Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Palm Plant Care : घर में पाम प्लांट लगाने और देखभाल के तरीके

Palm Plant Care In Hindi : अगर आप अपने घर या गार्डन में ऐसे पौधे लगाना चाहती हैं, जो देखने में खूबसूरत हों, हरे-भरे रहें और जिन्हें ज्यादा देखभाल की जरूरत न पड़े तो आपके लिए पाम प्लांट सही ऑप्शन है। जानिए, पाम प्लांट को लगाने और देखभाल के तरीके के बारे में।

Palm Plant Care : घर में पाम प्लांट लगाने और देखभाल के तरीके
X
Palm Plant Care In Hindi

पाम एक खास किस्म का प्लांट है। इसे चाहे गार्डन में लगाएं या गमले में, यह जहां मौजूद होता है, उस जगह की खूबसूरती को बढ़ा देता है। इंडोर प्लांट के रूप में यह घर के इंटीरियर में नेचर की फीलिंग देता है। बहुत छोटे पाम को छोटे कंटेनर में लगाकर स्टडी टेबल पर भी रखा जा सकता है।




वैरायटीज हैं कई

आमतौर पर पाम की कुछ किस्में ही उगाई जाती हैं- कॉर्डिलाइन, ऑस्ट्रेलियाज (कैबिज ट्री) और चाइनीज विंडमिल पाम। इन किस्मों के पाम के लिए तेज धूप, रोशनी और पानी की जरूरत होती है। कुछ मरुस्थली पाम भी होते हैं, इनके लिए ज्यादा पानी की जरूरत नहीं होती। इसकी कुछ किस्में छायादार, नमी वाले वातावरण में भी पनप जाती हैं। पाम के बारे में यह माना जाता है कि इसे ज्यादा खाद की जरूरत नहीं होती। लेकिन इसे नियमित खाद-पानी के जरिए लंबे समय तक हरा-भरा रखा जा सकता है।

कैंटिया पाम, पाम की एक ऐसी किस्म है, जो घर के भीतर लगाई जा सकती है, लेकिन ग्रो करने पर यह बड़ा पेड़ बन जाता है। अगर इसके साइज को छोटा रखना हो तो इसकी कटिंग करते रहना चाहिए। पाम की कई ऐसी किस्में हैं, जो अच्छी देखभाल से, कुछ सालों में बढ़कर बड़ा पेड़ बन जाती हैं। इस पेड़ की सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि इसे ऊपर से ट्रिम नहीं करना पड़ता है। सभी पाम बीच के हिस्से बढ़ते हैं, ऊपर से काट देने पर इनका बढ़ना रुक जाता है।




कैसे लगाएं

पाम प्लांट लगाने से पहले मिट्टी को तैयार करें। अगर इसे गमले में लगाना है तो पहले जमीन की मिट्टी में लगाकर फिर गमले में लगाएं। लगाते समय इसके तने को जमीन के भीतर गहरा गड्ढा खोदकर लगाएं। अगर इसे एक जगह से दूसरी जगह लगाना है तो पहले की तुलना में गड्ढा ज्यादा गहरा खोदें। अगर इसे नर्सरी से खरीद रही हैं तो यह डेढ़ मीटर यानी 5 फीट की ऊंचाई का ही लें, इसकी दो से तीन शाखाएं मिट्टी से ऊपर होनी चाहिए।




देखभाल है जरूरी

पाम लगाने के बाद इसमें रोज पानी देना जरूरी है। पर्लर और कैंटिया पाम तेज धूप में खराब हो जाते हैं। लेकिन पिगमी डेट और वाशिंगटन पाम धूप बर्दाश्त कर लेते हैं। इन्हें एक बार गमले में लगाकर बार-बार दूसरी जगह नहीं लगाना चाहिए। इससे इनकी ग्रोथ रुक जाती है।

यह गर्म स्थान का पौधा है, इसलिए इसके गमले में पानी रुकना नहीं चाहिए, इससे इसकी जड़ें सड़ सकती हैं। इसके अलावा इस पौधे में पाम फर्टिलाइजर इस्तेमाल करना चाहिए, जो पोटैशियम, मैगनींज और दूसरे पोषक तत्वों से भरपूर होती है।

ऐसा न करने पर पोटैशियम की कमी के कारण पत्तियां पीली हो सकती हैं। पाम की ज्यादा कटाई-छंटाई नहीं करनी चाहिए। पत्तियां पीली हों तो ही उन्हें हटाना चाहिए। इनकी कटिंग, इसके साइज लोकेशन पर डिपेंड करती है। अगर इसे घर के भीतर लगाकर रखना चाहती हैं तो ध्यान रहे इसमें फूल कम आते हैं। लेकिन इसकी कई किस्में सालों-साल हरी-भरी रहती हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story