे-पीटे नहीं साथ ही 'गंदा बच्चा' या 'गंदी बच्ची' जैसे शब्दों का प्रयोग न करें छोटे बच्चों मिजाज बिगड़ जाए तो उन्हें समझाना मुश्किल होता है। खासतौर पर पब्लिक प्लेस पर अगर वह जिद करने या गुस्सा दिखाने लगें तो शर्मिंदगी का सामना करना पड़ जाता है इसलिए आज हम आपको जिद्दी बच्चों से पब्लिक प्लेस में बिहेव करने का तरीका बता रहे हैं।

पब्लिक प्लेस में जिद्दी बच्चे के साथ भूलकर भी न करें ये गलती
X

बच्चे को इस दौरान कभी मारे-पीटे नहीं साथ ही 'गंदा बच्चा' या 'गंदी बच्ची' जैसे शब्दों का प्रयोग न करें छोटे बच्चों मिजाज बिगड़ जाए तो उन्हें समझाना मुश्किल होता है। खासतौर पर पब्लिक प्लेस पर अगर वह जिद करने या गुस्सा दिखाने लगें तो शर्मिंदगी का सामना करना पड़ जाता है। इसलिए आज हम आपको जिद्दी बच्चों से पब्लिक प्लेस में बिहेव करने का तरीका बता रहे हैं।

बच्चों की परवरिश आसान काम नहीं हैं। खासतौर पर जब वह जिद करते हैं तो उन्हें समझाना काफी मुश्किल होता है। कुछ ऐसी सिचुएशंस भी होती हैं जहां बच्चे रोना-धोना और नखरे करना शुरू कर देते हैं। ऐसा ज्यादातर 1 से 5 के बच्चों के साथ होता है। पब्लिक प्लेस पर बच्चा अगर जिद पकड़ ले तो कई बार शर्मिंदगी का सामना भी करना पड़ता है।

कभी-कभी बच्चों की जिद और ऐसे नखरों को इग्नोर कर देना बेहतर होता है। उनको रोकने से मामला और भी बिगड़ सकता है। अगर आप उनके गुस्से पर ध्यान देने लगेंगे तो धीरे-धीरे वह ऐसा ज्यादा करने लगेंगे। अगर वह हाथ-पैर पटकते हैं, नोचते या काटते हैं तो इन हरकतों को इग्नोर करना मुश्किल होता है।

बच्चा जब जिद कर रहा हो तो उसकी डिमांड पूरी किए बिना उसे समझाने की कोशिश करें। बच्चे को इस दौरान कभी मारे-पीटे नहीं साथ ही 'गंदा बच्चा' या 'गंदी बच्ची' जैसे शब्दों का प्रयोग न करें। पब्लिक प्लेस पर आपको शर्मिंदगी न उठानी पड़े इसके लिए कुछ सिचुएशंस से पहले अपने आपको तैयार कर लें। जैसे बच्चे एक काम छोड़कर दूसरा काम करने जाते हैं तो उनका मूड खराब होता है।

घर से डे केयर के लिए जाते वक्त, डे केयर से घर आते वक्त, खाने के लिए खेलने से रोकने पर बच्चे ऐसा करते हैं। बच्चे एक बार इमोशनली चार्ज्ड हो जाते हैं तो वह नॉर्मल तरीके से नहीं सोचते। ऐसे में आपको धैर्य की जरूरत है। बतौर पैरेंट बच्चे को आपके साथ की जरूरत है। अगर आपको लगे कि बच्चे का मूड बिगड़ने वाला है तो उससे आई कॉन्टैक्ट बनाए रखें। उससे प्यार से बात करें और टच करके कंफर्टेबल फील करवाएं। उसका ध्यान बंटाने की कोशिश करें।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story