Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Lockdown:इस दौरान न समझे खुद को घर में कैद, चाणक्य की ये बातें करेंगी आपकी मदद

Lockdown: कोरोना वायरस की महामारी को रोकने के लिए देश में लॉकडाउन किया गया है। जिसके चलते लोग घर में बंद हैं और लोगो को बाहर निकलना सख्त मना है। इसी बीच आज हम आपको चाणक्य की कुछ बातें बताने जा रहे हैं, जो आपको इस परेशानी भरे समय में मजबूत बनाने में मदद करेगी। तो चलिए जानते हैं चाणक्य की नीति के बारे में।

Lockdown:इस दौरान न समझे खुद को घर में कैद, चाणक्य की ये बातें करेंगी आपकी मदद
X
चाणक्य नीति (फाइल फोटो)

Lockdown: कोरोना का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। चीन से शुरु हुए इस खतरनाक वायरस ने दुनिया के ज्यादातर देशों में तहलका मचाया हुआ है। वहीं इसे रोकने के लिए भारत में भी लॉकडाउन किया गया है। वहीं लोगों को घरों में रहकर खुद को कोरोना से बचाव करने के लिए कहा गया है। इसके चलते लोग घर में बंद हैं और लोगो को बाहर निकलना सख्त मना है। इसी बीच आज हम आपको चाणक्य की कुछ बातें बताने जा रहे हैं, जो आपको इस परेशानी भरे समय में मजबूत बनाने में मदद करेगी। तो चलिए जानते हैं चाणक्य की नीति के बारे में।

अपने प्लान किसी को न बताएं।

जहां आप लॉकडाउन के दौरान घर में बंद हैं। आपका घर से बाहर निकलना है, तो ऐसे में आपके पास समय ही समय है। ऐसे में आप अपने जीवन में सफल होने के लिए योजनाएं भी बना सकते हैं। इन योजनाओं को कैसे अमल करना है, उस पर गौर करें। लेकिन चाणक्य के मुताबिक आपको अपनी योजनाओं के बारे में किसी से भी जिक्र नहीं करना चाहिए।

नेगेटिव लोगों से दूर रहें।

आपने भी अक्सर देखा होगा कि कुछ लोगों के पास सब कुछ होता है। इसके बावजूद भी वे किसी न किसी बेकार बात को लेकर हमेशा दुखी रहते हैं। वहीं अगर ऐसे लोग आपको फोन करके या मैसेज करके अपना दुख जाहिर करते हैं। ऐसे में समझदारी है कि आप ऐसे लोगों से दूरी बनाकर रखें। वहीं चाणक्य की नीति के अनुसार ऐसे लोगों के साथ रहकर आपका कुछ भला नहीं होता है। ऐसे लोग केवल नेगेटिविटी ही फैलाने का काम करते हैं।

पास्ट को छोड़, फ्यूचर पर ध्यान दें।

जहां लोगों के पास लॉकडाउन के दौरान समय ही समय है। वहीं कुछ लोग अपना समय पास्ट की बातों में बिताते हुए नजर आ रहे हैं। जिसे सोचकर वो खुद को काफी दुखी भी कर लेते हैं। वहीं चाणक्य की नीति के अनुसार कभी भी पुराने दिनों को ज्यादा नहीं सोचना चाहिए। जो हो गया उसे बदला नहीं जा सकता है। पुरानी बातें आपको दुख के सिवा कुछ नहीं देती हैं। ऐसे में बेहतर है कि आप पास्ट को छोड़कर भविष्य पर दें। आने वाले समय के लिए प्लान करें।

फ्यूचर के लिए रुपये बचा कर रखें।

बुरा वक्त कब आ जाए कुछ कहा नहीं जा सकता है। वहींं चाणक्य के मुताबिक इंसान को अपने बुरे वक्त के लिए रुपये बचा कर रखने चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि हमेशा अपनी स्त्री की रक्षा भी करना चाहिए।


Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story